गैस और पेट फूलने की समस्‍या को दूर करती हैं ये 3 औषधियां, सुबह आसानी से होता मलत्‍याग

वैज्ञानिकों ने कब्‍ज को एक बार फिर से परिभाषित किया है, जिससे लोगों को अपनी स्थिति पहचानने में मदद मिलेगी। ज्यादातर मामलों में, यह एक क्रॉनिक स्थिति है न कि एक्‍यूट।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Oct 01, 2019
गैस और पेट फूलने की समस्‍या को दूर करती हैं ये 3 औषधियां, सुबह आसानी से होता मलत्‍याग

अमेरिकन जर्नल ऑफ गैस्ट्रोएंटरोलॉजी में प्रकाशित एक जून 2019 के अध्ययन में उन आम लक्षणों के आधार पर कब्ज को फिर से परिभाषित किया गया है जिन पर विशेषज्ञों ने सहमति जताई थी। इस अध्ययन के शोधकर्ताओं के अनुसार इस जठरांत्र (Gastrointestinal) की स्थिति पेट की परेशानी, दर्द और सूजन; मलाशय की तकलीफ; हार्ड स्‍टूल; पेट फूलना और सूजन; रेक्‍टल डिस्‍कम्‍फर्ट। 

बहुत कम लोग कब्‍ज का इलाज कराने के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं। इसके बजाय, वे कब्ज का अपने दम पर हल करते हैं या जल्दी ठीक करने के लिए रेचक की मदद लेते हैं। हालांकि, कुछ प्राकृतिक जुलाब हैं जो इस जठरांत्र संबंधी बीमारी के लिए सबसे अच्छा काम करते हैं।

constipation 

ज्यादातर मामलों में, यह एक पुरानी स्थिति है, तीव्र नहीं है। तो, बहुत कम लोग इसका इलाज करने के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं। इसके बजाय, वे कब्ज का इंतजार करने के लिए अपने दम पर हल करते हैं या जल्दी ठीक करने के लिए रेचक करते हैं। हालांकि, कुछ प्राकृतिक रेचक औषधि (Natural laxatives) हैं जो इस जठरांत्र संबंधी बीमारी के लिए सबसे अच्छा काम करते हैं।

यह आंतों के लिए एक क्लिंजिंग एजेंट के रूप में कार्य करता है, इसमें मौजूद साल्‍ट मल को असानी से बाहर निकालने में मदद करता है। यह आपके शरीर को डिटॉक्स करने का एक शानदार तरीका भी है। यहां हम आपको कुछ रेचक औषधि के बारे में बता रहे हैं। ('गैस छोड़ने' पर होने वाली बदबू से हैं परेशान! तो ऐसे पाएं निदान!)

त्रिफला

इसमें तीन फल होते हैं- आंवला, हरितकी और विभीतकी। यह एक बेहतरीन रेचक औषधि है। यह पाचन और मल त्याग को विनियमित करने में मदद करता है। आप या तो गर्म पानी के साथ एक चम्मच ले सकते हैं या बिस्तर पर जाने से पहले या सुबह खाली पेट त्रिफला पाउडर को शहद के साथ मिलाकर खा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: कब्ज और गैस को रातों रात दूर करती है पपीते से बनी ये डिश

किशमिश

किशमिश फाइबर से भरे होते हैं और यह एक प्राकृतिक रेचक औषधि के रूप में कार्य करते हैं। यह उपाय दवा के दुष्प्रभावों के बिना, गर्भवती महिलाओं के लिए भी अद्भुत काम करता है। किशमिश खाने के और भी लाभ हैं। रात भर एक मुट्ठी पानी में भिगोएं। सुबह खाली पेट इन्‍हें सेवन करें। पानी को भी पी जाएं।

इसे भी पढ़ें: इन घरेलू तरीकों से करें पेट की गैस का कारगर इलाज

अंजीर

सूखे या पके अंजीर फाइबर से भरे होते हैं और यह एक प्राकृतिक रेचक के रूप में कार्य करते हैं। कब्ज से राहत के लिए, एक गिलास दूध में कुछ अंजीर उबालें, इस मिश्रण को रात को सोने से पहले पिएं। निश्चित करें कि मिश्रण को गुनगुना रहने तक पी जाएं। अंजीर को फल के तौर भी खा सकते हैं। 

Read More Articles On Home Remedies In Hindi

Disclaimer