बाथरूम में गंदे मैट (पायदान) से हो सकती हैं कई बीमारियां, जानें इसके नुकसान और बचाव के उपाय

पायदान या बॉथमैट के कारण आपके पैरों में कई तरह की बीमार‍ी या इंफेक्‍शन हो सकता है, इससे बचने के उपाय और इलाज के तरीके जान लें 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 12, 2021Updated at: Jul 12, 2021
बाथरूम में गंदे मैट (पायदान) से हो सकती हैं कई बीमारियां, जानें इसके नुकसान और बचाव के उपाय

बॉथरूम के अंदर या बाहर लगा पायदान या बॉथमैट भी आपकी सेहत का दुश्‍मन बन सकता है। हम सब के घरों में पायदान मौजूद होते हैं खासकर बॉथरूम के बाहर या अंदर पर इन्‍हें साफ न करने के कारण ये बीमारी का कारण भी बन सकते हैं। ई-कोली नाम का बैक्‍टीर‍िया पायदान से आपकी स्‍क‍िन पर आ सकता है। इससे स्‍क‍िन इंफेक्‍शन, रैशेज, खुजली और अन्‍य स्‍क‍िन से जुड़ी बीमार‍ियां हो सकती हैं। बीमार‍ियों से बचने के ल‍िए आपको बॉथमैट को साफ रखना चाह‍िए और उससे होने वाली बीमार‍ियों से बचने के ल‍िए कुछ आसान ट‍िप्‍स अपनाने चाह‍िए। इस लेख में हम गन्‍दे पायदान से होने वाले नुकसान, पायदान से होने वाली बीमार‍ियों से बचने के तरीके और पायदान को साफ रखने के उपायों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने ओम स्किन क्लीनिक, लखनऊ के वरिष्ठ कंसलटेंट डर्मेटोलॉज‍िस्‍ट डॉ देवेश मिश्रा से बात की।

bathmat infection

गन्‍दे पायदान या बॉथ मैट से कैसे ब‍िगड़ सकती है सेहत? (How dirty bath mat affects your health)

  • हम बॉथरूम को तो साफ करते हैं पर बॉथमैट या पायदान को भूल जाते हैं जबकि पायदान से भी बीमार‍ियां शरीर में प्रवेश कर सकती हैं जैसे- 
  • गन्‍दे मैट के इस्‍तेमाल से पैरों में खुजली, जलन, ड्रायनेस, रेडनेस की समस्‍या हो सकती है।
  • पैरों में फंगल इंफेक्‍शन के कारण र‍िंगवर्म की बीमारी हो सकती हैं। रिंगवर्म के लक्षण की बात करें तो इसमें त्‍वचा लाल हो सकती है।
  • गन्‍दे मैट से नाखूनों में भी इंफेक्‍शन हो सकता है। अगर गीले मैट के संपर्क में पैर बार-बार आएंगे तो नाखून लाल सकते हैं या उनमें भी इंफेक्‍शन हो सकता है।
  • गन्‍दे या गीले मैट से आपके पैरों में एक्‍ज‍िमा की बीमारी हो सकती है। ये बैक्‍टीरिया के कारण होती है। इसमें त्‍वचा, पपड़ी बनकर उतरने लगती है।

इसे भी पढ़ें- आपका तौलिया भी आपको बना सकता है बीमार, एक्सपर्ट से जानें टॉवेल से इंफेक्शन फैलने का कारण और बचाव के टिप्स

पायदान से होने वाले इंफेक्‍शन से कैसे बचें? (How to prevent diseases caused due to bath mat)

  • आप बॉथमैट की दो से ज्‍यादा संख्‍या घर में रखें, ताक‍ि आपको गन्‍दे मैट को बदलने का मौका म‍िले। 
  • अगर आपके इस्‍तेमाल से पहले पायदान गीला है तो उस पर पांव न रखें, आपको इससे इंफेक्‍शन हो सकता है। 
  • अगर आपके घर में ज्‍यादा लोग हैं तो हर दिन पायदान को धोना चाह‍िए।
  • पायदान से आप केवल गीले पैरों को पोछें, पैरों को रगड़े नहीं। ऐसा करने से इंफेक्‍शन का खतरा कम होगा।
  • कोशिश करें क‍ि बॉथमैट को बॉथरूम के अंदर रखने के बजाय बाहर रखें ताक‍ि उसमें नमी न बने।

इंफेक्‍शन से बचने के ल‍िए पायदान को साफ करने का सही तरीका क्‍या है? (How to clean bath mat to avoid infection)

bathmat

पायदान को साफ करने से पहले उसके साथ लगे लेबल टैग को चेक कर लें क‍ि ताक‍ि आपको ये पता लग जाए क‍ि इस पायदान को धोते समय क‍िस बात का ध्‍यान रखना है, उसके बाद आप इन आसान स्‍टेप्‍स की मदद से गन्‍दे पायदान को साफ कर सकते हैं-

  • पायदान को धोने से पहले आपको उसकी म‍िट्टी साफ करनी है इसल‍िए ध्‍यान रखें क‍ि पायदान ड्राय हो।
  • पहले एक सूखा ब्रश लें, उससे पायदान में लगी धूल-म‍िट्टी को साफ करें।
  • माइक्रोफाइबर क्‍लोथ की मदद से भी आप पायदान पर च‍िपकी म‍िट्टी हटा सकते हैं।  
  • एक टब में पानी भरें और ड‍िटर्जेंट डाल दें, ड‍िटर्जेंट को पानी में अच्‍छी तरह से घोल लें। 
  • अब बॉथ मैट को ड‍िटर्जेंट वाले पानी में डालें। 
  • साफ ब्रश से आप मैट को रगड़ें, आपको मैट के हर कोने को अच्‍छी तरह से साफ करना है। 
  • अच्‍छी तरह रगड़ने के बाद आप उसे ड‍िटर्जेंट वाले पानी में 10 म‍िनट भि‍गोकर रखें। 
  • अब टब का पानी बदलकर उसमें साफ पानी भरें और ड‍िसइंफेक्‍टेंट डालकर मैट को फ‍िर से डाल दें। 
  • पांच म‍िनट बाद मैट को सुखाने के ल‍िए धूप में रख दें, अगर मैट पर कोई बैक्‍टीर‍िया होंगे तो न‍िकल जाएंगे।

मैट के मटेर‍ियल के मुताब‍िक चुनें उसे साफ करने का तरीका 

  • अगर आपका मैट बैम्‍बू या लकड़ी का है तो आप उसे व‍िनेगर से साफ कर सकते हैं। 
  • अगर प्‍लास्‍ट‍िक का मैट है तो ड‍िसइंफेक्‍टेंट क्‍लीनर इस्‍तेमाल करें।
  • अगर कॉटन का पायदान है तो आप उसे वॉश‍िंग मशीन में भी ड‍िटर्जेंट के साथ साफ कर सकते हैं।
  • बॉथरूम के बाहर या अंदर मौजूद मैट पर मॉइश्‍चर होता है ज‍िससे इंफेक्‍शन का खतरा ज्‍यादा रहता है। 
  • गन्‍दे मैट पर बैक्‍टीर‍िया, फंगी पनपने लगते हैं और एक बार ये मैट पर आ जाएं तो बढ़ने में समय नहीं लगाते।
  • आपको 2 से 3 द‍िन में एक बार या हफ्ते में एक बार बॉथमैट को जरूरी साफ करना चाह‍िए।

इसे भी पढ़ें- मटके के पानी और फ्रिज के पानी में कौन है सेहत के लिए ज्‍यादा बेहतर? जानें दोनों के फायदे और नुकसान

गन्‍दे पायदान से इंफेक्‍शन हो जाने पर क्‍या करें? (How to treat infection caused by dirty bath mat)

infection in legs

बॉथरूम में मौजूद पायदान ज्‍यादातर गीला रहता है। लंबे समय तक आप मॉइश्‍चर के संपर्क में रहेंगे तो एलर्जी हो सकती है। पायदान के कारण पैरों में होने वाले इंफेक्‍शन को आप कुछ आसान उपायों से ठीक कर सकते हैं-

  • अगर गन्‍दे मैट या पायदान से पैरों में इंफेक्‍शन हो गया है तो आप बेक‍िंग सोडा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। बेक‍िंग सोडा से फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या दूर होती है।
  • आप आधा एक बाल्‍टी में कप बेकिंग सोडा डालें और उसमें पानी म‍िला दें अब इस पानी में पैरों को डुबोकर रखें, 20 म‍िनट बाद पैरों को धोकर सुखा लें।
  • पैर में इंफेक्‍शन होने पर आप नार‍ियल का तेल लगाएं, नार‍ियल के तेल के फायदे स्‍क‍िन के ल‍िए अनग‍िनत हैं। इससे संक्रमण दूर हो जाएगा।
  • अगर गन्‍दे मैट के कारण पैरों में इंफेक्‍शन है तो लहसुन का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। लहसुन के इस्‍तेमाल से फंगल इंफेक्‍शन की समस्‍या दूर होगी।
  • आप लहसुन को पीस लें और उसे नार‍ियल के तेल के साथ म‍िला लें। आपको नार‍ियल तेल को म‍िलाने से पहले उसे गरम करना है। अब म‍िश्रण को इंफेक्‍शन वाली जगह पर लगाएं और 10 म‍िनट बाद धो लें।
  • पैरों का इंफेक्‍शन दूर करने के ल‍िए आप सेब के स‍िरके का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। आप चम्‍मच व‍िनेगर को कॉटन में लगाएं और प्रभाव‍ित जगह पर लगा लें, अब 30 म‍िनट बाद पैरों को धो लें। सेब के स‍िरके में एंटी-फंगल गुण होते हैं, इससे इंफेक्‍शन ठीक हो जाएगा।

अगर इन उपायों से पैरों का इंफेक्‍शन ठीक न हो तो आप जल्‍द से जल्‍द डॉक्‍टर को दिखांए और अपना पायदान बदल लें।

Read more on Miscellaneous in Hindi 

Disclaimer