अच्छे मूड और अच्छी नींद के लिए जरूरी है ट्रिप्टोफैन, जानें किन फूड्स से मिलेगा ये खास पोषक तत्व

ट्रिप्टोफैन स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद हो सकते हैं। आइए जानते हैं इसके प्रमुख स्त्रोत, फायदे और नुकसान के बारे में-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: Jan 04, 2022 11:28 IST
अच्छे मूड और अच्छी नींद के लिए जरूरी है ट्रिप्टोफैन, जानें किन फूड्स से मिलेगा ये खास पोषक तत्व

ट्रिप्टोफैन एक आवश्यक अमीनो एसिड है, शरीर के लिए आवश्यक है। इसकी मौजूदगी वयस्कों में नाइट्रोजन संतुलन और शिशुओं में नाइट्रोजन वृद्धि का कार्य ( What Is Tryptophan ) करती है। साथ ही इसका उपयोग नियासिन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए भी किया जाता है। जो न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन बनाने में हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक माना जाता है। ट्रिप्टोफैन दो तरह के होते हैं। एल-ट्रिप्टोफैन और डी-ट्रिप्टोफैन। हमारा शरीर ट्रिप्टोफैन का उत्पादन नहीं कर सकता है। ऐसे में शरीर में इसकी पूर्ति खाद्य पदार्थों और अन्य सप्लीमेंट्स के माध्यम से की जाती है। यह अमीनो एसिड आपके मूड को बेहतर करने के साथ-साथ नींद और भूख के सर्कल को भी नियंत्रित करता है। ऐसे में यह आपके लिए बहुत ही जरूरी है। आज हम इस लेख में कुछ ऐसे आहार के बारे में जानेंगे, जिससे आप अपने शरीर में ट्रिप्टोफैन की पूर्ति कर सकते हैं। 

ट्रिप्टोफैन युक्त खाद्य पदार्थ ( Dietary Sources Of Tryptophan )

फल (Tryptophan Rich Fruits)

कई ऐसे फल हैं, जिसमें ट्रिप्टोफैन भरपूर रूप से होता है। इन फलों में कीवी, पपीता, अंजीर, नाशपाती और सेब है। इसके अलावा कुछ अन्य फलों में भी ट्रिप्टोफैन होता है। अगर आपके शरीर में ट्रिप्टोफैन की कमी है, तो आप अपने नियमित आहार में इन फलों को शामिल कर सकते हैं। 

सब्जियां और दालें (Vegetables and Pules)

सब्जियां और दालें स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छी मानी जाती हैं। इसमें कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। अगर आपके शरीर में ट्रिप्टोफैन की कमी है, तो आप सब्जियों और दालों के माध्यम से इसकी पूर्ति कर सकते हैं। सोयाबीन, आलू, राजमा, प्याज, पालक, भिंडी, केल, गाजर इत्यादि के माध्यम से शरीर में ट्रिप्टोफैन की कमी को पूरा किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें - क्या नट्स (काजू, बादाम, अखरोट, मूंगफली) खाने से बढ़ता है वजन?

नट्स और सीड्स (Nuts And Seeds)

शरीर में ट्रिप्टोफैन की कमी को पूरा करने के लिए आप नट्स और सीड्स भी शामिल कर सकते हैं। इनमें कई अन्य के अमीनो एसिड भी मौजूद होते हैं। अगर आपके शरीर में  ट्रिप्टोफैन की कमी है, तो आप अपने नियमित आहार में रोस्टेड कद्दू के बीज, रोस्टेड बादाम, सनफ्लावर के बीज, उबले काजू शामिल कर सकते हैं। इससे आपके शरीर को काफी फायदा हो सकता है। 

सीफूड्स (Seafoods)

कई तरहे सीफूड्स में भी ट्रिप्टोफैन हो सकता है। अगर आप अपने आहार में ट्रिप्टोफैन युक्त सीफूड्स को शामिल करना चाहते हैं, तो येल्लोटेल फिश, ब्लू-फिश, सैल्मन, टूना, ऑयस्ट जैसे सीफूड्स को शामिल करें। इन फूड्स में कई तरह के पोषक तत्वों के साथ-साथ  ट्रिप्टोफैन भी भरपूर रूप से होता है। 

डेयरी प्रोडक्ट्स (Dairy Products)

नियमित रूर से अपने आहार में डेयरी प्रोडक्ट्स शामिल करें। कई ऐसे डेयरी प्रोडक्ट्स हैं, जिसमें ट्रिप्टोफैन भरपूर रूप से होता है। शरीर में ट्रिप्टोफैन की पूर्ति करने के लिए आप दूध, दही, चीज, क्रीम, बटर का सेवन कर सकते हैं।   

ट्रिप्टोफैन के फायदे ( Tryptophan Health benefits )

प्राकृतिक रूप से खाद्य पदार्थों से प्राप्त ट्रिप्टोफैन का सेवन स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी माना जाता है। खासतौर पर इसकी वजह से शरीर में होने वाले नियासिन और सेरोटोनिन (serotonin) की संभावित वृद्धि काफी महत्वपूर्ण मानी जाती है। शरीर में  सेरोटोनिन की वृद्धि से कई तरह के लाभ हो सकते हैं। जैसे-

  • स्वस्थ और बेहतर गुणवत्ता वाली नींद
  • डिप्रेशन और चिंता से मुक्ति
  • भावनात्मक विचारों में वृद्धि
  • मूड को बेहतर करने में सहायक
  • दर्द और सहनशीलता में वृद्धि 

ट्रिप्टोफैन के नुकसान  (Tryptophan Side Effects)

ट्रिप्टोफैन के बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं। अगर शरीर में इसकी अधिकता हो जाए, तो आपके सेहत को कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। जिसमें गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल साइड इफेक्ट सबसे आम हैं, जिनमें शामिल हैं -

  • पेट में जलन
  • पेट दर्द
  • डकार
  • उल्टी और मतली
  • दस्त
  • भूख में कमी

अन्य आम नुकसान 

  • सिर दर्द
  • यौन रोग
  • मुंह ड्राई होना इत्यादि। 
ट्रिप्टोफैन स्वास्थ्य के लिए कई तरह के फायदेमंद हो सकता है। लेकिन इसकी अधिकता से आपको कई नुकसान हो सकते हैं। अगर ट्रिप्टोफैन युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से आपको चक्कर आना, धुंधलापन, मांसपेशी में कमज़ोरी और थकान जैसी समस्या महसूस हो रही है, तो इन खाद्य पदार्थों का सेवन करना बंद कर दें। वहीं, डॉक्टर से उचित परामर्श लें। ताकि किसी भी तरह की गंभीर परेशानी को रोका जा सके। 

 

Disclaimer