क्या प्रेगनेंसी में रागी लड्डू खाना चाहिए? जानें इसके 5 फायदे

प्रेगनेंसी में अधिक फैट का सेवन न करने की सलाह दी जाती है। रागी में नैचुरल फैट पाया जाता है, जो सेहत के लिए काफी अच्छा माना जाता है।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Aug 01, 2022Updated at: Aug 01, 2022
क्या प्रेगनेंसी में रागी लड्डू खाना चाहिए? जानें इसके 5 फायदे

रागी एक ग्लूटेन फ्री अनाज है, जिसमें कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। अफ्रीकी देशों के बाद अब रागी की खेती भारत समेत दुनिया के 80 से ज्यादा देशों में होती है। खासकर प्रेगनेंसी में रागी का सेवन (Ragi during pregnancy) करना बहुत लाभकारी माना जाता है। प्रेग्नेंट महिलाओं को रागी की रोटी, दलिया और लड्डू खाने की सलाह दी जाती है। ये एक मोटा अनाज है, इसलिए इसे पकाने में थोड़ा वक्त लगता है। इसलिए ज्यादातर प्रेग्नेंट महिलाओं को रागी लड्डू खाने की सलाह दी जाती है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं प्रेगनेंसी में रागी के लड्डू खाने के 5 फायदे (Ragi ladoo during pregnancy)।

रागी में पाया जाता है नैचुरल फैट

प्रेगनेंसी में अधिक फैट का सेवन न करने की सलाह दी जाती है। रागी में नैचुरल फैट पाया जाता है, जो सेहत के लिए काफी अच्छा माना जाता है। रागी लड्डू को बनाने में गुड़ और ड्राई फ्रूट्स का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए इसमें विटामिन्स, फाइबर और कार्बोहाइड्रेट जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो प्रेगनेंसी में महिलाओं को एनर्जी देने में मददगार साबित होते हैं।

रागी में है कैल्शियम

प्रेगनेंसी में होने वाली मां को कैल्शियम की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। रागी में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है। प्रेगनेंसी में रागी लड्डू खाने से शिशु के दांत और हड्डियों के विकास में मदद मिलती है। एक अनुमान के मुताबिक लगभग 100 ग्राम में 344 मिलीग्राम कैल्शियम पाया जाता है।

इसे भी पढ़ेंः PMS से पीड़ित महिलाओं को राहत दिलाएंगे ये आयुर्वेदिक उपाय, जानें एक्सपर्ट से

Pregnancy Diet

अनिद्रा से दिलाता है राहत

प्रेगनेंसी के 5वें महीने के बाद प्रेग्नेंट महिलाओं को रात में नींद न आने की समस्या हो जाती है। ऐसे में रागी लड्डू का सेवन करने से अच्छी नींद आ सकती है। रागी लड्डू में एसिड ट्रिप्टोफैन पाया जाता है, जो अनिद्रा से लड़ने में मददगार साबित होता है। इसके साथ ही रागी में एमिनो एसिड, एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो महिलाओं को प्रेगनेंसी में होने वाले तनाव से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित होते हैं।

प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत

प्रेगनेंसी में मां और शिशु को प्रोटीन की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। प्रोटीन भ्रूण के विकास में मदद करता है। जो लोग शाकाहारी होते हैं, उन्हें प्रेगनेंसी में रागी लड्डू खाने की सलाह विशेष तौर पर जाती है, क्योंकि ये शरीर में प्रोटीन की आपूर्ति को पूरा करने में मददगार साबित हो सकता है।

कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने में मददगार

प्रेगनेंसी में इन दिनों महिलाओं को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या ज्यादा देखी जाती है। हाई ब्लड प्रेशर के कारण महिलाओं की नॉर्मल डिलीवरी की संभावना काफी कम हो जाती है। रागी के लड्डूओं में पाया जाने वाला लेसिथिन और मेथिओनिन होता है जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल प्रेगनेंसी में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मददगार साबित होता है। कई बार प्रेगनेंसी में महिलाओं को ग्लूटेन फ्री डाइट लेने के लिए कहा जाता है। रागी एक ग्लूटेन फ्री अनाज होता है, जो प्रेगनेंसी में भ्रूण को स्वस्थ रखने में मददगार साबित होता है।

इसे भी पढ़ेंः क्या प्रेगनेंसी में सीढ़ियां चढ़ना सुरक्षित है? जानें इसके फायदे, नुकसान और जरूरी सावधानियां

इसके साथ ही रागी कैल्शियम, अमीनो एसिड और आयरन का अच्छा सोर्स माना जाता है, जो ब्रेस्ट मिल्क बनाने में मददगार साबित हो सकता है। अगर आप प्रेग्नेंट हैं तो रागी के लड्डू का सेवन बिना किसी संकोच के कर सकती हैं। हालांकि एक दिन में 20 से 30 ग्राम से ज्यादा रागी का सेवन न करें।

 

 

Disclaimer