मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य का भी होता है प्राथमिक उपचार, जानें कब और किसे होती है इसकी जरूरत

First aid for mental health: जिस प्रकार से आप शारीरिक घावों के लिए प्राथमिक चिकित्सा करते हैं, वैसे ही आप मानसिक स्वास्थ्य समस्‍याओं का भी प्राथमिक उपचार कर सकते हैं।

Atul Modi
Written by: Atul ModiUpdated at: Oct 21, 2019 17:05 IST
मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य का भी होता है प्राथमिक उपचार, जानें कब और किसे होती है इसकी जरूरत

What is Mental Health First Aid In Hindi: यदि आपकी उंगली में कट लग जाता है तो आप क्या करते हैं? आप उंगली को पानी से धोते हैं, कट पर एंटीसेप्टिक लोशन लगाते हैं, और संक्रमण से बचने के लिए पट्टी लगा देते हैं। यह शरीर के लिए प्राथमिक चिकित्सा है। इसी प्रकार, मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध है।

मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा (Mental health first aid) किसी व्यक्ति में संभावित मानसिक बीमारी का पता लगाने की एक प्रक्रिया है। इसमें भावनात्मक और व्यवहार संबंधी मुद्दों की पहचान करना और जरूरत पड़ने पर पेशेवर मदद लेने के लिए व्यक्ति को शामिल किया जाता है। प्राथमिक उपचार, व्यक्ति को बीमारी से उबरने की संभावना को बढ़ाता है। 

-First-aid-for-mental-health

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य की प्राथमिक चिकित्‍सा किसके लिए है जरूरी?

मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा किसी ऐसे व्यक्ति के लिए है जो भावनात्मक संकट का सामना कर रहा है और उसे मदद की ज़रूरत है। कई परिस्थितियां लोगों में भावनात्‍मक उतार-चढ़ाव ला सकती हैं, जैसे: 

  • किसी बच्चे के लिए पहली बार स्‍कूल जाना
  • ब्रेकअप या किसी रिश्‍ते में अलगाव का होना गांव से शहर की ओर पलायन कर सकता है
  • किसी खास या प्रियजन का दुनिया से चले जाना 
  • नौकरी का छूट जाना 

अचानक, अप्रत्याशित परिवर्तन व्यक्ति में भावनात्मक उथल-पुथल का कारण बन सकता है और जल्दी पता न चलने पर मानसिक बीमारी में प्रकट हो सकता है। इसलिए, नुकसान से बचाने के लिए व्यक्ति को मेंटल हेल्‍थ फर्स्‍ट एड देना चाहिए। हालांकि, प्राथमिक चिकित्सा में किसी भी मानसिक बीमारी के निदान या व्यक्ति के लिए इस संकट से उबरने की चिकित्‍सा शामिल नहीं है। (मेंटल हेल्‍थ को बेहतर के लिए जीवनशैली में करें ये 5 बदलाव, मानसिक रोगों से मिलेगा छुटकारा)

आपको कैसे पता चलेगा कि किसी व्यक्ति को मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक उपचार की आवश्यकता है?

गंभीर मानसिक और भावनात्मक संकट से गुजर रहे लोग कुछ विचारों, व्यवहारों और भावनाओं को प्रदर्शित करते हैं जो आपको उनके संकट की पहचान करने में मदद कर सकते हैं। वो हैं:

  • बहुत जल्‍दी इमोशनल हो जाना 
  • अवसाद और चिंतित रहना
  • आक्रामकता दिखाना या बात-बात पर चिढ़ जाना 
  • अकेले रहना 
  • स्कूल/कॉलेज/कार्यस्थल पर जाने से मना करना
  • खुद को दोष देना 
  • अपराधबोध
  • निराशा
  • लाचारी

कभी-कभी, व्यक्ति को एक मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ की सहायता की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन अक्सर वे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति की सहानुभूति की तलाश करते हैं। (एक्‍सरसाइज से मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य में होते हैं ये 5 सुधार, जानें क्‍या हैं ये)

आप मानसिक स्वास्थ्य प्राथमिक चिकित्सा कैसे कर सकते हैं?

जब आप किसी प्रियजन को भावनात्मक उथल-पुथल से गुजरते हुए देखते हैं, तो आप उनसे बात कर सकते हैं और उन्‍हें सहानुभूति देने के साथ गोपनीय बातचीत कर सकते हैं, जैसे: 

  • उनके विचारों को सुनें लेकिन इसके लिए उन्हें दोष न दें 
  • उनकी भावनाओं को समझने का प्रयास करें 
  • समाधान देने की कोशिश न करें, व्यक्ति को समाधान खोजने में मदद करें
  • पता लगाएं कि क्या उनके पास कोई सपोर्ट सिस्‍टम है 
  • यदि आप मानते हैं कि व्यक्ति आत्महत्या का विचार कर रहा है, या नशे की लत जैसे भावनात्मक या व्यवहार संबंधी मुद्दों पर दुर्बलता का अनुभव कर रहा है, तो उन्हें मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ के पास ले जाएं। (लोग आत्‍महत्‍या क्‍यों करते हैं? एक्‍सपर्ट से जानें सही वजह और बचाव)

नोट: यह लेख व्हाइट स्वान फ़ाउंडेशन और मानसिक स्वास्थ्य शिक्षा विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉक्‍टर केएस मीणा से लिए गए इनपुट पर आधारित है।

Read More Articles On Mental Health In Hindi

Disclaimer