दूसरों के घर जाने पर क्या करना चाहिए और क्या नहीं? अपने बच्चों को जरूर सिखाएं ये 7 आदतें

जब आप अपने बच्चे को किसी दूसरे के घर में भेजते हैं तो उस दौरान उन्हें कुछ ऐसी बात सिखाएं जिससे वे पूरे अनुशासन और सभ्यता के साथ वहां रहें।

Garima Garg
Written by: Garima GargUpdated at: Aug 13, 2021 14:37 IST
दूसरों के घर जाने पर क्या करना चाहिए और क्या नहीं? अपने बच्चों को जरूर सिखाएं ये 7 आदतें

जब बच्चे दूसरों के घर में जाते हैं तो वह अकसर कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं, जिससे लोग उन्हें बुलाना बुलाने से कतराते हैं। ऐसे में माता-पिता की जिम्मेदारी है कि बच्चों को जब भी दूसरे के घर भेजें तो उन्हें कुछ ऐसी चीजें सिखाएं जिससे वे वहां पर अनुशासन और सभ्यता के साथ रहें। और आपका नाम रोशन करें। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है आज हम आपको अपनी इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि बच्चे अगर किसी दूसरे के घर पर जा रहे हैं तो माता-पिता उन्हें कौन-सी सीख दें। इसके लिए हमने गेटवे ऑफ हीलिंग साइकोथेरेपिस्ट डॉ. चांदनी (Dr. Chandni Tugnait, M.D (A.M.) Psychotherapist, Lifestyle Coach & Healer) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

 

1 - बिना पूछे ना छुए किसी का सामान

बच्चे अक्सर अपने घर पर किसी भी सामान को छूने से पहले माता-पिता से नहीं पूछते। यहीं आदत वे दूसरे के घर में जाकर भी भूल नहीं पाते हैं। ऐसे में अगर माता-पिता अपने बच्चे को किसी दूसरे के घर में भेज रहे हैं तो सबसे पहले उसे यह समझाएं कि किसी भी चीज को छूने से पहले बड़ों से पूछना जरूरी है बिना पूछे किसी भी चीज को छूना गलत आदतों में से एक है।

इसे भी पढ़ें- जीतने के साथ जरूरी है बच्चों को हार स्वीकार करने की सीख देना, एक्सपर्ट से जानें कैसे डलवाएं ये आदतें

2 - तेज तेज बात ना करें

बच्चे अपने घर में तेज-तेज बात करते हैं या चीखतें चिलाते रहते हैं और माता-पिता उनकी नादानी समझकर उन्हें रोकते भी नहीं है। लेकिन यह आदत आगे चलते उनके लिए घातक बन सकती है। ऐसे में अगर आपके बच्चों को चीखने चिल्लाने की आदत है तो उसे दूसरे के घर में भेजने से पहले समझाएं कि किसी के भी घर में जाकर तेज-तेज बात ना करें। जितना हो सके उतना सुनने की कोशिश करें।

3 - इधर उधर ताका झांकी करना

जब बच्चे किसी दूसरे के घर में जाते हैं तो वहां पर रखी चीजें देखकर उनका मन करता है कि वे उस चीज को और करीब से देखें। ऐसे में उनकी आदत दूसरों की नजर में ताकत झांकी कहला सकती है। माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे अपने बच्चों को समझाएं अगर आपको कोई चीज पसंद आ रही है तो उसके बारे में सीधे बड़ों से पूछें और अपनी ताका झांकी की आदत को छुड़ाने के लिए अपनी नजरों को केवल एक जगह पर टिकाएं रखें।

4 - जो मिले वही खाएं

बच्चे अक्सर अपने घरों में माता-पिता से जिद करते हैं कि उन्हें यह नहीं खाना क्या उन्हें वह खाना है। ऐसे में घर पर इस तरीके की ज़िद आम बात है। लेकिन दूसरे के घर जाकर इस तरीके की जिद करना एक गलत आदत कहलाती है। ऐसे में माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वह अपने बच्चे को समझाएं कि वहां जो मिले उसे चुपचाप खा लें। बच्चों की जिद करने की आदत बदलें। वहीं अगर उनका मन कुछ अच्छा खाने को कर रहा है तो उनके लिए घर पर कुछ अच्छा सा बना देंगे।

इसे भी पढ़ें- बच्चों पर ज्यादा निगरानी रखना सही है या गलत? बता रही हैं एक्सपर्ट

5 - किसी की बात को बीच में रोक कर खुद की बात बोलना

अकसर बच्चे बिना किसी की बात सुनें अपनी बात बिना रुके बोले चले जाते हैं। ऐसे में दूसरे के घर में जाते हैं तो इस आदत के चलते वे वहां पर भी बड़ों को चुप करके या बड़ों को बीच में रोक कर खुद बोलना शुरू कर देते हैं। यह आदत भी गलत होती है। ऐसे में बड़ों का अपना अपमान नजर आता है। माता पिता की जिम्मेदारी है कि बच्चों को जब भी दूसरे के घर भेजें तो इसे समझाएं कि सामने वाले की पूरी बात खत्म होने के बाद ही अपनी बात को रखें।

6 - किसी भी चीज के लिए जिद न करना

अकसर बच्चे अपने घर पर किसी ना किसी चीज के लिए जिद करते हैं। वहीं माता-पिता भी छोटे बच्चे समझकर उस जिद को पूरा कर देते हैं। लेकिन ये आदत उन्हें परेशान कर सकती है। ऐसे में माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे अपने बच्चों को सिखाएं कि किसी के घर में जाकर ऐसा ना करें और बड़ों की बात चुपचाप मानें। ऐसा करने से ना केवल आपको प्रेम मिलेगा बल्कि माता पिता का भी सर ऊंचा होता है।

7 - बिन बताए कहीं बाहर न जाना

अकसर माता-पिता अपने बच्चे को बाहर घुमाने या घर के आस-पास किसी दुकान या कुछ चीज खरीदने के लिए ले जाते हैं। ऐसे में बच्चे घर के आसपास के रास्तों को याद कर लेते हैं। लेकिन जब वे दूसरे के घर में जाते हैं तो उन्हें वहां के रास्ते या गली के बारे में नहीं जानते। ऐसे में अगर वे बिना बताएं बाहर निकल जाएं तो खोने का डर बना रहता है। माता-पिता को सिखाना चाहिए कि जब भी वे घर से बाहर जाए तो किसी बड़े को बताकर जाएं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि किसी के घर में अगर बच्चे को भेज रहे हैं तो उसकी आदतों को बदलना जरूरी है वहीं कुछ अच्छी आदतों को जोड़ना भी जरूरी है।

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Read More Articles on parenting in hindi

Disclaimer