सर्दियों में कम पानी पीने से बढ़ सकता है ब्लड प्रेशर? डॉक्टर से जानें पानी की कमी से होने वाली गंभीर समस्याएं

सर्दी के मौसम में कम पानी पीने की आदत आपके लिए क्यों है नुकसानदायक? डॉक्टर से जानें ब्लड प्रेशर बढ़ने के अलावा और कौन सी हो सकती हैं समस्याएं।

Monika Agarwal
विविधWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jan 12, 2021
सर्दियों में कम पानी पीने से बढ़ सकता है ब्लड प्रेशर? डॉक्टर से जानें पानी की कमी से होने वाली गंभीर समस्याएं

पानी हमारे शरीर की मूलभूत जरूरतों में से एक है। पानी तो सभी पीते हैं, लेकिन अक्सर लोग तभी पानी पीते हैं, जब उन्हें प्यास लगती है। गर्मियों में तो फिर भी लोग ठीक मात्रा में पानी पी लेते हैं, लेकिन सर्दियों में प्यास जल्दी नहीं लगती है, जिसकी वजह से ज्यादातर लोग कम पानी पीते हैं। ये एक बड़ी गलती है, जो लंबे समय में आपकी सेहत को बुरी तरह नुकसान पहुंचा सकती है। सर्दियों में कम पानी पीने की आदत आपको कई बीमारियों और स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार बना सकती है।

डॉक्टर भूपेंद्र सिंह, कार्डियोलॉजिस्ट बताते हैं कि,"कभी-कभार कम पानी पीने पर शरीर कोई खास संकेत नहीं दर्शाता। लेकिन अगर यही क्रम बना रहता है तो मांसपेशियों में दर्द (muscles pain), जल्दी जल्दी सांस (breathing problem) लेना और ब्लड प्रेशर बढ़ जाना (high blood pressure) जैसी समस्याएं होने लगती हैं। इसी वजह से तापमान में गिरावट के साथ ही हमारे स्वास्थ्य में भी गिरावट आने लगती है और हम बहुत सी परेशानियों में खुद को घिरा हुआ पाते हैं।"

side effects of drinking less water

क्यों जरूरी है सर्दियों में भी पर्याप्त पानी पीना

पानी कम पीना एक बहुत बड़ी वजह है सर्दियों के दिनों में ब्लड प्रेशर बढ़ने की (rise in blood pressure)। सच्चाई यह है कि बाहर कितना ही ठंडा या कम तापमान हो, चाहे आपको भले ही प्यास ना महसूस हो रही हो, लेकिन आपके शरीर को सभी कार्यों को सुचारू रूप से चलाने के लिए उतने ही पानी की आवश्यकता होती है, जितनी गर्मी के दिनों में होती है। पानी हमारे शरीर में कई महत्वपूर्ण काम करता है, जैसे- ऑक्सीजन को सभी कोशिकाओं तक पहुंचाना, गंदगी की शरीर से बाहर निकालना, महत्वपूर्ण अंगों की रक्षा करना या उनको कुशनिंग करना, आंखों और त्वचा को नम रखना और शरीर में ब्लड फ्लो को सामान्य रखना या शरीर के तापमान को नियंत्रित करना (control blood flow and body temperature)।

इसे भी पढ़ें: क्या आप कम पानी पीते हैं? पेशाब का रंग आपको बता सकता है कि आपके शरीर में है पानी की कमी

पहले जानें पानी की जरूरत (Why Water is Essential)

देखा जाए तो बिना पानी के सब कुछ अधूरा है। क्योंकि पानी की कमी हमारे शरीर के लिए बिलकुल सही नहीं है। पानी की कमी से सर्दियों (Winter days) के मौसम में शरीर ना सिर्फ बाहर से बल्कि अंदर से भी शुष्क हो जाता है। जिस तरह से पानी गर्मी के दिनों में अत्यधिक गर्मी की थकान से बचाने में मदद करता है, वैसे ही सर्दी के दिनों में ठंडे तापमान के प्रति शरीर के लिए इन्सुलेशन का काम करता है (for insulation)। क्योंकि कम तापमान आपकी नसों को संकीर्ण कर देता है। ऐसे में हमें ये ध्यान रखना होगा कि जिस तरह हम गर्मियों के दिनों में ज्यादा पानी पीते हैं, ठीक उसी तरह सर्दियों के मौसम में भी ज्यादा पानी पीना चाहिए (drink more water)। जिससे शरीर में हाइड्रेशन बनी रहे। तो आगे जानते हैं कि सर्दियों में पानी की कमी से क्यों हाईब्लडप्रेशर की समस्या (high blood pressure) बढ़ जाती है।

drinking less water effects on health

कोशिकाओं के अंदर बाहर पानी की आवाजाही (Movement of Water)

अभी तक हम पानी की भूमिका की बात कर रहे थे जो कि ब्लड का एक हिस्सा है लेकिन कोशिकाओं के अंदर और बाहर पानी की आवाजाही कैसे संभव होती है? यह सब इलेक्ट्रोलाइट्स (electrolytes) की मदद से संभव होता है जो कि ब्लड में मौजूद होते हैं। यह कोशिकाओं तक पानी पहुंचाने या बाहर लाने के लिए साधन का काम करते हैं। पानी को कोशिकाओं तक पहुंचने और बाहर आने के लिए कोशिकाओं में अधिक पोटैशियम कंसंट्रेशन (concentration of potassium) की जरूरत होती है जबकि कोशिकाओं से बाहर लाने के लिए सोडियम कंसंट्रेशन (sodium concentration)। इन दोनों तत्वों को इलेक्ट्रोलाइट्स नियंत्रित करते हैं। इसलिए जब पानी कम पिया जाता है तो ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है (rise in blood pressure)। पानी हमारे अंगों के टिशूज को आवश्यक पोषक तत्वों के संचलन में भी सहायक है (water is essential)। अत: सर्दियों के इस मौसम में अगर पानी से जुड़ी जरूरत पूरी नहीं की जाती तो इससे आपके हाई ब्लडप्रेशर के साथ-साथ दिमाग पर भी असर हो सकता है।

