Doctor Verified

वजाइनल ब्लीचिंग क्या है और क्यों की जाती है? डॉक्टर से जानें क्या इसे करवाना सुरक्षित है

वजाइना (योनि) के कालेपन को दूर करने के लिए आजकल वजाइनल ब्लीचिंग काफी ट्रेंड में है। लेकिन क्या ये तरीका सुरक्षित है और क्या आपको इसे करवाना चाहिए?

 

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Oct 31, 2021 00:00 IST
वजाइनल ब्लीचिंग क्या है और क्यों की जाती है? डॉक्टर से जानें क्या इसे करवाना सुरक्षित है

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

आजकल के नए-नए ट्रेंड देख कर सभी का मन करता है कि वे अपने आप को सुंदर बनाने के लिए इनका पालन करें। लेकिन जब इन ट्रेंड्स में काफी अजीबो गरीब चीजें देखने को मिलती हैं तो उन पर अक्सर संदेह होने लगता है। ब्यूटी जगत (Beauty World) सौंदर्य को लेकर हर रूढ़िवादी धारणा को तोड़ता हुआ आगे बढ़ता जा रहा है। अगर हम नए ट्रेंड के बारे में बात करें तो आजकल (वजाइनल ब्लीचिंग Vaginal Bleaching) ट्रेंड में है। ये एक खास तरह की ब्लीचिंग है, जिसे महिलाएं अपने वजाइना (योनि) का कालापन दूर करने यानी उसे गोरा बनाने के लिए करवाती हैं।

आपको बता दें कि कुछ महिलाएं आज तक बिकिनी वैक्स करवाते समय हिचकिचाती हैं और आरामदायक महसूस नहीं करती हैं। लेकिन समय इतनी तेजी से आगे बढ़ता जा रहा है कि हम वजाइनल ब्लीचिंग तक पहुंच चुके हैं। आपने अक्सर सुना होगा कि अपने प्राइवेट भागों पर किसी तरह का कोई उत्पाद प्रयोग नहीं करना चाहिए। लेकिन क्या है यह वजाइनल ब्लीचिंग और क्या आपको इसे ट्राई करना चाहिए? आइए जानते हैं।

क्या है वेजाइनल ब्लीचिंग (What Is Vaginal Bleaching)

अगर आपके प्राईवेट एरिया (Private Area) का रंग भी काफी डार्क है तो हो सकता है यह चीज आपके लिए काम की हो। मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल पटपड़गंज, एसथेटिक एंड रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी, सीनियर डायरेक्टर, डॉ मनोज जोहर के अनुसार वेजाइनल ब्लीचिंग वजाइनल भाग की स्किन के रंग को लाइट करने के लिए एक प्रक्रिया है।  इस प्रक्रिया में काफी सारी टॉपिकल क्रीम्स (Topical Creams) और केमिकल पील (Chemical Peeling) व लेजर ट्रीटमेंट (Laser Treatment) का प्रयोग किया जाता है। इस ट्रेंड को पिछले साल से ही अधिक रफ्तार मिली है। उन्होंने बताया कि आज भी कुछ महिलाएं स्किन का रंग (Skin Colour) लाइट करने में विश्वास नहीं रखती हैं और ब्लीच आदि पर किसी भी तरह से भरोसा नहीं करतीं लेकिन वे अपनी अंडर आर्म्स (Underarms) और वजाइनल भाग (Vaginal Part) को ब्लीच करवाना चाहती हैं। इस के पीछे का एक कारण यह भी है कि शेविंग करने के बाद प्राइवेट भाग की स्किन आम तौर पर डार्क होने लगती है। जोकि हर महिला और लड़की के सामने आने वाली एक समस्या है। इसी वजह से यह ट्रेंड काफी प्रसिद्ध होने लगा और काफी सारी महिलाएं इसका प्रयोग करके देखने लगीं। लेकिन आप ब्लीचिंग (Veginal Bleaching) कि जो भी प्रक्रिया से गुजर रही हैं उसको बहुत ध्यान से करवाना चाहिए। वरना उसके साइड इफेक्ट (Side Effects) भी हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - पीरियड्स के पहले दिन आपको नहीं करने चाहिए ये 5 काम, डॉक्टर से जानें कैसे बढ़ सकती है आपकी परेशानी

प्रोफेशनल की सहायता लें (Consult With Expert)

यह तो आप जानती ही होंगी कि वजाइना की स्किन काफी नाजुक और सेंसिटिव होती है। इसलिए आप को वहां पर कोई भी एक्सपेरिमेंट बिना किसी एक्सपर्ट की राय के बिना नहीं करनी चाहिए। अगर आप इस प्रकार की ब्लीच में रुचि रखती हैं तो आपको किसी प्रोफेशनल की राय लेने के बाद, डर्मा क्लीनिक या हाई एंड सैलून में ही इस प्रक्रिया को अंजाम देना चाहिए। इन नाजुक अंगो के लिए रिस्क लेना ठीक नहीं।

vaginal bleeching

वजाइनल ब्लीच से जुड़े खतरे (Vaginal Bleaching Side Effects)

हालांकि कुछ एक्सपर्ट्स का मानना है कि आप को इस ब्लीच से बचना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि इससे आप की वेजाइना की स्किन और वॉल्वा में काफी इरीटेशन देखने को मिल सकती है। इस ब्लीच को करवाने से आपको खुजली के साथ साथ काफी ज्यादा जलन भी महसूस हो सकती है।

इसे भी पढ़ें - पीरियड्स में काला खून (ब्लैक ब्लड) आने के हो सकते हैं ये 6 कारण

क्या आपको वजाइनल ब्लीच करवाना चाहिए (Should You Try Vaginal Bleaching)

अगर आप थोड़ी बहुत जलन, और इरीटेशन को बर्दाश्त कर सकती हैं वह भी केवल कुछ समय के लिए मिलने वाले लाभ के लिए तो आप इस ब्लीच को ट्राई कर सकती हैं। अगर आपसे जलन और इरीटेशन बर्दाश्त नहीं होती है तो आप को इस ब्लीच को बिल्कुल ही ट्राई नहीं करना चाहिए।

अगर आप अधिक जोखिम नहीं उठाना चाहती हैं और आप की स्किन भी काफी ज्यादा सेंसिटिव है तो आप को इस ब्लीच से दूर रहना चाहिए। अपनी वेजाइना को उसी हालत में छोड़ देना चाहिए जिसमें वह है। तब आपके लिए हेयर रिमूवल क्रीम या वैक्सिंग ही ठीक है।

 

Disclaimer