लापरवाह बच्चों को जिम्मेदार बनाने के लिए पेरेंट्स जरूर अपनाएं ये 5 टिप्स

लापरवाह और जिद्दी बच्चे की आदत सुधारने के लिए कई बार पेरेंट्स गलत कदम उठा लेते हैं, ऐसा करने की बजाय उन्हें सुधारने के लिए आप इन बातों का ध्यान रखें।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 06, 2022Updated at: May 06, 2022
लापरवाह बच्चों को जिम्मेदार बनाने के लिए पेरेंट्स जरूर अपनाएं ये 5 टिप्स

बच्चों की परवरिश का सीधा असर उनके व्यक्तित्व पर पड़ता है। जिस तरह से आप बच्चों की परवरिश करते हैं आपके बच्चे उसी तरह का व्यवहार अपने जीवन में उतारते हैं। लेकिन कई बच्चे ऐसे भी होते हैं जो बचपन से ही जिद्दी और लापरवाह होते हैं। जिद्दी और लापरवाह बच्चों की परवरिश के दौरान उनकी आदतें सुधारना पेरेंट्स के लिए बड़ा काम होता है। पेरेंट्स हमेशा इसी चिंता में रहते हैं कि बच्चों की आदतों में सुधार कैसे किया जाए? जिद्दी और लापरवाह बच्चे कई बार ऐसी गलतियां भी कर बैठते हैं जिनकी वजह से बड़ा नुकसान होता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि पेरेंट्स जिद्दी और लापरवाह बच्चों की हर आदतों को मान ही लें। ऐसे बच्चों की परवरिश के लिए पेरेंट्स को भी स्मार्ट बनने की जरूरत होती है। आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसी ही पेरेंटिंग टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप बच्चों को समझदार बना सकते हैं। आइये जानते हैं जिद्दी और लापरवाह बच्चों को सुधारने के लिए पेरेंटिंग टिप्स के बारे में।

लापरवाह बच्चे को सुधारने के टिप्स (Tips To Make Your Kids Responsible in Hindi)

बच्चों को खुश रखने और अच्छी परवरिश देने के लिए पेरेंट्स कई बार बच्चों को ऐसी छूट दे देते हैं जिसकी वजह से बच्चों का व्यवहार बदल जाता है। कई बार ज्यादा दुलार और लाड़-प्यार के चलते बच्चे जिद्दी और लापरवाह हो जाते हैं। लापरवाह बच्चों की आदत सुधारने और उन्हें समझदार बनाने के लिए पेरेंट्स तमाम कोशिशें करते हैं लेकिन हमेशा उन्हें सफलता नहीं मिलती है। अगर आपका बच्चा भी ज्यादा दुलार के चक्कर में लापरवाह हो गया है तो उसे सुधारने के लिए आपको इन बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए।

Tips-To-Make-Kids-Responsible

इसे भी पढ़ें : क्या आपका बच्चा भी हो जाता है बात-बात पर परेशान? जानें ऐसे बच्चों को हैंडल करने के टिप्स

1. बच्चों की तुलना न करें

कई बार पेरेंट्स अपने बच्चे की तुलना उनके दोस्तों और अन्य बच्चों से करते हैं। ऐसा करने से बच्चे के मन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। बच्चों की हमेशा दूसरों से तुलना करने से बच्चे के अंदर आपके प्रति नकारात्मक भावना पैदा हो सकती है। इसकी वजह से बच्चे जिद्दी और लापरवाह भी हो सकते हैं। बच्चों की तुलना करने से वे खुद को दूसरों से कम आंकने लगते हैं। ऐसा बिलकुल भी नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से बच्चों का आत्मविश्वास कम हो सकता है। इसकी जगह पर बच्चों को प्यार से समझाने से उनकी आदत ठीक हो सकती है।

2. बहुत सख्त सजा न दें

बच्चों को अनुशासित करने और उनकी आदतों को सुधारने के लिए पेरेंट्स कई बार उन्हें कड़ी सजा देते हैं। बच्चों की गलतियों पर कड़ी सजा देने और उन्हें बार-बार डांटने से उनकी आदत और खराब हो सकती है। बहुत कड़ी सजा देने से आपका बच्चा मानसिक तनाव का शिकार हो सकता है और इसकी वजह से उनकी आदत जिद्दी हो सकती है। बच्चों को समझदार और जिम्मेदार बनाने के लिए उन्हें कड़ी सजा देने के बजाय अनुशासित करने का प्रयास करें। उन्हें पहले प्यार से समझाएं और अगर प्यार से नहीं मानते हैं तो थोड़ी डांट लगाकर समझाने का प्रयास करें। 

इसे भी पढ़ें : अगर बच्चे से हो गई कोई गलती तो डाटें नहीं, इन 6 तरीकों से समझाएं उन्हें

3. बच्चे की गलती उसे बताएं

बच्चे को मारने-पीटने या सजा देने की बजाय अगर आप उन्हें उनकी गलतियों से अवगत कराएंगे तो वे अपनी गलती को सुधारने के लिए प्रयास करेंगे। बच्चों को सजा देने से उन्हें अपनी गलती का अहसास नहीं होता है और हो सकता है कि वे अपनी गलती को फिर से दोहराएं। लेकिन जब आप बच्चे की गलतियों पर उन्हें समझाते हैं और उनकी गलतियों से अवगत कराते हैं तो इससे उन्हें अपनी गलती का अहसास होता है। ऐसा करने से लापरवाह बच्चे जिम्मेदार होते हैं।

4. बच्चे के साथ समय बिताएं

लापरवाह और जिद्दी बच्चों को हैंडल करने के लिए जरूरी यह है कि उन्हें समय दिया जाए। दिन में समय निकालकर उनके साथ खेलने से आप उनसे घुल-मिल सकते हैं। उनके बारे में जानने के लिए उनके साथ समय बिताना जरूरी है। ऐसा करने से आप आसानी से उनकी मनोदशा को समझ सकते हैं और आप दोनों के बीच बॉन्डिंग अच्छी होती है।

5. खुद उदहारण बनें

बच्चों के सामने माता-पिता जिस तरह का व्यवहार करते हैं ठीक वही आदत बच्चों में भी लग जाती है। इसलिए जिद्दी और लापरवाह बच्चे की आदत सुधारने के लिए आपको पहले खुद को सुधारना जरूरी है। यदि माता-पिता खुद एक दूसरे पर अपनी जरूरतों को थोपेंगे या बच्चों के सामने लड़ेंगे तो इस माहौल में बच्चा कभी आज्ञाकारी नहीं बन सकता। ऐसे में सबसे पहले माता-पिता को एक दूसरों को समझना जरूरी है। तभी वे अपने बच्चे को जिम्मेदार बना सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : बच्चों को आज्ञाकारी बनाने के लिए पेरेंट्स अपनाएं ये 5 तरीके, एक्सपर्ट से जानें क्या करें-क्या नहीं

ऊपर बताये गए तरीकों को अपनाकर आप जिद्दी और लापरवाह बच्चे को जिम्मेदार बना सकते हैं। परवरिश के दौरान पेरेंट्स कई ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसका सीधा असर बच्चे पर पड़ता है। इससे बचने के लिए आपको ऊपर बताई गयी पेरेंटिंग टिप्स का ध्यान जरूर रखना चाहिए। बच्चों के साथ सही ढंग से पेश आने और उनके साथ समय बिताने से उनकी आदतें सुधरती हैं।

(All Image Source - Freepik.com)

 
Disclaimer