Doctor Verified

ड‍िप्रेशन में नींद न आने के क्‍या कारण हो सकते हैं? डॉक्‍टर से जानें इसका सही इलाज

ड‍िप्रेशन में नींद न आने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जानें कारण और सही इलाज 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Apr 27, 2022Updated at: Apr 27, 2022
ड‍िप्रेशन में नींद न आने के क्‍या कारण हो सकते हैं? डॉक्‍टर से जानें इसका सही इलाज

ड‍िप्रेशन एक मानस‍िक रोग है ज‍िसके कारण कई तरह की मानस‍िक और शारीर‍िक समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है। अगर आपको ड‍िप्रेशन है तो अन‍िद्रा की समस्‍या भी हो सकती है। अन‍िद्रा की समस्‍या का असर आपकी सेहत पर पड़ता है ज‍िसके कारण वजन बढ़ना, आंखें कमजोर होना, थकान होना, काम में मन न लगने जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं इसल‍िए ड‍िप्रेशन के दौरान अन‍िद्रा की समस्‍या से बचना जरूरी है। इस लेख में हम ड‍िप्रेशन के दौरान अन‍िद्रा की समस्‍या का कारण और उपाय पर बात करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के बोधिट्री इंडिया सेंटर की काउन्‍सलिंग साइकोलॉज‍िस्‍ट डॉ नेहा आनंद से बात की। 

sleep problem

ड‍िप्रेशन में नींद क्‍यों नहीं आती है? (Sleep deprivation during depression causes)

  • ड‍िप्रेशन के दौरान ज्‍यादा सोचने या ओवरथ‍िक‍िंंग के कारण अन‍िद्रा की समस्‍या हो सकती है। 
  • अगर आप सही डाइट नहीं ले रहे हैं तो भी ड‍िप्रेशन के दौरान अन‍िद्रा की समस्‍या हो सकती है।
  • ड‍िप्रेशन के दौरान अनहेल्‍दी आदतों के श‍िकार होने के कारण भी अन‍िद्रा की समस्‍या हो सकती है।
  • अगर आप ड‍िप्रेशन के दौरान ज्‍यादा दवाएं या प‍िल्‍स का सेवन करते हैं तो भी आपको ड‍िप्रेशन की समस्‍या हो सकती है।
  • ड‍िप्रेशन के दौरान ओवरईट‍िंंग भी एक कारण हो सकता है ज‍िसके चलते आपको नींद न आ रही हो। 

इसे भी पढ़ें- लंबे समय से स्‍ट्रेस में रहने के कारण शरीर पर पड़ते हैं ये 4 प्रभाव, जानें कैसे करें बचाव

ड‍िप्रेशन में अन‍िद्रा का उपाय (Sleep deprivation during depression treatment)

अगर आपको ड‍िप्रेशन के दौरान अन‍िद्रा की समस्‍या होती है तो आप नीचे बताए गए उपायों को अपना सकते हैं- 

1. मोबाइल का इस्‍तेमाल ज्‍यादा न करें (Limit mobile usage) 

आपको मोबाइल का इस्‍तेमाल अवॉइड करना चाह‍िए। मोबाइल के ज्‍यादा इस्‍तेमाल से द‍िमाग च‍िड़च‍िड़ा हो जाता है। मानस‍िक और शारीर‍िक व‍िकास में भी बाधा आती है और मन अशांत रहता है। अगर आप ड‍िप्रेशन में है तो आपको अपना ध्‍यान केंद्र‍ित करने के ल‍िए क‍िताबें पढ़ना चाह‍िए या वॉक करें या संगीत सुनें पर उसके ल‍िए मोबाइल का यूज अवॉइड करें। मोबाइल व अन्‍य गैजेट्स के इस्‍तेमाल से मेलाटोन‍िन हार्मोन कम होता है और ड‍िप्रेशन की समस्‍या हो सकती है।  

2. वॉक पर जाएं (Walk)

ड‍िप्रेशन में अन‍िद्रा की समस्‍या है तो आपको रोजाना टहलने जाना चाह‍िए। सुबह वॉक करें और शाम के दौरान भी आपको टहलने जाना चाह‍िए। रोजाना वॉक करने से शरीर भी फ‍िट रहेगा और अच्‍छी नींद भी आएगी। रोजाना वॉक करने से मेटाबॉल‍िज्‍म भी अच्‍छा रहता है और पेट की समस्‍या भी नहीं होती। अन‍िद्रा के लक्षण नजर आएं तो रोजाना 30 से 40 म‍िनट वॉक के ल‍िए समय जरूर न‍िकालें।  

3. मेड‍िटेशन करें (Meditation in hindi)

meditation in hindi

ड‍िप्रेशन के दौरान मेड‍िटेशन का रोल अहम होता है। आपको हर द‍िन मेड‍िटेशन के ल‍िए समय न‍िकालना चाह‍िए। मेड‍िटेशन के ल‍िए सुबह 30 से 40 म‍िनट समय न‍िकालें। मेड‍िटेशन से 1 घंटा पहले और 1 घंटे बाद कुछ भी खाना अवॉइड करें। मेड‍िटेशन के ल‍िए शांत जगह का चुनाव करें, अगर आपको बीपी की समस्‍या है तो आप एक्‍सपर्ट की न‍िगरानी में मेड‍िटेशन कर सकते हैं।

4. संगीत सुनें (Listen music)

अन‍िद्रा की समस्‍या को दूर करने के ल‍िए आप रोजाना संगीत सुनें। संगीत सुनने से मन शांत होता है, ड‍िप्रेशन दूर होता है। आप संगीत सुनेंगे तो ध्‍यान भी केंद्र‍ित रहेगा और आप ड‍िप्रेशन की समस्‍या से बच सकते हैं। संगीत सुनने से मूड अच्‍छा रहता है, कई र‍िसर्च में ऐसा कहा गया है क‍ि संगीत की मदद से शारीर‍िक और मानस‍िक दर्द को कम क‍िया जा सकता है।    

इसे भी पढ़ें- खुश रहने के लिए जीवन में अपनाएं ये 5 आदतें, जिएं तनावमुक्त जिंदगी 

5. पौष्‍ट‍िक आहार लें (Take healthy diet)

आपको ड‍िप्रेशन के दौरान अच्‍छी नींद लेनी है तो पौष्‍ट‍िक आहार जरूर लें। आपको अपनी डाइट में फाइबर र‍िच फूड्स को शाम‍िल करना चाह‍िए और उतना ही खाएं ज‍ितनी भूख हो। कई लोग ओवरईट‍िंग करते हैं ज‍िसके कारण नींद न आने की समस्‍या हो सकती है। सोने से पहले आप हल्‍दी वाले दूध का सेवन कर सकते हैं पर सोने से ठीक पहले न खाएं। खाने और सोने के बीच कम से कम 4 घंटे का गैप होना चाह‍िए। 

अगर आपको ड‍िप्रेशन के दौरान अन‍िद्रा की समस्‍या है तो खुद से इलाज करने के बजाय डॉक्‍टर से संपर्क करें और सही इलाज करवाएं। 

Disclaimer