पहली बार मां बन रही महिलाओं को जरूर जान लेनी चाहिए ये 5 बातें, परवरिश में आएंगी काम

First Time Mothers tips In Hindi: पहली बार मां बनने वाली महिला को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, उन्हें जरूर पता होनी चाहिए ये 5 बातें।

 
Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Jun 14, 2022Updated at: Jun 14, 2022
पहली बार मां बन रही महिलाओं को जरूर जान लेनी चाहिए ये 5 बातें, परवरिश में आएंगी काम

जब कोई महिला पहली बार मां बनती है तो उसके लिए शिशु की देखभाल करना काफी मुश्किल होता है। बच्चे के जन्म के बाद मां की जिम्मेदारियां बहुत बढ़ जाती हैं। छोटे बच्चों की बहुत ज्यादा देखभाल करनी पड़ती है और उनके लिए कुछ भी करते समय हर छोटी से छोटी बातों का खास ध्यान रखना पड़ता है। जब कोई महिला पहली बार मां बनती है तो वह बहुत सी चीजों से अनजान होती है, साथ ही कुछ स्थितियों में वह काफी चिंतित और परेशान महसूस करती है। इसलिए उन्हें कुछ जरूरी बातों के बारे में पता होना बहुत जरूरी है। पहली बार मां बनने वाली महिलाओं के लिए बच्चे की देखभाल करना किसी चुनौती से कम नहीं है, क्योंकि इस दौरान उन्हें भी कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस लेख में हम आपको ऐसी 5 बातों (Things To Know For First Time Mothers In Hindi) के बारे में बता रहे हैं जिनके बारे में पहली बार मां बनने वाली महिलाओं के लिए जानना बहुत जरूरी है।

पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को जरूर पता होना चाहिए ये 5 बातें (Things To Know For First Time Mothers In Hindi)

1. शिशु के खानपान का रखना होता है खास ध्यान

जब शिशु छोटा होता है तो उसे सिर्फ मां का दूध पिलाने या स्तनपान कराने की सलाह दी जाती है। डॉक्टर्स की मानें तो बच्चे को 6 महीने तक सिर्फ स्तनपान ही कराना चाहिए, उसके बाद ही उसे धीरे-धीरे ठोस पदार्थ खिलाना शुरू किया जाना चाहिए। बच्चे के शुरुआती समय में सिर्फ उन्हें पोषण प्रदान करने और उनकी इम्यूनिटी को मजबूत बनाने के लिए सिर्फ मां का दूध ही कारगर होता है। सिर्फ इतना ही नहीं मां के दूध की गुणवत्ता भी मां के खानपान पर निर्भर करती है। आपका खानपान जितना अच्छा होगा आपके दूध की गुणवत्ता भी उतनी ही अच्छी होगी। इसलिए पोषक तत्वों से भरपूर आहार का सेवन करें, और पर्याप्त पानी पिएं। बच्चों को ठोस पदार्थ शुरू कराने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

इसे भी पढें: समय से पहले जन्मे बच्चे की देखभाल कैसे करें? जानें प्रीमैच्योर बेबी केयर के 4 जरूरी टिप्स

New Mothers Tips

2. बच्चे को स्तनपान कराने में न करें जल्दबाजी

शिशु को स्तनपान कराने में बहुत बार माताएं असहज महसूस करती हैं। इस स्थिति में वे शिशु को स्तनपान कराने में जल्दबाजी करती हैं, क्योंकि बहुत बार माताओं के लिए स्थिति काफी असहज होती है और कई बार वे ठीक पोजीशन में भी बच्चे को स्तनपान कराने में असमर्थ होती हैं। लेकिन ऐसा करना मां और बच्चे दोनों के लिए ठीक नहीं होता है। इस दौरान बच्चा ठीक से दूध नहीं पी पाता है। इसलिए कोशिश करें कि शिशु को दूध पिलाते समय आप सहज रहें और सही पोजीशन में स्तनपान कराएं। आप चाहें तो इस दौरान संगीत भी सुन सकती हैं, यह आपको आरामदायक महसूस कराएगा।

इसे भी पढें: क्या शिशु के दांत निकलने के दौरान बुखार आना सामान्य है? डॉक्टर से जानें ऐसे 4 मिथकों की सच्चाई

3. मां की सेहत के लिए भी अच्छा होता है स्तनपान कराना

बच्चे के स्वास्थ्य के लिए मां का दूध बहुत जरूरी होती है। लेकिन स्तनपान जितना शिशु के लिए फायदेमंद होता है उतना ही लाभ स्तनपान कराने वाली माताओं को भी मिलता है। शिशु को स्तनपान कराने से कई स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा मिलता है। साथ ही इससे माताओं के शरीर को भी आराम मिलता है। इसमें आप बच्चे को किस तरह स्तन करा रही हैं या किस पोजीशन में स्तनपान करा रही हैं इसकी भी अहम भूमिका होती है। बच्चे को स्तनपान ऐसी पोजीशन में कराएं जो शिशु और मां दोनों के लिए सहज हो। आप इसके लिए अपने डॉक्टर से भी परामर्श कर सकती हैं।

New Mothers Tips

4. ब्रेस्टफीडिंग के दौरान शिशु को सही तरह से पकड़ें

शिशु को स्तनपान कराते समय आप उसे किस तरह पकड़ रहे हैं यह बहुत महत्वपूर्ण है। कई बार आपके टाइट पकड़ने या ज्यादा दबाव से शिशु प्रभावित हो सकता है। आप शिशु को स्तनपान कराने के लिए अलग-अलग पोजीशन में उसे पकड़ सकते हैं, जैसे साइड करके लिटाना, उसे फुटबॉल की तरह पकड़ना, क्रेडल होल्ड औ क्रॉस ओवर होल्ड। इस तरह बच्चे को स्तनपान कराने से दूध पीने में दिक्कत नहीं होती है, साथ ही महिलाओं को भी स्तनपान के दौरान स्तनों में दर्द महसूस नहीं होता है। इसलिए शिशु को पकड़ने का सही तरीका पता होना बहुत जरूरी है।

यह भी देखें:

5. जरूरी नहीं है बच्चे के जन्म के बाद दूध आना

कई बार ऐसा होता है कि बच्चे को जन्म देने के बाद कुछ महिलाओं के स्तनों से से दूध नहीं निकलता है। इस बात को लेकर महिलाएं काफी चिंतित और तनावग्रस्त हो जाती हैं। लेकिन ऐसा होना बिल्कुल सामान्य है, और आमतौर पर इससे कोई नुकसान नहीं होता है। जब तक कि यह किसी मेडिकल कंडीशन से जुड़ा न हो। यह जरूरी नहीं है कि सभी महिलाओं को बच्चे को जन्म देने के बाद स्तनों से दूध निकले। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आपकी डिलीवरी कैसे हुई है, जैसे अगर किसी महिला की नॉर्मल डिलीवरी होती है वह कुछ समय बाद ही ब्रेस्टफीडिंग के लिए तैयार हो जाती है, वहीं जिन महिलाओं की सिजेरियन डिलीवरी की जाती है उन्हें बच्चे को स्तनपान कराने में थोड़ा समय लग सकता है। इसमें घबराने या चिंता वाली कोई बात नहीं होती है।

All Image Source: Freepik.com

Disclaimer