दांत दर्द, खांसी, पेट दर्द जैसी इन 6 समस्याओं को दूर करती है 'पुष्करमूल' जड़ी बूटी, जानें कैसे करें प्रयोग

पुष्करमूल के उपयोग से सेहत को कई फायदे होते हैं। वहीं इसकी अधिकता सेहते के लिए नुकसानदेह भी हो सकती है। जानते हैं इसके उपयोग करने का तरीका...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Sep 02, 2021Updated at: Sep 02, 2021
दांत दर्द, खांसी, पेट दर्द जैसी इन 6 समस्याओं को दूर करती है 'पुष्करमूल' जड़ी बूटी, जानें कैसे करें प्रयोग

बता दें कि पुष्करमूल कई महत्वपूर्ण जड़ी बूटियों में से एक है। इसके अंदर एंटीहिस्टामाइन, एंटी बैक्टीरियल, एंटी वायरल आदि कई ऐसे गुण मौजूद हैं जो शरीर से कई समस्याओं को दूर करने में उपयोगी हैं। हिंदी में इसे पुष्करमूल के साथ-साथ पोहकरमूल के नाम से भी जाना जाता है। वहीं अंग्रेजी में यह है ऑरिस रूट के नाम से जानी जाती है। बता दें कि आज का हमारा लेख इसी जड़ी-बूटी पर है। आज हम आपको अपने इसलिए के माध्यम से बताएंगे कि पुष्करमूल जड़ी-बूटी सेहत के लिए कितनी उपयोगी है। साथ ही इस्तेमाल करने के तरीके के बारे में भी जानेंगे। इसके लिए हमने आयुर्वेद संजीवनी हर्बल क्लिनिक शकरपुर, लक्ष्मी नगर के आयुर्वेदाचार्य डॉ एम मुफिक (Ayurvedacharya Dr. M Mufik) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

 

1 - गठिया की समस्या को करे दूर

गठिया की समस्या को दूर करने में पुष्करमूल आपके बेहद काम आ सकता है। ऐसे में आप पुष्करमूल के बीजों को अच्छे से पीसें और उसका एक लेप तैयार करें। अब उस लेप को प्रभावित स्थान पर लगाएं। ऐसा करने से न केवल गठिया की समस्या दूर होती है बल्कि जोड़ों के दर्द से भी राहत मिल सकती है।

2 - त्वचा संबंधित रोगों से दिलाए छुटकारा

त्वचा संबंधित रोगों को दूर करने में पुष्करमूल आपके बेहद काम आ सकता है। ऐसे में आप पुष्करमूल को पीसें और प्रभावित स्थान पर लगाएं। ऐसा करने से घाव, चोट, सूजन आदि में लाभ हो सकता है। इससे अलग अगर व्यक्ति पुष्करमूल का काढ़ा बनाएं और उस काढ़े से प्रभावित स्थान को धोए तो ऐसा करने से भी त्वचा रोगों से छुटकारा मिल सकता है।

इसे भी पढ़ें- नरकट (बड़ानल) जड़ है कई रोगों के इलाज में फायदेमंद, जानें इसका उपयोग

3 - बुखार से मिलेगा निजात

बुखार की समस्या को दूर करने में भी पुष्करमूल आपके बेहद काम आ सकता है। ऐसे में आप पुष्कर मूल के साथ-साथ तुलसी के पत्ते और छोटी पीपली को पीस लें और बने मिश्रण का सुबह और शाम सीमित मात्रा में सेवन करें। हालांकि मात्रा के लिए आपको डॉक्टर से संपर्क करना होगा। ऐसा करने से बुखार से राहत मिलेगी इसके अलावा बुखार के कारण अगर व्यक्ति का मन खाने में नहीं है तो इस मिश्रण के सेवन से व्यक्ति की भी खाने के प्रति रुचि जग सकती है।

4 - कान का दर्द हो दूर

कान के दर्द से राहत पाने में पुष्करमूल आपके बेहद काम आ सकता है। ऐसे में आप पुष्करमूल का रस तैयार करें और इस रस की एक या दो बूंद कानों में डालें। ऐसा करने से न केवल कान के दर्द से राहत मिलेगी बल्कि कान के दर्द के कारण होने वाले सर दर्द से भी छुटकारा मिल सकता है।

5 - खांसी से मिलेगी राहत

जो लोग खांसी या दमा से परेशान रहते हैं उन्हें बता दें कि पुष्करमूल आपकी समस्या को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है। ऐसे में यह लोग पुष्करमूल चूर्ण का प्रयोग शहद के साथ करें। ऐसा करने से न केवल श्वसन तंत्रिका में आई सूजन को दूर किया जा सकता है बल्कि खांसी, दमा टीबी आदि समस्याओं से भी राहत मिल सकती है।

इसे भी पढ़ें- नरकट (बड़ानल) जड़ है कई रोगों के इलाज में फायदेमंद, जानें इसका उपयोग

6 - दांत के दर्द में मिलेगा आराम

दांत संबंधित कई समस्याओं को दूर करने में पुष्करमूल आपके बेहद काम आ सकता है। ऐसे में आप पुष्करमूल का चूर्ण तैयार करें और दांतों पर मंजन की तरह मलें। ऐसा करने से ना केवल दांतों का दर्द दूर होता है बल्कि मुंह से आई बदबू, मौखिक स्वास्थ्य, मसूड़ों की कमजोरी आदि समस्याओं से भी छुटकारा मिल सकता है।

 

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि पुष्करमूल का उपयोग सेहत को कई समस्याओं से दूर करने में उपयोगी है। लेकिन इसकी अधिकता सेहत के लिए नुकसानदेह भी हो सकती है। ऐसे में इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। साथ ही एक्सपर्ट से यह भी जानें कि पुष्कर्मूल का सेवन कितनी मात्रा में किया जाए। 

 इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ shutterstock से ली गई हैं।

Read More Articles on ayurveda in hindi

Disclaimer