उंगली को हिलाने पर होने वाली ये 2 दिक्कतें हो सकती हैं टाइप-2 डायबिटीज का शुरुआती संकेत, तुरंत लें इलाज

उंगली को हिलाने पर होने वाली ये 2 परेशानियां हैं टाइप-2 डायबिटीज का शुरुआती संकेत, जानें इसके आम लक्षण। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 23, 2020
उंगली को हिलाने पर होने वाली ये 2 दिक्कतें हो सकती हैं टाइप-2 डायबिटीज का शुरुआती संकेत, तुरंत लें इलाज

टाइप-2 डायबिटीज (Type 2 diabetes) आमतौर पर जीवनभर रहने वाली एक ऐसी स्थिति है, जिसमें किसी व्यक्ति का ब्लड ग्लूकोज (शुगर) लेवल बहुत ज्यादा हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है कि क्योंकि हमारा पैंक्रियाज पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन हार्मोन रिलीज नहीं कर पाता है। इंसुलिन हार्मोन हमारे रक्त में ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार होता है। अगर ब्लड शुगर लेवल की नियमित जांच न की जाए या फिर इसका उपचार न किया जाए तो ये ह्रदय रोगों और स्ट्रोक जैसी घातक बीमारियों का कारण बन सकता है।

DIABETES

टाइप-2 डायबिटीज से जुड़े संकेतों को देखते हुए ये जरूरी हो जाता है कि सबसे पहले इस बीमारी का निदान किया जाए और ब्लड शुगर लेवल को कम करने के लिए कदम उठाए जाएं।

वैसे तो टाइप-2 डायबिटीज के कई संकेत होते हैं लेकिन आप कुछ संकेतों को बड़ी आसानी से पहचान सकते हैं। इसमें से एक शुरुआती संकेत है उंगलियों को चलाते वक्त उनमें अकड़न और उनका चटकना। इसके कारण उंगलियों में दर्द हो सकता है खासकर एक उंगली या फिर अंगूठे में। 

इस लक्षण को फ्लेक्सर टीनोसिनोविटिस कहते हैं और इसे ट्रिगर फिंगर के रूप में भी जाना जाता है। यह एक ऐसी स्थिति जिसमें उंगली की पट्टी के आसपास सूजन हो जाती है।

इसे भी पढ़ेंः खून देखकर आता है चक्कर और हो जाते हैं बेहोश तो करें ये 3 काम, इस फोबिया से बचने में मिलेगी मदद

स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं कि जब उंगलियों के खोल, जो कि जीवित ऊतकों में एक सुरक्षात्मक दायरा बना कर रखता है उसमें परेशानी होने लगती है, जिसके कारण फ्लेक्सर टेंडन सुचारू रूप से नहीं घूम पाता और उंगलियों को चलाने में मुश्किल आती है। फ्लेक्सर टेंडन उंगलियों और अंगूठे में हड्डियों के अग्रभाग को हड्डियों से जोड़ता है।

DIABETES

इसके अलावा अकड़न और छूने पर होने वाले दर्द व पूरी उंगली पर सूजन और लालपन हो सकता है। इसके साथ ही प्रभावित उंगली के आधार पर गांठ भी बन जाती है, जो दर्द करने लगती है।

विशेषज्ञ बताते हैं कि इसके कारण उंगली पूरे तरीके से सीधी नहीं हो पाती और ऐसे लगने लगता है कि जैसे उंगली जाम हो गई है, इसके कारण उंगली को हिलाने-डुलाने में भी दिक्कत होने लगती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, डायबिटीज के 11 फीसदी मरीजों में फ्लेक्सर टीनोसिनोविटिस होती है जबकि गैर डायबिटीज मरीजों में ये दर एक फीसदी से कम होती है।

इसे भी पढ़ेंः पुरुषों के इन 2 गुप्त रोगों में बड़े काम की है ये 1 छोटी सी चीज, जानें शरीर को मिलने वाले अन्य फायदे

विशेषज्ञ बताते हैं कि लंबे अरसे से हाई ब्लड शुगर रहना फ्लेक्सर टीनोसिनोविटिस के होने की संभावना को बहुत ज्यादा बढ़ा देता है।

टाइप-2 डायबिटीज के आम संकेत  (common signs of type 2 diabetes)

जरूरत से ज्यादा पेशाब आना, खासकर रात में। 

हर वक्त प्यास लगना।

बहुत ज्यादा थकान होना। 

बिना वजन कम करने के बावजूद वजन में कमी।

गुप्तांगों पर खुजली होना। 

घाव को भरने में बहुत ज्यादा वक्त लगना। 

धुंधला-धुंधला दिखाई देना।

Read more articles on Health News in Hindi

Disclaimer