Ways To Improve Mental Health: इन 5 सेल्फ-लव प्रैक्टिस से रखें माइंड को कूल और करें टेंशन को दूर

शायद ही आजकल कोई ऐसा व्‍यक्ति मिल जाए, जिसके जीवन में तनाव न हो। लेकिन अधिक तनाव लेना कुछ समय बाद आपके लिए कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को जन्‍म दे सकता

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Nov 06, 2020 11:49 IST
 Ways To Improve Mental Health: इन 5 सेल्फ-लव प्रैक्टिस से रखें माइंड को कूल और करें टेंशन को दूर

तनाव और चिंता हम सबके जीवन का एक अहम हिस्‍सा हैं। चाहते न चाहते भी यह हमारे रोजमर्रा की जिंदगी में होता ही है। लेकिन यह हम पर निर्भर करता है कि हम तनाव या चिंता को अपने जीवन में कितनी जगह देते हैं। ऐसा माना जाता है कि कुछ हद तक तनाव सही भी है, लेकिन जब इसकी अति हो जाती है, तो तब यह स्‍वास्‍थ्‍य के लिए खतरनाक हो जाता है। अगर आप तनाव और चिंता से बचना चाहते हैं और अपने मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो आपको खुद से प्‍यार करना सीखना होगा। आइए यहां हम आपको कुछ सेल्‍फ लव प्रैक्टिस के तरीके बता रहे हैं, जिनकी मदद से आपको अपने मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। इतना ही नहीं, यह आपको दिमाग को कूल रहने और आपको टेंशन फ्री रहने में भी मदद करेंगे। 

relationship tips

खुद की दूसरों से तुलना करना छोड़ें

आप जैसे हैं परफेक्‍ट हैं, आपके पास जो कुछ भी है काफी है, आप जैसे भी हैं बस खुद के लिए बेस्‍ट हैं। इस तरह आप खुद को समझाएं और दूसरों से खुद की तुलना करना बंद करें। अगर आप इस आदत को अपने व्‍यवहार में लाते हैं, तो आप खुश रहते हैं और इससे आपका तनाव भी कम होता है। 

जो गया, उसे जाने दो 

कई बार आपकी जिंदगी में कुछ ऐसी चीजें घट सकती हैं, जिन्‍हें भुलाना आपके लिए काफी मुश्किल हो। ऐसे में आप कोशिश करें कि जो गया या बीत गया उसे भुला दें। आप देखें कि क्‍या यह चीजें आपको अपनी सफलता या खुद से प्‍यार करने की ओर बढ़ने से रोक रही हैं, तो आप उन चीजों और लोगों को जानें दें। 

इसे भी पढ़ें:बढ़ते तनाव के दौरान अपनी फिटनेस रूटीन में शामिल करें ये 4 एक्सरसाइज, मानसिक रूप से रह सकेंगे एक्टिव

खुद को प्राथमिकता दें

आप किसी दूसरे को प्राथमिकता देने से पहले खुद को प्राथमिकता देना सीखें। जब आप खुद को प्राथमिकता देंगे और खुद से प्‍यार करेंगे, तो आप खुश रह पाएंगे। जिंदगी में लोग आते हैं और चले जाते हैं, लेकिन आप अकेले ऐसे हैं, जो स्थिर हैं। इसलिए अपने आप पर ध्‍यान दें। 

अपने डर को चैनलाइज़ करें 

डरना या घबराना एक ऐसी भावना है, जो स्‍वाभाविक है। लेकिन अपने डर को कभी भी इतना न बढ़ने दें कि वह आप पर हावी हो। आप हमेशा अपने डर को दूर या कम करने की कोशिश करें। अपने आप के बारे में जागरूक रहें और खुद से प्‍यार करें, यह आपको अपने लक्ष्‍यों तक पहुंचने और चिंता को कम करने में मददगार होगा। 

इसे भी पढ़ें: मानसिक तनाव और थकान को करना है दूर, तो नियमित रूप से करें ये 4 आसन

अपनी गलतियों से सीखें 

अगर आपको हमेशा ऐसा लगता है कि आप सही हैं और दूसरा गलत, तो आप अपनी इस आदत को बदलें। आप हमेशा कोशिश करें कि अपनी गलतियों से सीख लें। ऐसा करने से आप आगे होने वाली ग‍लतियों से बचेंगे और सही निर्णय लेने में सक्षम हो पाएंगे। आप कोशिश करें कि अच्‍छे व बुरे दोनों लोगों से सीखें। 

इस प्रकार जैसा आप खुद के व्‍यवहार और आदतों को बदलेंगे, इसका असर आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर भी होगा।  

Read More Article On Mind And Body In Hindi

Disclaimer