दांतों की कैविटी और सड़न को रोकने में मददगार है ये नया टूथ जेल, जानें क्‍यों खतरनाक होती है कैविटी

एक अध्‍ययन के अनुसार, शोधकर्ताओं ने एक बायोएक्टिव पेप्टाइड विकसित किया है, जो दांतों की सतहों को कोट करता है और दांतों की कैविटी को रोक सकता है। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Jan 24, 2020 09:34 IST
दांतों की कैविटी और सड़न को रोकने में मददगार है ये नया टूथ जेल, जानें क्‍यों खतरनाक होती है कैविटी

दांतों में कैविटी या झनझनाहट होना एक आम समस्‍या है, जिससे कि हर दूसरा व्‍यक्ति ग्रस्‍त है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी कैविटी या दांतों की समस्‍या को विश्व स्तर पर सबसे व्यापक गैर-संचारी रोग हैं। दांतों में कैविटी होने पर दांतों में ठंडा गर्म खाने पर झनझनाह या मसूड़ों से खून निकलना आम लक्षण हैं। हाल में हुए शोध की मानें, तो शोधकर्ताओं की टीम ने दांतों की कैविटी को रोकने के लिए एक नए टूथ जेल को ढ़ूढा है। यह आपके दांतों की कैविटी को रोकने मदद कर सकता है। क्‍योंकि इससे प्रयोगशाला प्रयोगों में मौजूदा लोगों के दांतों को ठीक करने में मदद मिली है।

कैसे किया जाता है डेंटल कैविटी का इलाज

डेंटल के पास कैविटी ड्रिल्‍ड और फिलिंग का दर्दनाक हो सकता है, लेकिन इसका इलाज न कराने पर दांतों की कैविटी और सड़न से दर्द, दांतों का नुकसान, संक्रमण और यहां तक कि गंभीर बीमारी भी हो सकती है। डेंटल कैविटी के लिए पारंपरिक उपचार में सड़े या खराब टिश्‍यू को हटाने और खाली जगह की फिलिंग की जाती है। जिसमें कि अमलगम या मिश्रित राल से छेद को भरना शामिल है।

हालांकि, यह प्रक्रिया स्वस्थ टिश्‍यू को नुकसान पहुंचा सकती है और रोगियों के लिए गंभीर परेशानी का कारण बन सकती है।

Dental Cavity

क्‍या कहता है शोध?

एसीएस एप्लाइड मटेरियल & amp जर्नल में प्रकाशितअध्‍ययन और चीन में हॉन्गकॉन्ग यूनिवर्सिटी की शोध टीम, दांतों की सड़न या कैविटी को रोकने और उनका इलाज करने के लिए दोतरफा रणनीति विकसित करना चाहती थी।

अध्ययन के शोधकर्ताओं मिंग वोंग और क्वान ली ली ने कहा, प्‍लाक बनाने वाले बैक्टीरिया द्वारा दांतों की सतह के उपनिवेशण को रोकते हैं, जो कैविटी का कारण बनते हैं, और निर्जलीकरण या मरम्मत को बढ़ाते हुए दांतों के इनेमल को कम करते हैं।

इसे भी पढें: युवाओं में डिप्रेशन की पहचान करना हुआ संभव शोधकर्ताओं ने खोजा एक नया टूल: रिसर्च

अध्‍ध्‍यन के निष्‍कर्ष 

शोधकर्ताओं ने अध्‍ध्‍यन में H5 नामक एक प्राकृतिक एंटी माइक्रोबियल पेप्टाइड पर अपने एंटी-कैविटी कोटिंग को आधारित किया। जिसमें उन्‍होंने मानव लार ग्रंथियों द्वारा उत्पादित, H5 दांत इनेमल पर सोखना और बैक्टीरिया और कवक की एक विस्तृत श्रृंखला को नष्ट कर सकता है।

टीम ने H5 के एक छोर में एक फॉस्फोसेरिन समूह जोड़ा, जिससे उन्होंने सोचा कि प्राकृतिक H5 की तुलना में इनेमल को ठीक करने के लिए अधिक कैल्शियम आयनों को आकर्षित करने में मदद मिल सकती है। अध्ययन के अनुसार, उन्होंने मानव दाढ़ के स्लाइस पर संशोधित पेप्टाइड का परीक्षण किया।

इसे भी पढें: उंगली को हिलाने पर होने वाली ये 2 दिक्कतें हो सकती हैं टाइप-2 डायबिटीज का शुरुआती संकेत, तुरंत लें इलाज

अध्ययन में कहा गया है कि प्राकृतिक H5 की तुलना में, नए पेप्टाइड ने दांत की सतह को अधिक मजबूती प्रदान की और इसने अधिक बैक्टीरिया को मार दिया। यह आपके दांतों की बैक्टिीरिया से रक्षा करने में भी मददगार है। 

शोधकर्ताओं ने कहा कि ब्रश करने के बाद, लोग किसी दिन अपने दांतों के लिए संशोधित पेप्टाइड को वार्निश या जेल के रूप में लागू कर सकते हैं।

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer