बच्चों का पैर की उंगलियों के बल चलना हो सकता है इस बीमारी का संकेत, जानें क्या है ये और इसके कारण

लगभग 5% सभी छोटे बच्चे कुछ समय तक पैरों की उंगलियों के बल चलते हैं। पर 5 साल की उम्र के बाद भी वो यही कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Apr 10, 2020
बच्चों का पैर की उंगलियों के बल चलना हो सकता है इस बीमारी का संकेत, जानें क्या है ये और इसके कारण

पैर की उंगलियों या अगूंठे पे बल दे कर चलना एक पैटर्न है, जिसमें एक बच्चा अपने पैरों की एड़ी नहीं पर चलता है बल्कि आगे वाली उंगलियों के बल देकर चलता है। ऐसे बच्चों में पैर की एड़ी हमेशा ऊंची होती है और पैर और जमीन के बीच कोई संपर्क नहीं होता है। पैर की उंगलियों पर चलना उन बच्चों में आम है, जो चलना सीख रहे हैं। हालांकि, 2 वर्ष की आयु के बाद, अधिकांश बच्चे पैर की उंगुली को चलना शुरू कर देते हैं और धीरे-धीरे एड़ी के बल चलने लगते हैं। पर कुछ मामलों में, 2 साल की उम्र के बाद भी बच्चे पैर की उंगुली पर ही चलते रहते हैं, जो कि एक चिकित्सा स्थिति का संकेत हो सकता है। ऐसे बच्चों के पैरों की मांसपेशियों और टेंडेन्स (tendons) में दर्द रहता है और उन्हें आगे जाकर ये और परेशान कर सकती है।

insidesymptomsoftoewalking

बच्चों में 'टो वॉकिंग' (Toe Walking)

टो वॉकिंग (Toe Walking) यानी की पैरों की उंगलियों बल चलना शिशु में तो आम है, पर बड़े बच्चों में ये होने पर कई बीमारियों के संकेत हो सकते हैं। दरअसल कुछ शर्तों के साथ पंजोंके बल चलना सेरेब्रल पाल्सी (Cerebral palsy), मांसपेशियों की डिस्ट्रोफी (Muscular dystrophy) और एक ऑटिज्म (Autism) स्पेक्ट्रम बीमारी के लक्षण भी हो सकते हैं। वहीं अगर आपका बच्चा दो साल की उम्र में अपने पैर की उंगलियों पर चलता है, तो आप इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं। ऐसे बच्चों की टांगों की मांसपेशियां तंग होती हैं, और मांसपेशियों में समन्वय की कमी है, जिसके कारण वो बराबर से पूरे पैर पर नहीं चल पाते हैं।

बढ़ाएं अपना हेल्थ ज्ञान, खेलें ये क्विज :Loading...

बच्चों में पैर की उंगलियों पर चलना क्या है?

जब आपका बच्चा पहले कुछ कदम उठाना सीखता है, तो पैर की अंगुली चलना काफी आम है, लेकिन कुछ मामलों में, यह कुछ अंतर्निहित स्थितियों का लक्षण हो सकता है, जैसे:

एड़ी से जुड़ी परेशानी (A short Achilles tendon) 

दरअसल जब बच्चे के पैर की मांसपेशियों एड़ी के पीछे से टेंडेन से अजीब तरीके से जुड़ा हुआ होता है, तो बच्चे में ये परेशानी होती है। ऐसे में अगर ये मांसपेशी छोटी है, तो यह एड़ी को जमीन को छूने से रोकती है। और इस तरह बच्चा एड़ी जमीन पर रखकर नहीं चल पाता है। उसे पंजों के बल चलने में ही आसानी महसूस होती है और वो फिर हमेशा ही अंगूठे के बल या पैरों की आगे के उंगुलियों के बल चलता रहता है। इस स्थिति ऐसे बच्चे को हड्डी के डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : Thyroid In Children: बच्चों में 3 तरह का होता है थायराइड, टेस्ट करा के तुरंत शुरू करें इलाज

सेरेब्रल पाल्सी (Cerebral palsy)

पैर की उंगलियों पर चलना, मांसपेशियों और इसके बनावट से जुड़ी विकारों के कारण हो सकता है। बता दे कि बच्चे के मस्तिष्क के कुछ हिस्सों के चोट या असामान्य विकास के कारण बच्चे उंगलियों के बल चलने लगते हैं। ऐसा इसलिए भी होता है क्योंकि दिमाग मांसपेशियों के कार्य को नियंत्रित नहीं कर पाता है। इस तरह के बच्चें में सेरेब्रल यानी मसि्तष्क के दोनो भाग में पाल्सी हो जाता है, जिसका मतलब है कोई ऐसा विकार या क्षति, जो शारीरिक गति के नियंत्रण को क्षतिग्रस्त करती है।

insidetoewalkinginkids

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी (Muscular dystrophy)

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी एक आनुवांशिक बीमारी है, जिसमें मांसपेशियों के फाइबर क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और समय के साथ कमजोर हो जाते हैं। यह स्थिति उन बच्चों में अधिक आम है, जो शुरू में सामान्य रूप से चले और बाद में पैर की उंगलियों चलने लगे।

इसे भी पढ़ें : मूंगफली खाते ही आपके बच्चों को भी होती हैं ये 7 परेशानियां? हो सकते हैं Peanut Allergy के लक्षण

ऑटिज्म (Autism)

पैर की उंगलियों का घूमना ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर के साथ भी जोड़ा गया है, जो एक बच्चे को दूसरों के साथ संवाद करने और बातचीत करने की क्षमता को भी प्रभावित करता है।पैर की उंगलियों परचलने की आदत, जिसे इडियोपैथिक पैर की उंगलियों को चलना भी कहा जाता है, एक ऐसी स्थिति है जो परिवार में चलती है। अगर आपका बच्चा एक उम्र के बाद भी पैर की उंगलियों पर लगातार चल रहा है, तो आपको डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। लगातार पैर की उंगलियों पर चलने से बच्चे के गिरने का खतरा बढ़ सकता है और ये परेशानी आगे चलकर और बढ़ सकती है।

Source: American Academy of Orthopaedic Surgeons

Read more articles on Children's Health in Hindi

Disclaimer