बार-बार थकावट महसूस होना हो सकता है एनीमिया का संकेत, जानें इसके लक्षण और बचाव के तरीके

जब शरीर में खून की कमी हो जाती है तब इसे एनिमिया कहते हैं, शरीर में खून की कमी क्‍यों होती है और एनीमिया के कारण तथा इसके लक्षण क्‍या हैं, इसके बारे म

Vishal Singh
अन्य़ बीमारियांWritten by: Vishal SinghPublished at: Feb 27, 2013
बार-बार थकावट महसूस होना हो सकता है एनीमिया का संकेत, जानें इसके लक्षण और बचाव के तरीके

एनीमिया एक रक्त संबंधित बीमारी है, जिसका शिकार ज्यादातर महिलाएं होती है। एनीमिया होने पर शरीर में भारी मात्रा में आयरन की कमी हो जाती है जिसकी वजह से खून में हीमोग्लोबिन बनना भी कम हो जाता है। जब शरीर में हीमोग्लोबिन कम हो जाता है, तो नसों में ऑक्सीजन भी कम होने लगता है। इन सभी समस्याओं के कारण शरीर को सही ऊर्जा नहीं मिल पाती। इस रोग में शरीर से रेड ब्‍लड सेल्‍स का लेवेल सामान्‍य से कम हो जाता है। एनीमिया का सबसे बड़ा कारण है, शरीर में खून की कमी होना।

एनीमिया के कारण रोगी हमेशा थका हुआ महसूस करता है जिससे कार्यक्षमता प्रभावित होती है। एनीमिया में रोगी को ज्यादा से ज्यादा आयरन युक्त आहार लेने  की सलाह दी जाती है। एनीमिया को एक गंभीर स्तर तक पहुंचने से पहले रोका जा सकता है। लेकिन उसके लिए जरूरी है कि आपको एनीमिया से जुड़ी सभी जानकारी हो। आइए हम आपको इस लेख में एनीमिया से जुड़ी सभी जानकारी बताते हैं। 

कारण 

एनीमिया का अगर मुख्य कारण देखा जाए तो वो है शरीर में आयरन की कमी होना। आप अपनी डाइट में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा लेते हैं तो ये भी एनीमिया का एक बड़ा कारण बन सकता है। ये समस्या आमतौर पर तब आती है जब कोई भी शख्स हरी सब्जियों को न खाता हो। कई बार एनीमिया की शिकायत तब भी आती है जब किसी को गंभीर चोट लगने के बाद काफी ज्यादा मात्रा में खून बह जाता है, उस परिस्थिति में भी एनीमिया अपना शिकार बना सकता है। 

इसे भी पढ़ें: रोजाना अनार का सेवन करने से मिलते हैं अनेक फायदे, कई बीमारियों के खतरे से भी रखता है दूर

एनीमिया के लक्षण क्या है? 

शुरुआत में शरीर में खून की कमी होने पर कोई खास लक्षण दिखाई नहीं देते, लेकिन जैसे जैसे यह कमी बढ़ती जाती है इसके लक्षण भी बढ़ने लगते हैं।

  • कमजोरी और थकावट महसूस होना।
  • चक्कर आना।
  • लेट के उठने पर आँखों के सामने अंधेरा छा जाना।
  • सिर दर्द रहना।
  • हृदय की धड़कन तेज या असामान्य होना।
  • त्वचा व नाखूनों का पीला होना।
  • हाथों और पैरों का ठंडा होना।
  • आंखें पीली हो जाना। 
  • सांस फूलना।
  • छाती में दर्द होना।
  • महिलाओं में मासिक धर्म कम होना।

इसे भी पढ़ें: हमारे दिल के लिए अच्छा होता है गुड कोलेस्ट्रॉल, जानें कैसे है ये फायदेमंद और इसको बढ़ाने के तरीके

बचाव

एनीमिया का निदान के जरिए इससे पूरी तरीके से निजात पाया जा सकता है। बस जरूरत है अपने खान पान पर ध्यान देने की। अपने खाने हरे पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें। 

  • शरीर में खून की कमी होने पर ही एनीमिया होता है। इसका मतलब हमे अपने शरीर में खून की सही मात्रा को बनाए रखना बहुत ही जरूरी है। इसलिए इससे बचाव के लिए आहार में कुछ बदलाव करना काफी फायदेमंद होता है। शरीर में आयरन की जरूरत को पूरा करने के लिए खाने में चकुंदर, गाजर, टमाटर और हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें।
  • डाइट में गुड और चने को करें शामिल। गुड का सेवन करने से आपके खून में हीमोग्लोबीन की मात्रा भी बढ़ती है।
  • कैल्श‍ियम को सामान्य मात्रा में लें। 
  • जब भी घर पर सब्जी बनाएं, तो उसे लोहे की कढ़ाई में बनाएं। इससे खाने में आयरन की मात्रा काफी बढ़ जाती है।
  • खाने में आयरन के साथ साथ विटामिन सी को भी तरजीह दें क्योंकि यह शरीर में आयरन सोखने में मदद करता है। इसलिए आंवले-पुदीने की चटनी खाएं। साग या सलाद पर नींबू का रस डालना न भूलें।
  • अपनी डाइट में संतरे का जूस जरूर शामिल करें।
  • चाय और कॉफी से दूरी बनाएं रखएं। 

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer