जैतून के तेल से इन समस्याओं को रखा जा सकता है दूर, जानें इसके फायदे और नुकसान

जैतून के तेल से सेहत को अनेक फायदे मिल सकते हैं। आईये इस लेख के माध्यम से जानते हैं इसकी तासीर, उपयोग, फायदे और नुकसान के बारे में...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jan 06, 2021Updated at: Jan 06, 2021
जैतून के तेल से इन समस्याओं को रखा जा सकता है दूर, जानें इसके फायदे और नुकसान

जैतून का तेल सेहत के लिए अच्छा है। इससे न केवल औषधियां बनाई जाती हैं बल्कि यह भारतीय रसोई में खाने में भी प्रयोग किया जाता है। इससे कई सौंदर्य प्रोडक्ट्स भी बनाए जाते हैं। बता दें कि जैतून के पेड़ से तेल निकलता है जो त्वचा, बाल और न जानें कितनी समस्याओं को दूर रख सकता है। इसके अंदर विटामिंस, फैटी एसिड आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। यह न केवल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है बल्कि इससे मधुमेह, हड्डियों में मजबूती, कैंसर आदि को भी दूर रखा जा सकता है। आज इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि जैतून के तेल की तासीर क्या होती है? इसके फायदे क्या होते हैं? और इसकी अधिकता कैसे सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है? पढ़ते हैं आगे...

olive oil

जैतून के तेल की तासीर

ध्यान दें कि जैतून का तेल शरीर को ठंडक पहुंचाता है। चूंकि इसकी तासीर ठंडी होती है इसलिए इसका ज्यादातर प्रयोग गर्मियों में किया जाता है।

जैतून के तेल का उपयोग

1- ज्यादातर महिलाएं जैतून के तेल का प्रयोग खाना बनाते वक्त करती हैं।

2- चटनी बनाने में जैतून का तेल प्रयोग में लाया जाता है।

3- मीट, मछलियां और सब्जी को बनाने से पहले जैतून के तेल को पकाया जाता है।

4- कई जगहों पर जैतून के तेल को सलाद के ऊपर छिड़का जाता है।

5- जो लोग ब्रेड पर मक्खन लगा कर खाते हैं वे इसकी जगह पर जैतून का तेल भी छिड़क सकते हैं।

6- जब खाना बन जाए तो ऊपर से थोड़े से जैतून के तेल से खाने का स्वाद दुगना हो जाता है। 

जैतून के तेल के फायदे

कोलेस्ट्रोल को कम करें जैतून का तेल

बता दें कि शरीर में पाए जाने वाले एलडीएल, कोलेस्ट्रॉल को कम करने में जैतून का तेल बेहद सहायक है। एलडीएल धमनी में संकुचन पैदा करता है। ऐसे में जैतून का तेल एचडीएल यानि उच्च लिपॉप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है और स्ट्रोक, दिल का दौरा आदि को रोकता है। हफ्ते में दो या तीन बार आप खाने में जैतून का तेल प्रयोग करेंगे तो इससे हृदय रोग का खतरा कम हो जाता है, यह दिल को मजबूती देता है साथ ही कोलेस्ट्रोल को घटाता है।

मधुमेह के रोगियों के जैतून का तेल

जैतून के तेल से मधुमेह रोगियों को फायदा मिलता है। यह शुगर की शुरुआत को रोक देता है साथ ही जैतून के तेल से ट्राइग्लिसराइड का स्थर बना रहता है। अगर आप टाइप टू डायबिटीज के रोगी हैं तो आप अपने डाइट में जैतून के तेल के 2 बड़े चम्मच को शामिल करें इससे खतरा दूर हो सकता है।

हड्डियों के लिए फायदेमंद है जैतून का तेल

जो लोग जैतून के तेल से बना भोजन खाते हैं उनकी हड्डियां स्वस्थ रहती हैं और मजबूत होती हैं। जैतून का तेल ऑस्टियोपोरोसिस यानी हड्डियों के कमजोर होने की समस्या को भी दूर रखता है। ऐसे में आप जैतून के तेल से हड्डी की मालिश भी कर सकते हैं और अपने खाने में जैतून के तेल को जोड़ सकते हैं।

वजन घटाने में जैतून के तेल है मददगार

अगर जैतून के तेल को सही मात्रा में लिया जाए तो वजन घटाने में आपके काम आ सकता है। वजन और पेट की चर्बी को कम करने के लिए मोनोसैचुरेटेड फैट जरूरी होता है। ऐसे में अगर आप जैतून के तेल का प्रयोग करते हैं तो इसकी पेट जल्दी भर जाता है और आपको भूख कम लगती है। साथ ही आप चीनी का सेवन भी कम करते हैं। ऐसे में आप नियमित रूप से एक या दो चम्मच नियमित रूप से जैतून के तेल का सेवन करें ऐसा करने से वजन जल्दी कम होता है।

