Expert

आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही नियम क्या है? जानें एक्सपर्ट से

Rules for drinking water: इंसान को स्वस्थ्य रहने के लिए भी दिन में कम से कम 8 गिलास पानी पीना चाहिए।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Nov 17, 2022 18:05 IST
आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही नियम क्या है? जानें एक्सपर्ट से

Rules for drinking water as per ayurveda: शरीर को हमेशा सेहतमंद रखने के लिए दिन में कम से कम 8 गिलास पानी पीना चाहिए। ये बात तो सब जानते हैं, लेकिन पानी किस तरह से पीना चाहिए और कब पीना चाहिए ये बात शायद 10 में 1 इंसान को ही पता होगी। आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने के भी सही नियम और समय होता है। आयुर्वेद के अनुसार अगर पानी सही तरीके न पिया जाए तो ये सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। आयुर्वेदिक एक्सपर्ट दीपक कुमार का कहना है कि निरोग और स्वस्थ्य रहने के लिए हमेशा घूंट-घूंट कर पानी पीना चाहिए।

घूंट-घूंट कर पानी पीने से बॉडी में पानी टेंप्रेचर के मुताबिक पहुंचता है और बीमारियों की संभावना कम हो जाती है। उन्होंने बताया कि आयुर्वेद में सुबह उठने से लेकर रात में सोने तक पानी पीने (rules for drinking water in hindi) के कुछ खास नियम होते हैं। आइए जानते हैं आयुर्वेद में पानी पीने के नियम क्या हैं?

इसे भी पढ़ेंः Tejpatta Tea Benefits: सर्दियों में पिएं तेजपत्ता की चाय, सेहत को मिलेंगे कई फायदे

आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही नियम क्या है? - Rules for drinking water as per Ayurveda

आयुर्वेद के अनुसार कभी भी खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए। खड़े होकर पानी पीने से सेहत को नुकसान पहुंचता है। एक्सपर्ट का मानना है कि पानी हमेशा बैठकर पीना चाहिए। बैठकर पानी पीने से यह शरीर में अच्छे तरीके से अवशोषित होता है।

हमेशा पानी गर्म या कमरे के तापमान का ही पीना चाहिए। कभी भी सीधे फ्रिज से निकाला हुआ पानी नहीं पीना चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार फ्रिज का पानी पीने से पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

आयुर्वेदिक एक्सपर्ट का कहना है कि व्यक्ति को निरोग रहने के लिए सुबह खाली पेट 1 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए। सुबह खाली पेट पानी पीने से मेटाबॉलिज्म बूस्ट होता है। साथ ही ये स्किन प्रॉब्लम से भी राहत दिलाने में मदद करता है।

पाचन में सुधार के लिए पानी पीने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि उबला हुआ पानी पिएं और इसकी मात्रा एक तिहाई या एक चौथाई या एक से दो गुना कम हो जाए।

इसे भी पढ़ेंः कच्ची सब्जियां खाने से सेहत को मिलते हैं ये 5 फायदे, जानें कौन सी सब्जी खाना है सुरक्षित

According to Ayurveda, when, how much and how to drink water?

आयुर्वेद के अनुसार कब, कितना और कैसे पीएं पानी? - According to Ayurveda, when, how much and how to drink water?

सुबह उठने के बाद खाली पेट 1 गिलास

दोपहर का भोजन करने के 1 घंटा पहले या बाद में।

कुछ खाने से 1 से डेढ़ घंटा पहले पानी पीना चाहिए।

रात को भोजन करने के 1 घंटे बाद पानी पीना चाहिए।

आयुर्वेद के अनुसार कभी भी खाना खाते हुए पानी नहीं पीना चाहिए। साथ ही आपको दिन के 8 गिलास पानी पीना अनिवार्य है इसके लिए एक साथ कई गिलास पानी नहीं पीना चाहिए। आपको तय समय के अनुसार 1 से डेढ़ घंटे के अंतराल में पानी पीना चाहिए।

आयुर्वेद के अनुसार पानी कब नहीं पीना चाहिए? - When should not drink water according to Ayurveda?

आयुर्वेद एक्सपर्ट के मुताबिक तभी भी गर्म खाना खाने के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए। गर्म खाना खाने के बाद पानी पीने से पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इसके साथ ही खीरा, ककड़ी, तरबूज, खरबूजा जैसे फल और सब्जियों का सेवन करने के बाद पानी नहीं पीना चाहिए। 

 
Disclaimer