कहीं दिल न हो जाए बीमार (For Healthy Heart)

पानी का सीधा कनेक्शन दिल से भी होता है। अगर शरीर में पानी की कमी है तो खून का बहाव (blood flow) धीमा हो जाएगा और आपके दिल को अपनी सामान्य स्वस्थ्य लय रखने में कठिनाई होगी। आप यह महसूस भी कर सकते हैं कि किसी किसी समय आपके दिल की धड़कन तेज हो जाती है। हमारा दिल हमारे शरीर में एक पम्प की तरह होता है। जिसके जरिये ब्लड हमारे पूरे शरीर में पहुंचता है।

अगर आप भरपूर पानी पिएंगे और खुद को हाइड्रेट (hydrate) रखेंगे तो आपका दिल भी हेल्दी रहेगा। अगर शरीर में हाइड्रेशन नहीं होगा तो दिल धीमी गति से धड़केगा। वहीं अगर हमारा शरीर हाइड्रेट रहेगा तो दिल भी तेजी से काम करेगा। आपके शरीर के सभी अंग भी तब सही ढंग से काम करेंगे। अगर ये अंग सही से काम करेंगे तो हाई ब्लडप्रेशर की समस्या भी आपको नहीं होगी।

पानी का ब्लडप्रेशर से कनेक्शन (Connection Between water and Blood Pressure)

अगर आप पानी नहीं पीते हैं तो जाहिर सी बात है कि इसका असर सीधा किडनी पर भी पड़ता है। पानी कम पीने के दौरान कोशिकाओं के आसपास एकत्र पानी ब्लड स्ट्रीम्स में जाकर ब्लड प्रेशर नियंत्रित (controls blood pressure) कर सकता है। लेकिन जब पानी की कमी के चलते आप शरीर में नमक की भी पूर्ति नहीं कर पाते तब उस समय यही पानी कोशिकाओं में अंदर और बाहर सुचारू रूप से कार्य नहीं कर पाता और पानी की कमी के साथ-साथ सोडियम की कमी ब्लड प्रेशर पर काफी बुरा असर डालती है।

water and high blood pressure

ब्लडप्रेशर में बदलाव क्यों है समस्या (Problem Related to Blood Pressure)

ब्लडप्रेशर की समस्या से शरीर के कार्डियक आउटपुट में कमी आ जाती है। शरीर के चारों ओर खून की मात्रा बढ़ना या घटना सीधे-सीधे ब्लडप्रेशर पर असर डालता है। बात यदि लो ब्लड प्रेशर की करें तो, लो ब्लडप्रेशर भी शरीर के लिए नुकसानदायक है। क्योंकि त्वचा में ब्लड फ्लो (Blood flow) कम होने से पसीने की दर कम हो सकती है। पसीना ना निकलना आपके शरीर के तापमान को बढ़ा सकता है। जो हीट स्ट्रोक का कारण बनता है। कभी-कभी अंग क्षति भी हो सकती है।

वहीं अगर बात हाई ब्लडप्रेशर की करें तो इससे हमारी किडनी, दिमाग और दिल पर भी गहरा असर पड़ता है। इससे हार्टअटैक, किडनी फेल, लकवा जैसी खतरनाक बिमारी हो सकती है। जिससे जान तक जा सकती है। इसलिए ब्लडप्रेशर में बदलाव एक बड़ी समस्या बन सकता है। जो गम्भीर है।

इसे भी पढ़ें: ये 5 संकेत बताते हैं कि आपके मस्तिष्क (Brain) को तुरंत है पानी की जरूरत, संकेत पहचानें और पिएं 1 ग्लास पानी

हर मौसम में पानी जरूरी (Importance of Water)

मौसम कोई भी हो पानी की कमी न तो कोई ड्रिंक पूरी कर सकती है और ना ही कुछ और। पानी की कमी से ना सिर्फ बीमारियाँ बढ़ती हैं बल्कि ब्लडप्रेशर की समस्या भी सामने आती है। शोध की मानें तो हाई ब्लडप्रेशर (High Blood Pressure) की समस्या 80 प्रतिशत पानी पर निर्भर करती है। इसलिए हर मौसम में ध्यान रखें की पानी की कमी ना हो।

अपने बिजी शेड्यूल में थोड़ा सा ब्रेक लें, और पानी को पीते रहें। अगर आप ट्रैवलिंग कर रहे हैं तो हमेशा अपने साथ पानी की बोतल रखें। खाने से साथ पानी का एक गिलास जरुर रखें।क्योंकि पानी का कनेक्शन हमारे ब्लडप्रेशर से है और ब्लडप्रेशर का कनेक्शन शरीर से जुड़े कई महत्वपूर्ण अंगों से है। इसलिए स्वस्थ्य रहने से लिए पानी से दोस्ती जरुर करें।

डॉक्टर भूपेंद्र सिंह, कार्डियोलॉजी, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल गाजियाबाद से बातचीत पर आधारित।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer