Expert

आयुर्वेद के अनुसार दोपहर का भोजन भारी क्यों होना चाहिए? जानें एक्सपर्ट से

Why Lunch Should Be your Biggest Meal: दोपहर का भोजन आपको पूरे दिन के लिए ऊर्जा प्रदान करता है, जानें दोपहर में भारी भोजन क्यों करना चाहिए।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: May 13, 2022Updated at: May 13, 2022
आयुर्वेद के अनुसार दोपहर का भोजन भारी क्यों होना चाहिए? जानें एक्सपर्ट से

दोपहर के भोजन या लंच का अपना एक विशेष महत्व है। यह आपके दिन भर का सबसे महत्वपूर्ण भोजन होता है। क्योंकि दोपहर के समय लोग अक्सर थकान महसूस करने लगते हैं और उनके शरीर में एनर्जी कम होने लगती है। हम में से ज्यादातर लोग ऑफिस, कॉलेज जाते हैं और हम सभी बस सुबह नाश्ता करके घर से निकल लेते हैं। लेकिन दोपहर होते-होते हम थकने लगते हैं और उसके बाद भी पूरे दिन एनर्जी की आवश्यकता होती है। इसलिए आयुर्वेद में दोपहर के भोजन को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि यह आपको पूरे दिन के लिए काम करने की ऊर्जा प्रदान करता है। यहां तक कि आयुर्वेद की मानें तो आपको अपने दिन का सबसे भारी भोजन दोपहर में ही करना चाहिए। अक्सर लोगों के मन में यह सवाल आता है कि आखिर ऐसा क्यों है (Why Lunch Should Be your Biggest Meal in Hindi)? चिंता न करें, इस लेख में हम आपको इसके बारे में विस्तार से बता रहे।

आयुर्वेद के अनुसार दोपहर में भारी भोजन क्यों करना चाहिए? (Why Lunch Should Be Your Biggest Meal in Hindi)

आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. रेखा राधामोनी (BAMS, Ayurveda) के अनुसार हम सभी यह अच्छी तरह जानते हैं कि आयुर्वेद में सब कुछ अच्छे पाचन पर निर्भर करता है, अच्छे और मजबूत पाचन का अर्थ है अच्छी सेहत। आयुर्वेद के अनुसार सूरज के अनुसार भोजन करना आपके भोजन को पचाने में अहम भूमिका निभाता है। आप सूरज को देखें, जब वह उगता है तो उसकी रोशनी और गर्मी बहुत हल्की होती है, लेकिन दोपहर होने तक यह काफी गर्म हो जाता है और शाम तक वापस ठंडा होने लगता है।

इसे भी पढें: गर्मी में जौ का शरबत पीने से बॉडी रहती है कूल, न्यूट्रिशनिस्ट से जानें इसके 5 फायदे और आसान रेसिपी

"आयुर्वेद के अनुसार हमारी पाचन अग्नि सूरज की नकल करती है। सुबह के समय जब सूरज उगता है तो हमारी पाचन अग्नि कमजोर होती है। लेकिन जैसे-जैसे सूरज दोपहर तक अपने पीक पर होता है, उस दौरान हमारी पाचन अग्रि भी अपने इष्टतम स्तर पर होती है और शाम होने तक यह वापस से कमजोर होने लगती है। यही कारण है आयुर्वेद दोपहर में दिन का सबसे भारी भोजन करने की सलाह देता है। क्योंकि उस दौरान हम जो कुछ भी खाते हैं हमारी पाचन अग्रिन मजबूत होने के कारण आसानी से पच जाता है। लेकिन सुबह, शाम और रात में आपको हल्का भोजन करना चाहिए, क्योंकि आपकी इस दौरान आपकी पाचन अग्नि कमजोर होती है।"

दोपहर का भोजन करने का सही समय क्या है? (Right Time To Eat Lunch In Hindi)

आयुर्वेद के अनुसार दोपहर में भोजन करने का सही समय दिन में 12 बजे से 2 बजे तक होता है। यह वह समय है जब आपकी पाचन अग्रि अपने इष्टतम स्तर पर होती है। इस दौरान आप जो कुछ भी खाएंगे वह आसानी से पच जाएगा। लेकिन अगर आप 2 बजे के बाद भोजन कर रहे हैं तो कोशिश करें कि आप ज्यादा भारी चीजें न खाएं, नहीं तो इससे पेट और पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

गर्मियों में ठंडाई पीने से मिलते हैं ये 5 फायदे, जानें घर पर स्वादिष्ट ठंडाई बनाने की रेसिपी

दोपहर के भोजन में आपको क्या खाना चाहिए? (What To Eat In Lunch In Hindi)

भले ही आप दोपहर के समय जो कुछ भी खाते हैं वह आसानी से पच जाता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप जंक और प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन करें। क्योंकि यह सिर्फ आपको थोड़े समय ही एनर्जी देते हैं, और ये जल्दी पच जाते हैं। इनमें पोषक तत्व नहीं होते हैं इसलिए आपको जल्दी भूख लगने लगती है, नतीजतन आप ज्यादा खाते हैं। इससे आप मोटापे के साथ ही कई गंभीर बीमारियों का शिकार हो सकते हैं। इसलिए कोशिश करें कि दोपहर में पोषक तत्वों से भरपूर भोजन करें। सलाद खाएं, दही या लस्सी जरूर पिएं। छोले, राजमा, दाल, नॉन वेज  जैसी प्रोटीन वाले फूड्स को खाने का यह सबसे अच्छा समय है। आप रोटी और चावल दोनों का ही सेवन इस दौरान कर सकते हैं।>

All Image Source: Freepik.com

Disclaimer