पैकेज्‍ड फूड खरीदने से पहले पैकेट पर दी जानकारी पर करें गौर, जानें फूड लेबल समझने का तरीका

पैकेज्‍ड फूड खरीदने से पहले आपको उसे समझने का तरीका समझना चाह‍िए, जानते हैं इसके बारे में 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 19, 2022Updated at: May 19, 2022
पैकेज्‍ड फूड खरीदने से पहले पैकेट पर दी जानकारी पर करें गौर, जानें फूड लेबल समझने का तरीका

आजकल इंंस्‍टेंट और पैकेज्‍ड फूड का चलन ज्‍यादा बढ़ गया है और अगर इस तरह के खाने की गुणवत्‍ता आप चेक न करें तो आपकी तबीयत भी ब‍िगड़ सकती है। अपनी तबीयत को बेहतर रखने के ल‍िए आपको फूड लेबल्‍स जरूर पढ़ने चाह‍िए। फूड लेबल्‍स पढ़ने से आपको खाद्य पदार्थ से जुड़ी जरूरी जानकारी जैसे उनमें क‍ितनी कैलोरीज या शुगर है या वो क‍ितने हेल्‍दी हैं इसके बारे में जानकारी म‍िलती है। फूड लेबल्‍स को पढ़ने का सही तरीका हम आगे इस लेख में जानेंगे साथ ही जानेंगे कि आख‍िर क्‍यों आपको पैकेज्‍ड फूड खरीदने से पहले फूड लेबल पर गौर करना चाह‍िए।   

packed food    

क्‍यों पड़ती है फूड लेबल की जरूरत? (Importance of food label)

1. फूड लेबल समझने से पता लगेगी फूड क्‍वॉल‍िटी (It checks food quality)

फूड लेबल पढ़कर आप फूड क्‍वॉल‍िटी के बारे में पता सकते हैं। फर्ज क‍ीज‍िए क‍ि आपने ऐसा खाना खा ल‍िया है जो एक्‍सपायर्ड हो चुका है तो आपकी तबीयत बि‍गड़ सकती है। आपको बीमार होने से बचने के ल‍िए पैकेज्‍ड फूड खरीदने से पहले त‍िथ‍ि चेक कर लेनी चाह‍िए। फूूड लेबल आपकी मदद करते हैं क‍ि आप क्‍वॉल‍िटी फूड खा पाएं। एक्‍सपायर होने की डेट से कुछ समय पहले ही आपको उसका सेवन करना अवॉइड करना चाह‍िए।    

इसे भी पढ़ें- परिवार के साथ समय बिताने से बेहतर होता है मानसिक स्वास्थ्य, जानें इससे मिलने वाले 4 फायदे      

2. कैलोरीज पर सर्व‍ि‍ंग जानने के ल‍िए पढ़ें फूड लेबल (Calories per serving)

खाने की कोई भी चीज को चुनने से पहले आपको सर्व‍िंग साइज पर भी ध्‍यान देना चाह‍िए। अगर आप ज्‍यादा सर्व‍िंग ले रहे हैं तो इसका मतलब है क‍ि आप ज्‍यादा कैलोरीज कंज्‍यूम कर रहे हैं। अगर आप केवल अपने ल‍िए फूड पैकेट चुन रहे हैं तो आपको स‍िंगल सर्व‍िंग फूड्स को चुनना चाह‍िए।               

3. फूड लेबल बताती है शुगर की मात्रा (Checks sugar level)

फूड लेबल पढ़ने से आप खाने में शुगर की मात्रा की जांच कर सकते हैं। शुगर का ज्‍यादा सेवन करने से हार्ट ड‍िसीज और क्रॉन‍िक ड‍िसीज का खतरा बढ़ता है। हाई शुगर डाइट लेने के कारण ब्‍लड शुगर लेवल बढ़ सकता है, अगर आपको फूड लेबल ठीक से पढ़ना आता है तो आप अपने ल‍िए हेल्‍दी खाना चुन सकते हैं और जब बात पैकेज्‍ड फूड की हो तो और भी ज्‍यादा जरूरी है क‍ि आप अपने ल‍िए सही कैटेगरी चुनें, कई फूड पैकेट्स में केवल हेल्‍दी फूड का लेबल लगा होता है पर शुगर की मात्रा ज्‍यादा होती है इसल‍िए आपको कुछ भी खरीदने से पहले फूड लेबल जरूर चेक करना चाह‍िए।    

4. हेल्‍दी रहने के ल‍िए पड़ती है फूड लेबल की जरूरत 

हर तरीके के खाने में व‍िटाम‍िन, म‍िनरल, कैलोरीज, फैट आद‍ि की जानकारी होती है। ये जानकारी फूड लेबल पर मौजूद होती है, आपको हेल्‍दी रहने के ल‍िए फूड लेबल के बारे में जानना जरूरी है। फूड लेबल के जर‍िए आप कैलोरीज काउंट कर सकते हैं, फैट, शुगर आदि‍ की मात्रा का पता लगा सकते हैं। अगर आप बैलेंस्‍ड डाइट लेना चाहते हैं और पहले से क‍िसी बीमारी के श‍िकार हैं तो आपको कुछ भी खाने से पहले उसका फूड लेबल जरूर पढ़ना चाह‍िए। 

इसे भी पढ़ें- गर्मी में पुदीने का शरबत पीना है बेहद फायदेमंद, जानें आसान रेसिपी 

फूड लेबल को समझने का तरीका क्‍या है? (How to understand food label)

  • फूड लेबल में आपको सोड‍ियम की इंटेक पर ध्‍यान देना चाह‍िए, अगर देखा जाए तो रोजाना 2400 म‍िलीग्राम से ज्‍यादा सोड‍ियम का सेवन अवॉइड करना चाह‍िए।  
  • इसी तरह आपको इस पर ध्‍यान देना है क‍ि जूस में 30 ग्राम से ज्‍यादा अध‍िक नैचुरल शुगर नहीं लेनी चाह‍िए।
  • आपको फूड लेबल पढ़ते समय उसमें कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा देखनी चाह‍िए। आपको हाई कोलेस्‍ट्रॉल फूड्स में आपको अंडा, चीज, पोल्‍ट्री आद‍ि फूड्स अवॉइड करना चाह‍िए।   
  • प्रोटीन की मात्रा 50 से 75 ग्राम होनी चाह‍िए, आपको प्रत‍ि सर्व‍िंग इससे ज्‍यादा प्रोटीन अवॉइड करना चाह‍िए।  
  • आपको फूड लेबल की मदद से कैलोरीज का पता लगाना चाह‍िए। कैलोरीज के जर‍िए आपको ये जानकारी म‍िलेगी क‍ि क‍िस चीज में क‍ितनी एनर्जी है और आपको क‍ितनी कैलोरीज की जरूरत पड़ेगी।    

तो देखा आपने फूड लेबल पढ़ने का तरीका क‍ितना आसान है, अब आप खाने का कोई भी पैकेट खरीदने से पहले फूड लेबल पर जरूर गौर करें।

Disclaimer