रोजाना कुछ कदम पैदल चलना हो सकता है हाई ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने का आसान तरीका

यदि आप उच्च हाई ब्‍लड प्रेश या हाइपरटेंशन की समस्‍या से जूझ रहे हैं, तो रोजाना टहलना या वॉकिंग करने से आपको बीपी कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Apr 05, 2020
रोजाना कुछ कदम पैदल चलना हो सकता है हाई ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने का आसान तरीका

पैदल चलना, टहनलना या वॉकिंग करना एक व्यायाम का ही रूप हैं। जो लोग मानते हैं कि केवल हार्डकोर एक्सरसाइज और जिमिंग ही उन्हें फिट रख सकते हैं, वे रोजाना वॉकिंग करने के छिपे फायदों से अनजान हैं। शरीर को बीमारियों से दूर रखने और फिट रहने के लिए व्यक्ति को चलते-फिरते रहना चाहिए। क्‍योंकि निष्‍क्रिय जीवनशैली आपके  मोटापे और हृदय संबंधी समस्याओं का एक प्रमुख कारण है, जिसमें कि अनियमित ब्‍लड प्रेशर, हृदय संबंधी समस्या से जुड़ा है। यही वजह है कि आपको स्वस्थ हृदय स्वास्थ्य के लिए सक्रिय रहना होगा। एक अध्ययन में भी पाया गया है कि रोजाना टहलने या वॉकिंग करने से हाई ब्‍लड प्रेशर या हाइपरटेंशन को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्‍हें हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या है, तो आप ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल में रखने के लिए यह तरीका अपना सकते हैं।  

रोजाना टहलने से हो सकता है हाइपरटेंशन कंट्रोल 

यदि आप रोजाना टहलते हैं तो आपका हाई ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल रह सकता है। इसलिए जितना अधिक आप चलेंगे, आपका बीपी कम होगा। एक अध्ययन में पाया गया है कि प्रत्येक 1,000 कदम चलने से आपका ब्‍लड प्रेशर में लगभग 0.45 नंबर कम होते हैं। इससे पता चलता है कि चलना, शारीरिक गतिविधि का सबसे आसान रूप है, जो आपके ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल में रखने में मदद करता है। इसलिए आप रोजाना सुबह या शाम को छोटे-छोटे कदमों से चलना शुरू करें और उन्हें धीरे-धीरे बढ़ाएं। आप एक फिटनेस ट्रैकर के साथ अपनी प्रगति को ट्रैक कर सकते हैं और अपने बीपी को नियमित अंतराल में मापें।

इसे भी पढ़ें: अस्‍थमा रोगियों के लिए फायदेमंद है प्‍लांट-बेस्‍ड डाइट का सेवन करना और डेयरी प्रॉडक्‍ट से बचना

Hypertension and Walking

क्‍या कहती है रिसर्च? 

वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ कार्डियोलॉजी के साथ अपने वार्षिक सत्र के दौरान अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी में एक अध्ययन किया गया था। हृदय स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले संभावित कारकों का अध्ययन करने के बाद, यह अध्ययन प्रस्तुत किया गया था। इस परियोजना में लगभग 638 प्रतिभागियों का अध्ययन किया गया और उन्हें साप्ताहिक आधार पर उनके बीपी के रिकॉर्ड को बनाए रखने के लिए कहा गया। इसके साथ ही, उन्हें एक फिटनेस ट्रैकर डिवाइस या मोबाइल ऐप के माध्यम से अपनी शारीरिक गतिविधि पर नजर रखने के लिए कहा गया।

डॉ। मयंक सरदाना, एमडी, अध्ययन के प्रमुख शोधकर्ता और सैन फ्रांसिस्को के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के अनुसार, "इस तरह से सोशल बेस्‍ड सेटिंग्स में आदतन शारीरिक गतिविधि को मापना अध्ययन को उन पूर्व-अध्ययनों से अलग करता है, जिन्होंने स्वयं-रिपोर्ट की गई शारीरिक गतिविधि को देखा है या केवल कुछ समय के लिए दैनिक गतिविधि को मापने के लिए एक्सेलेरोमीटर का उपयोग किया है।" 

इसे भी पढ़ें: COVID-19: सरकार ने लांच किया ये नया मोबाइल ऐप, 2 मिनट में बताएगा कोरोना वायरस है या नहीं!

High Blood Pressure

अध्‍ययन के निष्‍कर्ष 

अध्‍ययन से पता चलता है कि शारीरिक रूप से सक्रिय होने से ब्‍लड प्रेशर को कम करने या कंट्रोल रखने में मदद मिलती है। अध्ययन में पाया गया कि प्रत्येक 1,000 कदम चलने पर सिस्टोलिक ब्‍लड प्रेशर 0.45 अंक कम होता है। यह आंकड़ा बताता है कि आप रोजाना जितना अधिक कदम चलेंगे, आपका रक्तचाप उतना ही कम होगा।

"यह अध्ययन शारीरिक गतिविधि और ब्‍लड प्रेशर के बीच संबंधों को मजबूत करता है। यह इस संभावना को बढ़ाता है कि मोटापा या बॉडी मास इंडेक्स बहुत अधिक है और शारीरिक गतिविधि को बढ़ावा देना, मोटापे के बोझ को कम करना और ब्‍लड प्रेशर को कम करने के लिए जरूरी है।

Read More Article On Health News In Hindi

Disclaimer