लड़कियों को क्यों रहता है अर्थराइटिस का ज्यादा खतरा? डॉक्टर से जानें अर्थराइटिस के सभी प्रकार और उनके लक्षण

Arthritis in Girls : लड़काें की तुलनाे में लड़कियाें काे अर्थराइटिस अधिक प्रभावित करता है। जानें इसके लक्षण, कारण और प्रकार-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Oct 13, 2021
लड़कियों को क्यों रहता है अर्थराइटिस का ज्यादा खतरा? डॉक्टर से जानें अर्थराइटिस के सभी प्रकार और उनके लक्षण

लड़काें की तुलना में लड़कियाें काे अर्थराइटिस हाेने की संभावना अधिक क्याें रहती हैं? इस पर ग्लाेबल हॉस्पिटल, मुंबई के वरिष्ठ सलाहकार-हड्डी रोग और ज्वाइंट रिप्लेसमेंट के डॉक्टर श्रीधर अर्चिक (Dr Shreedhar Archik, Senior Consultant-Orthopedics and Joint Replacement, Global Hospitals, Mumbai) बताते हैं कि लड़कियाें काे अर्थराइटिस हाेने का जाेखिम अधिक हाेता है। लड़कियाें काे जेआए यानी जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस (Juvenile Rheumatoid Arthritis) हाेने की संभावना अधिक रहती है। 

arthritis in girls

लड़कियाें में अर्थराइटिस अधिक हाेने के कारण (Causes of Arthritis in Girls)

डॉक्टर श्रीधर बताते हैं कि लड़काें के मुकाबले लड़कियां अर्थराइटिस खासकर जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस (रूमेटाइड अर्थराइटिस मरीजाें के लिए डाइट टिप्स) से अधिक प्रभावित हाेती हैं। इसके दाे कारण हैं। पहला- महिलाओं या लड़कियाें काे पुरुषाें की तुलना में अधिक संख्या में ऑटाेइम्यून बीमारियां हाेती हैं। महिलाओं की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत और अधिक प्रतिक्रियाशील हाेती है। दूसरा- हॉर्माेन आरए यानी रूमेटाइड अर्थराइटिस जाेखिम और फ्लेरेस काे प्रभावित करते हैं। इन दाे कारणाें की वजह से अकसर ही लड़कियाें में लड़काें के मुकाबले अर्थराइटिस हाेने की संभावना अधिक रहती है।

इसे भी पढ़ें - World Arthritis Day 2021: अर्थराइटिस से जुड़े 7 मिथक (भ्रम), जिन्हें लोग मानते हैं सही? जानें इनकी सच्चाई

जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस के प्रकार (Types of Juvenile Rheumatoid Arthritis)

1. पॉसीआर्टिकुलर (Pauciarticular) 

पॉसीआर्टिकुलर अर्थराइटिस का सबसे सामान्य प्रकार है। यह अर्थराइटिस आमतौर पर घुटनाें और जाेडा़ें काे प्रभावित करता है। यह अर्थराइटिस 8 साल से कम उम्र की लड़कियाें में अधिक देखने काे मिलता है। यह छाेटी लड़कियाें काे अधिक प्रभावित करता है। पॉसीआर्टिकुलर जेआरए वाले कुछ लड़कियाें में रक्त में असामान्य प्राेटीन हाेते हैं, जिन्हें एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी कहा जाता है।

2. पॉलीआर्टिकुलर (Polyarticular)

जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस वाली सभी लड़कियाें में से लगभग 30 प्रतिशत लड़कियाें काे पॉलीआर्टिकुलर राेग ाहेता है। इसमें 5 से अधिक जाेड़ प्रभावित हाेते हैं। यह अर्थराइटिस हाथ, पैराें के जाेड़ के साथ ही बड़े जाेड़ाें काे भी प्रभावित कर सकता है।

3. प्रणालीगत (Systemic) 

प्रणालीगत जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस में सूजन, बुखार, हल्के गुलाबी रंग के दाने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। यह हृदय, लिवर, लिम्फ नाेड्स आदि आंतरिक अंगाें काे भी प्रभावित कर सकता है। इस अर्थराइटिस से पीड़ित लड़कियाें का एक छाेटा प्रतिशत कई जाेड़ाें में गठिया विकसित करता है। यह गठिया गंभीर भी हाे सकता है।

symptoms of arthritis in girls

सभी प्रकार के अर्थराइटिस के सबसे आम लक्षण (Common Symptoms of Arthritis)

अर्थराइटिस के 100 से अधिक प्रकार हाेते हैं। लेकिन जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस इसका सबसे सामान्य प्रकार है। जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस के 3 प्रकार हाेते हैं। किसी भी व्यक्ति में अर्थराइटिस हाेने पर कई लक्षण नजर आते हैं। वैसे ताे सभी प्रकार के अर्थराइटिस के लक्षण अलग-अलग हाे सकते हैं, लेकिन कुछ ऐसे लक्षण हैं, जाे सभी प्रकार के अर्थराइटिस में देखने काे मिल सकते हैं। 

  • जाेड़ाें में लगातार दर्द
  • जाेड़ाें में सूजन और जकड़न
  • बुखार (आता-जाता रहता है) 
  • भूख कम लगना
  • लगातार वजन कम हाेना
  • शरीर पर धब्बेदार दाने

ये सभी लक्षण ऐसे हैं, जाे सभी तरह के अर्थराइटिस में देखने काे मिल सकते हैं। अगर आपकाे इनमें से काेई भी लक्षण नजर आए, ताे तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें। डॉक्टर आपकाे जांच करके बता सकते हैं कि आपकाे अर्थराइटिस है या नहीं। साथ ही इस बात की भी जानकारी मिल सकती है कि कौन-से प्रकार का अर्थराइटिस आपकाे है।

इसे भी पढ़ें - Arthritis Day: रीढ़ की हड्डी को कैसे प्रभावित करता है अर्थराइटिस? जानें स्‍पाइन को इस रोग से बचाने के 7 उपाय

अर्थराइटिस के लिए बचाव टिप्स (Prevention Tips for Arthritis)

जीवनशैली में बदलाव करके सभी तरह की बीमारियाें से अपना बचाव (गठिया के लिए घरेलू उपाय) किया जा सकता है। अगर आप अर्थराइटिस से अपना बचाव करना चाहते हैं, ताे इस स्थिति में आपकाे कुछ चीजाें का ध्यान रखना हाेगा। इससे आपकाे काफी हद तक अर्थराइटिस के लक्षणाें से बच सकते हैं।

arthritis in girls

रेगुलर एक्सरसाइज : नियमित रूप से एक्सरसाइज करके आप अर्थराइटिस से अपना बचाव कर सकते हैं। इससे मांसपेशियाें काे ताकत मिलती है और ज्वाइंट्स की फ्लेक्सिबिलिटी बढ़ती है।

गर्म पानी : अगर आपकाे ठंडे पानी से नहाने में ठंडा लगता है या इस पानी से नहाने के बाद आपकाे अधिक दर्द महसूस हाेता है, ताे इस स्थिति में आप गर्म पानी से नहा सकते हैं। 

अच्छा आहार : अर्थराइटिस में अकसर वजन कम हाेने लगता है। ऐसे में अच्छी डाइट फॉलाे करके और शारीरिक सक्रियता से वजन बढ़ाया जा सकता है।

कैल्शियम काे डाइट में शामिल : कैल्शियम हड्डियाें की मजबूती के लिए एक जरूरी पाेषक तत्व है। अकसर शरीर में कैल्शियम की कमी हाेने पर जाेड़ाें में दर्द हाेता है। ऐसे में आप कैल्शियम युक्त डाइट जरूर लें।

आप भी इन बचाव टिप्स काे फॉलाे करके गंभीर जुवेनाइल रूमेटाइड अर्थराइटिस से अपना या अपनाें का बचाव कर सकते हैं। 

(Images : Freepik )

Disclaimer