खून देखकर आता है चक्कर और हो जाते हैं बेहोश तो करें ये 3 काम, इस फोबिया से बचने में मिलेगी मदद

कुछ लोग खून देखकर चक्कर खाने लगते हैं और बेहोश हो जाते हैं। क्या आपके साथ भी ऐसा होता है, जानें वजह।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 22, 2020
खून देखकर आता है चक्कर और हो जाते हैं बेहोश तो करें ये 3 काम, इस फोबिया से बचने में मिलेगी मदद

क्या आप नियमित रूप से रक्तदान करते आ रहे हैं या फिर आप साल में 5 से 6 बार खून की जांच कराते हैं? बहुत से लोगों के लिए रक्तदान करना या खून की जांच कराते रहना एक आम बात हो सकती है लेकिन कुछ लोगों के लिए ये बहुत मुश्किल और चुनौती भरा होता है। दरअसल होता यूं है कि कुछ लोग घाव से खून निकलते देख या टीका लगाते वक्त खून निकल जाने को देखकर बेहोश हो जाते हैं। उनका रिएक्शन आपके लिए हैरानी भरा हो सकता है लेकिन उनका डर बिल्कुल असली होता है।

blood

मेडिकल की भाषा में इस स्थिति को वैसोवेगल सिनकोप (तनाव की किसी स्थिति में आने पर दिल की धड़कन और रक्तचाप अचानक कम हो जाते हैं, जिसकी वजह से बेहोशी हो सकती है।) या न्यूरोकार्डियोडेनिक सिनकोप कहते हैं, जो एक आम घटना होती है। इस लेख में हम आपको ये बताने जा रहे हैं कि आखिर क्यों कुछ लोग खून देखकर डर जाते हैं।

सबसे पहले आपको बता दें कि खून देखकर डर लगना या बेहोश हो जाना एक प्रकार का फोबिया है, जिसे हीमोफोबिया कहते हैं। दुनियाभर में कुल आबादी का 1 से 2 फीसदी हिस्सा इस समस्या से जूझ रहा है। हालांकि इस फोबिया के लक्षण अन्य प्रकार के फोबिया से अलग होते हैं।

इसे भी पढ़ेंः  पुरुषों के इन 2 गुप्त रोगों में बड़े काम की है ये 1 छोटी सी चीज, जानें शरीर को मिलने वाले अन्य फायदे

बात करें लक्षणों की तो जब कोई व्यक्ति हीमोफोबिया से पीड़ित होता है को खून देखकर उसके दिल की धड़कन और ब्लड प्रेशर बहुत तेजी से कम होना शुरू हो जाती है। ब्लड प्रेशर में अचानक हुई कमी से मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह भी धीमा हो जाता है, जिसके कारण लोग अपनी सुध-बुध खो बैठते हैं। ब्लड प्रेशर में अचानक कमी को वैसोवेगल रिसपॉन्स कहते हैं।

हीमोफोबिया के अन्य लक्षण हैं

सांस फूलना।

छाती में दर्द। 

चक्कर आना। 

अचानक से सिरहन होना। 

दिल की धड़कन का अचानक तेज हो जाना।

कुछ लोगों को ये फोबिया अपने पूर्वजों से मिलता है यानी की ये वंशागत होता है। कुछ अध्ययनों में ये बताया गया है कि किसी व्यक्ति का नेचर से अधिक संवेदनशील या भावुक होने के पीछे भी जेनेटिक लिंक छिपा होता है।

blood

इसे भी पढ़ेंः  अब आपके शरीर का नॉर्मल टेम्परेचर 98.6 फारेनहाइट नहीं, जानें शोधकर्ताओं का बताया गया नया टेम्परेचर

वैसे वैसोवेगल सिनकोप एक सामान्य चिकित्सीय स्थिति है और इसको लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। हां ये स्थिति तब खतरनाक बन जाती है जब आप लंबे समय तक लो ब्लड प्रेशर की समस्या से परेशान रहें या फिर आपको अपना बीपी कम लगने लगे। बेहोश होना सामान्य है, जो जरूरत से ज्यादा गर्मी होने या फिर लंबे वक्त तक खड़े रहने जैसी किसी भी स्थिति द्वारा हो सकता है।

जिस क्षण आपको ये महसूस होता है कि आप बेहोश होने वाले हैं या आपको चक्कर आ रहे हैं तो बैठ जाए या फिर ऐसी जगह तलाशें, जिसकी सतह मजबूत हो। तेजी से इस स्थिति से उबरने के लिए कुछ देर तक लेट जाएं और अपने पैरों को उठाएं। इसके साथ ही जब भी आप खून की जांच के लिए जाएं या फिर सालाना मेडिकल चेक-अप कराते हैं तो इन बातों का ध्यान रखेंः 

शांत रहें। 

बॉडी को रिलेक्स रखें।

सुई की तरफ ध्यान न दें।

अगर आप इस समस्या से बहुत परेशान हैं तो आपके लिए डॉक्टर के पास जाने से बेहतर कोई विकल्प नहीं है।

Read more articles on Health News in Hindi

Disclaimer