Turbinate hypertrophy: नाक की हड्डी बढ़ने के हो सकते हैं ये 8 कारण, जानें लक्षण, प्रकार और बचाव

नाक की हड्डी बढ़ने की स्थिति को टर्बिनेट हाइपरट्रॉफी कहते हैं। जानते हैं इस लेख के माध्यम से नाक की हड्डी बढ़ने के प्रकार, लक्षण, कारण और बचाव...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Mar 18, 2021
Turbinate hypertrophy: नाक की हड्डी बढ़ने के हो सकते हैं ये 8 कारण, जानें लक्षण, प्रकार और बचाव

टर्बिनेट यानी नाक के अंदर वायु मार्ग की सतह पर मौजूद वह बनावट होती है जो नाक के अंदर जाने वाली हवा को नम और गर्म दोनों बनाती है। ऐसे में अगर यह टर्बिनेट बढ़ जाए तो नाक के अंदर जाने वाली हवा में रूकावट आनी शुरू हो जाती है। आम भाषा में इस स्थिति को नाक की हड्डी बढ़ना कहते हैं। वहीं डॉक्टर्स की भाषा में इसे टर्बिनेट हाइपरट्रॉफी (Turbinate hypertrophy) के नाम से जाना जाता है। इस प्रकार की समस्या नाक में पैदा होती है तो लक्षणों के रूप में इंफेक्शन, सांस लेने में दिक्कत होना, नाक से खून आना शुरू हो जाता है। इसके अलावा एलर्जी, वातावरण में परिवर्तन और साइनस इन्फेक्शन के कारण टर्बिनेट बढ़ने लगते हैं और सिकुड़ जाते हैं। और जब वह ठीक नहीं होते तब भी नाक की हड्डी बढ़नी शुरू हो जाती है। कुछ लोगों की नाक में 3 टर्बिनेट होते हैं तो कुछ लोगों की नाक में 4 मौजूद होते हैं। ज्यादातर लोगों की नाक में ऊपरी, मध्यम और निचले टर्बिनेट होते हैं। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे की नाक की हड्डी बढ़ने के कितने प्रकार होते हैं। साथ ही इसके लक्षण, कारण और बचाव भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

नाक की हड्डी बढ़ने के प्रकार (types of turbinate hypertrophy)

बता दें कि नाक की हड्डी बढ़ने के दो प्रकार यानी नस्ल साइकिल और क्रॉनिक होते हैं। अगर नस्ल साइकिल की बात करें तो इस प्रकार में नाक की एक तरफ मौजूद टर्बिनेट चार-पांच घंटे के लिए सूज जाते हैं और जो भी ठीक हो जाते हैं तो दूसरी तरफ के टर्बिनेट सूजने लगते हैं। वही क्रॉनिक में लंबे समय से इन्फेक्शन में सूजन होने के कारण ये टर्बिनेट लगातार बढ़ता रहता है।

नाक की हड्डी बढ़ने के लक्षण (symptoms of Turbinate hypertrophy)

नाक की हड्डी बढ़ने पर निम्न लक्षण नजर आते हैं-

1 - जोर-जोर से खर्राटे लेना

2 - सुनने की क्षमता का कम होना

3 - जल्दी-जल्दी नाक बहना

4 - चेहरे पर हल्का दर्द होना

5 - मुंह से सांस लेना और जब सो कर उठ हो तो मुंह का सूख जाना

6 - माथे पर दबाव महसूस करना

7 - नाक का बंद रहना

इसे भी पढ़ें- अगर आपको इन 4 में से कोई भी रोग है तो भूलकर भी न करें तरबूज का सेवन

अगर नाक की हड्डी बढ़ने पर जुकाम हो जाए तो वह खुद ब खुद ठीक नहीं होता। नाक की हड्डी बढ़ने के लक्षणों में नाक की हड्डी टेढ़ी होना भी आता है। नाक के दोनों छेदों के बीच में कार्टिलेज मौजूद होता है इस कार्टिलेज को नाक की हड्डी भी कहा जाता है। जब यह हड्डी सीधी नहीं होती तो जाने वाली हवा रुकने लगती है और व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत महसूस होती है।

नाक की हड्डी बढ़ने के कारण (causes of Turbinate hypertrophy)

1 - ड्रग्स लेने के कारण

2 - हारमोंस के परिवर्तन होने के कारण

3 - उम्र बढ़ने के कारण

4 - गर्भावस्था के कारण

5 - मौसम में होने वाली एलर्जी के कारण

6 - सर्दी जुकाम होने के कारण

7 - किसी को जन्मजात से यह समस्या होनी शुरू हो जाती है।

8 - लंबे समय से होने वाली साइनस की सूजन होने के कारण

इसे भी पढ़ें- Gingivitis: मसूड़ों में सूजन आने पर हो सकते हैं ये 10 कारण, जानें लक्षण और बचाव

नाक की हड्डी बढ़ने से बचाव (prevention of Turbinate hypertrophy)

अगर आप अपनी नाक की हड्डी को बढ़ने से रोकना चाहते हैं तो आपको निम्न बातों का ख्याल रखना होगा-

1 - जिस गद्दे पर आप सोते हैं उस गद्दे को एलर्जी करने वाले सूक्ष्म कीटाणुओं से बचाना होगा।

2 - अगर आप धूम्रपान करते हैं तो अपनी इस आदत को रोकना होगा।

3 - फफूंदी को हटाने के लिए सफाई करने वाले क्लीनर्स का उपयोग करना होगा।

4 - अगर आपने कोई पालतू जानवर पाला है तो उसे अपने बेडरूम से बाहर रखें।

5 - घर में धूल मिट्टी को जमा ना होने दें।

नोट- नाक की हड्डी की जांच के लिए डॉक्टर सबसे पहले मौखिक रूप से उपचार करते हैं। उसके बाद वह उपकरणों की मदद से नाक के अंदर देखने की कोशिश करते हैं कि हड्डी कितनी बड़ी है। इसके अलावा डॉक्टर दवाइयों के माध्यम से एलर्जी को कम करते हैं साथ ही सूजन को दूर करते हैं। जब समस्या गंभीर होती है तो वे सर्जरी की भी मदद लेते हैं।

 Read More Articles on Other Diseases in Hindi
Disclaimer