चेहरे के लिए फायदेमंद है जैतून का तेल

जैतून का तेल मॉइश्चराइजर का काम भी करता है। इसके अंदर विटामिन ए और विटामिन ई भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। साथ ही ये फैटी एसिड का स्रोत है ऐसे में यह त्वचा को चिकना और नरम बनाए रखने में मददगार है। जैतून के तेल से न केवल त्वचा की बढ़ती उम्र रुक जाती है बल्कि यह झूर्रियां और फाइन लाइंस को कम करने में मददगार है। अगर आप स्ट्रेच मार्क्स से परेशान हैं तो जैतून के तेल से छुटकारा मिल जाता है। ऐसे में आप नियमित रूप से नहाने से पहले पूरे शरीर की गरम जैतून के तेल से मालिश करें। इससे रक्त परिसंचरण में सुधार होगा और त्वचा चमकदार नजर आएगी। यह फटे हुए होंठों को रोकने और उन्हें नरम बनाए रखने के लिए बेहद कारगर है। 

इसे भी पढ़ें- क्यों जरूरी है शरीर के लिए मसाज? जानें इसके प्रकार, फायदे और तरीके 

इसे ङी पढ़ें- New Year Resolution 2021: नए साल पर लें इन 8 आदतों को अपनाने का संकल्प

बालों को सुंदर बनाए जैतून का तेल
जैसा कि हमने पहले भी बताया कि जैतून के तेल के अंदर फैटी एसिड पाया जाता है। इसके अलावा उसके अंदर विटामिन और कई एंटीऑक्सीडेंट तत्व मौजूद हैं जो डैमेज बालों और रूखे बालों में नमी बनाए रखने के लिए बेहद मददगार हैं। जैतून के तेल से दो मुहें बाल, घुंघराले बालों की समस्या भी दूर हो जाती है। यह बालों की जड़ों को मजबूत बनाए रखता है। ऐसे में आप जैतून के तेल से मालिश कर सकते हैं। आप बालों की त्वचा पर तेल लगाएं। आप बसे पहले तेल को गुनगुना करें और अंगुलियों की मदद से 5 मिनट तक लगाएं और फिर एक गर्म तौलिए से अपने बालों के ऊपर रखें। अब इसे 30 मिनट के लिए रातभर के लिए छोड़ दें और अपने बालों को धौ लें।
 
उच्च रक्तचाप में फायदेमंद है जैतून का तेल
जो लोग हाई बीपी से परेशान रहते हैं या उसके लिए तरह-तरह की दवाइयों का सेवन करते हैं उन्हें बता दें कि वह जैतून के तेल को आजमाएं। जैतून के अंदर मौजूद ओलिक एसिड रक्तचाप को कम करने में बेहद मददगार है। इसके लिए आप खाना पकाते वक्त जैतून के तेल की बूंदों का प्रयोग करें। ऐसा करने से न केवल शरीर के रक्त परिसंचरण में सुधार आता है बल्कि रक्तचाप की समस्या भी दूर हो जाती है।

जैतून के तेल से सेहत को नुकसान

जैतून के तेल के निम्न नुकसान हैं-
  • अगर त्वचा पर जैतून का तेल अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है तो इससे त्वचा पर मुहांसे की समस्या की शिकायत हो सकती है। अगर आपकी त्वचा ऑयली है तो इससे चेहरे पर चिपचिपाहट और जलन, लालिमा आदि समस्याएं हो सकती हैं।
  • लोगों की त्वचा ज्यादा रूखी है तो उनके लिए भी जैतून का तेल फायदेमंद नहीं है क्योंकि जैतून के तेल के अंदर ओलिक एसिड पाया जाता है ऐसे में यह प्राकृतिक नमी को खत्म कर सकता है।
  • अगर आपकी त्वचा चिपचिपी है तो यह आपके चेहरे पर ब्लैकहेड्स पैदा कर सकता है।
  • कुछ लोगों को तेल से एलर्जी होती है इसके सेवन से इसके इस्तेमाल से बचें।
  • जैतून का तेल ब्लड प्रेशर को कम कर सकता है। ऐसे में यह पूरे शरीर के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। उनके लक्षणों में चक्कर आना, स्ट्रोक, गुर्दे की विफलता आदि समस्या देखी गई हैं।
  • पाचन क्रिया में गड़बड़ी के कारण में जैतून का तेल हो सकता है ऐसे में दस्त जैसी समस्या सामने आ सकती है।
  • इसका सेवन अधिक मात्रा में किया जाए तो यह वजन बढ़ाने का भी काम करता है।

कुछ बातें

जैतून के तेल के ज्यादा सेवन से बचना चाहिए। इसे आप एयरटाइट कंटेनर में स्टोर कर सकते हैं। साथ ही इसे गर्मी के प्रकाश से दूर रख सकते हैं। 2 महीने के अंदर अंदर इसका प्रयोग करें वरना तेल के अंदर पाए जाने की पोष्टिक गुण खत्म हो जाएगी। गर्माहट से तेल को नुकसान पहुंचता है।

Read More Articles on mind & body in hindi

Disclaimer