Doctor Verified

बच्चे मिट्टी क्यों खाते हैं? डॉक्टर से जानें इसका कारण, नुकसान और बचाव के टिप्स

अक्सर आपने देखा होगा कि बच्चे मिट्टी या चॉक खाने लगते हैं, जानें बच्चों में मिट्टी खाने की आदत क्यों होती है?

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jun 01, 2022Updated at: Jun 01, 2022
बच्चे मिट्टी क्यों खाते हैं? डॉक्टर से जानें इसका कारण, नुकसान और बचाव के टिप्स

छोटे बच्चों को आपने कई बार मिट्टी, चॉक या दीवार को खरोंच कर खाते हुए देखा होगा। बच्चों की इन आदतों को लेकर पेरेंट्स अक्सर परेशान रहते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि बच्चे चॉक या मिट्टी क्यों खाते हैं? आमतौर पर बच्चों के मिट्टी या चॉक खाने को लेकर यह कहा जाता है कि ऐसा बच्चे शरीर में कैल्शियम या आयरन की कमी होने की वजह से करते हैं। मिट्टी या चॉक खाने की आदत सिर्फ बच्चों में ही नहीं होती है कई बार बड़े लोग भी ऐसा करने लगते हैं। कई अध्ययन यह कहते हैं कि बच्चों में मिट्टी या चॉक खाने की आदत शरीर में कुछ पोषक तत्वों की कमी की वजह से होती है। लेकिन यह जरूरी नहीं है कि हर बच्चे की मिट्टी खाने की आदत सिर्फ शरीर में पोषक तत्वों की कमी की वजह से हो। कई बार बच्चों में मिट्टी खाने या चॉक खाने की आदत कुछ ईटिंग डिसऑर्डर की वजह से भी लग जाती है। आइये विस्तार से जानते हैं कि बच्चे मिट्टी क्यों खाते हैं? इसकी वजह से क्या नुकसान हो सकते हैं?

बच्चे मिट्टी क्यों खाते हैं? (Why Does Baby Eat Soil?)

ज्यादातर मामलों में यह माना जाता है कि बच्चे मिट्टी या चॉक शरीर में कैल्शियम और आयरन की कमी की वजह से खाते हैं। लेकिन इसके पीछे कई अन्य कारण भी हो सकते हैं। एससीपीएम हॉस्पिटल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ शेख जफर के मुताबिक बच्चे मिट्टी या चॉक कई वजहों से खाते हैं। कई बच्चों में यह आदत सिर्फ मिट्टी और चॉक तक ही सीमित नहीं रहती है। उनकी नॉन फूड आइटम को मुंह में डालने की आदत शुरू हो जाती है। ऐसा PICA डिसऑर्डर की वजह से हो सकता है। इसके अलावा कई शोध और अध्ययन इस बात की पुष्टि करते हैं कि बच्चों की मिट्टी खाने की आदत शरीर में आयरन और कैल्शियम जैसे पोषक तत्वों की कमी की वजह से हो सकती है। शरीर में इन जरूरी पोषक तत्वों की कमी के कारण उनकी नॉन फूड आइटम्स को खाने की आदत शुरू हो सकती है। इसके अलावा कई मामलों में बच्चे उत्सुकता वस या आदतन मिट्टी या चॉक आदि खाने लगते हैं। बच्चों में चीजों का स्वाद और सुगंध जानने की इच्छा होती है और उन्हें ऐसा करना अच्छा लगता है। बच्चों में मिट्टी या चॉक खाने की आदत के कुछ प्रमुख कारण इस तरह से हैं। 

why does baby eat Mud

इसे भी पढ़ें : बच्चों की चीजों को मुंह में डालने की आदत पड़ सकती है सेहत पर भारी, पैरेंट्स रखें इन बातों का ध्यान

  • शरीर में कैल्शियम, आयरन और जिंक की कमी। 
  • ईटिंग डिसऑर्डर की वजह से। 
  • किसी चीज की महक या स्वाद जाने की उत्सुकता। 
  • आदत की वजह से। 
  • ऑटिज्म नामक बीमारी की वजह से।

बच्चे के मिट्टी खाने के नुकसान (Side Effects Of Eating Soil or Clay in Hindi)

बच्चों या बड़ों की मिट्टी या चॉक खाने की आदत उनके लिए बहुत नुकसानदायक हो सकती है। इसकी वजह से उन्हें कई समस्याएं हो सकती हैं और कई मामलों में इसके गंभीर परिणाम भी देखने को मिलते हैं। मिट्टी कोई खाने की चीज नहीं है और इसमें तमाम तरह के केमिकल्स और अन्य हानिकारक चीजें मौजूद हो सकती हैं जो कई गंभीर समस्याओं का कारण बन सकती हैं। मिट्टी खाने की वजह से पेट और आंतों में संक्रमण भी हो सकता है। इसकी वजह से पेट में कीड़े की समस्या भी हो सकती है। मिट्टी खाने के नुकसान इस तरह से हैं।

1. मिट्टी खाने की आदत की वजह से बच्चे के आंत और पेट में संक्रमण की समस्या हो सकती है। मिट्टी खाने से इसमें मौजूद कीड़े और परजीवी पेट में जा सकते हैं और इसकी वजह से गंभीर संक्रमण का सामना करना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें : छोटे बच्चों को क्यों लग जाती है स्मार्टफोन की लत? जानें कारण और बचाव

2. बच्चों द्वारा मिट्टी या चॉक खाने से उनके पेट में कीड़े की समस्या हो सकती है। इसके कारण पेट में लगातार दर्द, भूख न लगना और उल्टी या मतली की समस्या भी हो सकती है।

3. मिट्टी खाने की वजह से दांतों को गंभीर नुकसान होता है। मिट्टी में मौजूद हानिकारक तत्व और परजीवी दांतों को गंभीर नुकसान पहुंचा सकते हैं।

4. मुहं में संक्रमण का खतरा भी मिट्टी खाने की वजह से बना रहता है।

बच्चों की मिट्टी खाने की आदत छुड़ाने के टिप्स (How To Stop Children From Eating Mud in Hindi)

बच्चों की मिट्टी खाने की आदत को छुड़ाने के लिए सबसे पहले उन्हें ऐसा करने से मना करना चाहिए। इसके अलावा बच्चों की डाइट में पर्याप्त मात्रा में आयरन, जिंक और कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों को जरूर शामिल करना चाहिए। अगर आपके बच्चे में यह आदत लंबे समय से है तो इसके लिए आपको डॉक्टर से संपर्क जरूर करना चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer