बच्चों के शरीर में पानी की कमी बन सकती है निर्जलीकरण का कारण, जानें इसके लक्षण और बचाव के तरीके

बच्चे के शरीर में पानी की कमी होने के कारण निर्जलीकरण की समस्या पैदा हो सकती है। जानें इसके मुख्य लक्षण और बचाव के सही तरीके।

Vishal Singh
परवरिश के तरीकेWritten by: Vishal SinghPublished at: May 23, 2011Updated at: Mar 21, 2020
बच्चों के शरीर में पानी की कमी बन सकती है निर्जलीकरण का कारण, जानें इसके लक्षण और बचाव के तरीके

यदि आपका बच्चा निर्जलित है, इसका मतलब है कि उसके शरीर में आवश्यकता से कम तरल पदार्थ है। बच्चे निर्जलीकरण के प्रति अधिक प्रवण होते हैं क्योंकि वयस्कों की तुलना में उनके शरीर में पानी का प्रतिशत अधिक होता है। यदि तरल पदार्थ का सेवन अपर्याप्त है तो बच्चे को उल्टी, दस्त, बुखार, या पसीने की वजह से निर्जलीकरण हो सकता है। निर्जलीकरण की गंभीरता भिन्न हो सकती है। ये हल्के से गंभीर और जीवन घातक हो सकती है। 

निर्जलीकरण यानी डिहाइड्रेशन बच्चों के लिए सबसे घातक माना जाता है। यह गर्मियों में होने वाली सबसे आम समस्याओं में से एक है, जो शरीर में पानी की कमी का संकेत देती है। जरूरी नहीं कि ये समस्या सिर्फ किसी बच्चे को ही हो, यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। अगर इसका इलाज सही समय पर नहीं किया जाए, तो यह जानलेवा भी साबित हो सकती है। आइए जानते हैं कि निर्जलीकरण के प्रमुख लक्षण क्या है और इससे बचाव के क्या तरीके हैं। 

निर्जलीकरण के कारण क्या है? 

अगर आम भाषा में समझें तो ये शरीर में पानी की कमी से होने वाली एक आम समस्या है। लेकिन शरीर में पानी की कमी क्यों होती है या फिर निर्जलीकरण क्यों होता है इसका कारण जानना बहुत जरूरी है। इसके मुख्य कारण ये होते हैं: 

  • शरीर से ज्यादा मात्रा में पसीना निकलना। 
  • ज्यादा व्यायाम करने से। 
  • बुखार।
  • उल्टी।
  • दस्त।
  • बहुत ज्यादा पेशाब आना। 

इसे भी पढ़ें: बच्चों के लिए कई तरह से फायदेमंद है खेल के बाद हेल्दी स्नैक्स का सेवन, मोटापे को भी करेगा कंट्रोल

लक्षण 

  • काफी ज्यादा प्यास लगना। 
  • बार-बार मुंह सूखना।
  • ज्यादा पेशाब नहीं आना। 
  • सूखी व ठंडी त्वचा
  • सिरदर्द
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • पिछले आठ घंटे से पेशाब नहीं आना।
  • सुस्ती या उनींदापन।
  • सूखे, फ़टा मुंह, जीभ और होंठ।  

 










 

इसे भी पढ़ें:  बच्‍चों में नींद की कमी बन सकती है कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का कारण, जानें कैसे दें बच्‍चों को अच्‍छी नींद

घरेलू उपाय

  • अगर आपका बच्चा निर्जलीकरण से पीड़ित है तो आप उसे चावल, केला, आलू, और जिलेटिन जैसे धुंधले पदार्थों का सेवन करने के लिए दें। 
  • तरबूज, स्ट्रॉबेरी और कैंटालूप जैसे पानी की मात्रा से समृद्ध फल खाने से निर्जलीकरण से पीड़ित व्यक्ति के लिए बहुत अच्छा हो सकता है। आहार में खीरे को शामिल करना भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है। 
  • छाछ पीना एक बहुत अच्छा विकल्प है क्योंकि यह न केवल इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन को ठीक करता है बल्कि यह प्रोबायोटिक भी है। 
  • जौ के पानी का सेवन करने से निर्जलीकरण की समस्या जल्दी ही खत्म हो सकती है। जौ के पानी का सेवन करने से यह विभिन्न खनिजों, विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट के साथ शरीर को पुनर्स्थापित करता है साथ ही ये खोए हुए तरल पदार्थ को बहाल करने में भी मदद करता है.
  • नारियल पानी सोडियम और पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है जो अक्सर कम हो जाता है अगर कोई व्यक्ति निर्जलीकरण से पीड़ित है। 
  • यदि आपका बच्चा निर्जलित है तो उसे पानी, ओआरएस, या अन्य तरल पदार्थ जैसे नारियल पानी, नींबू पानी बार-बार दें। हर 5-10 मिनट में घूंट में पीने के लिए प्रोत्साहित करें। बहुत अधिक फलों का रस न दें।
  • निर्जलीकरण को रोकने के लिए सुनिश्चित करें कि आपका प्रीस्कूल का बच्चा खूब तरल पदार्थ का सेवन करे विशेष रूप से जिस दिन बहुत गर्मी हो, या जब उसे उल्टी, दस्त, या बुखार हो।
  • यदि आपका बच्चा बीमार लग रहा हो तो उसे तुरंत अस्पताल ले जाएं। गंभीर निर्जलीकरण की स्थिति में, बच्चे को एक अंतःशिरा (चतुर्थ) तरल पदार्थ दिया जा सकता है जब तक वह पुनर्जलीकृत न हो जाए।

 

Read more articles on Childrens in Hindi

Disclaimer