नाभि क्यों फूलती है? जानें नाभि में सूजन के कारण और इसका खतरा बढ़ाने वाले कारक

नाभि में सूजन की समस्या अधिकतर शिशुओं मेें देखी जाती है। कुछ मामलों में वयस्कों को भी यह परेशानी हो सकती है। आइए जानते हैं इसके कारणों के बारे में-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Apr 28, 2022Updated at: Apr 28, 2022
नाभि क्यों फूलती है? जानें नाभि में सूजन के कारण और इसका खतरा बढ़ाने वाले कारक

जन्म के बाद कुछ शिशुओं की नाभि अन्य शिशुओं की तुलना में अधिक उभरी (Umbilical Hernia in Hindi) हुई और बड़ी दिखती है। सामान्य अवस्था में यह स्थिति कुछ ही दिनों में ठीक हो जाती है। उभरी और बड़ी नाभि को ही नाभि में सूजन की शिकायत कहते हैं। यह एक सामान्य परिस्थिति हो सकती हैं। हालांकि, अम्बिलिकल हर्निया (Umbilical hernia) की वजह से भी शिशुओं की नाभि में सूजन की परेशानी देखी गई है। यह समस्या सामान्य से गंभीर भी हो सकती है। आमतौर पर शिशुओं में अम्बिलिकल हर्निया की समस्या देखी गई है। लेकिन कुछ स्थितियों में वयस्कों में भी यह समस्या हो सकती है। अधिकतर मामलों में 2 वर्ष से पहले के शिशुओं में इस तरह की परेशानी देखी गई है। यह समस्या खुद ब खुद ठीक हो  जाती है। हालांकि, कुछ स्थितियों में 5 वर्ष तक भी यह स्थिति देखने को मिल सकती है। वहीं, अगर वयस्कों में इस तरह की स्थिति दिखने पर नाभि की सर्जरी करके इसको ठीक करने की कोशिश की जाती है। आइए विस्तार से जानते हैं नाभि में सूजन किन कारणों से होता है और इसकी क्या गंभीरता हो सकती है? 

नाभि में सूजन के लक्षण (Umbilical hernia Symptoms in Hindi)

अम्बिलिकल हर्निया या नाभि में सूजन की स्थिति में नाभि के आसपास सजून और उभार जैसा दिखता है। बच्चे के रोने पर, खांसने है या फिर शरीर में किसी तरह के खिंचाव के दौरान यह उभार दिखता है। बच्चों में अम्बिलिकल हर्निया आमतौर पर दर्द रहित होते हैं। वयस्कों की नाभि में सूजन आमतौर पर पेट की परेशानी के कारण दिखती है। 

इसे भी पढ़ें - नाभि पर दूध लगाने से दूर होती हैं शरीर की कई समस्याएं, जानें इसे लगाने के 7 तरीके और फायदे

डॉक्टर को कब दिखाने की है जरूरत?

अगर आपको अम्बिलिकल हर्निया (Umbilical hernia) की आशंका महसूस हो रही है, तो इस स्थिति में तुरंत डॉक्टर से बात करें। इसके अलावा कुछ स्थितियों में आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेने की जरूरत हो सकती है। जैसे-

  • नाभि में सूजन के साथ दर्द होना
  • बच्चों को नाभि में सूजन और उल्टी होना
  • हर्निया की जगह पर कोमलता, सूजन दिखना।

बच्चों के अलावा अगर वयस्कों में भी इस तरह की परेशानी दिख रही है, तो डॉक्टर से तुरंत सलाह लें। यदि नाभि में उभार दर्दनाक या कोमल हो जाए, यह एक आपातकालीन स्थिति हो सकती है। इस स्थिति में तुरंत डॉक्टरी सलाह की आवश्यकता हो सकती है।

नाभि में सूजन के कारण (Umbilical hernias Causes in Hindi)

जन्म के करीब 2 से 3 साल तक शिशुओं के शरीर का विकास काफी तेजी से होता है। इस दौरान अगर कोई आंतरिक अंग शिशु के पेट के कमजोर हिस्से पर दबाव डालता है, तो उस हिस्से पर उभार या सूजन होने लगती है। इस स्थिति को अम्बिलिकल हर्निया कहा जाता है। वहीं, वयस्कों की बात कि जाए, तो इस परेशानी के होने की संभावना काफी कम होती है। हालांकि, कुछ स्थितियों में वयस्कों को भी यह परेशानी हो सकती है। जैसे- 

  • मोटापा
  • एक से अधिक गर्भधारण करना
  • पेट में किसी तरह का द्रव होना। 

नाभि में सूजन के जोखिम

अम्बिलिकल हर्निया (Umbilical hernia) बच्चों में होने वाली सबसे आम समस्या है। यह मुख्य रूप से प्रीमैच्योर बेबीज को प्रभावित करती है। साथ ही जिन बच्चों का वजन काफी कम होता है। उन्हें भी यह समस्या प्रभावित कर सकती है। 

इसे भी पढ़ें - नाभि पर चंदन लगाने के फायदे: नाभि पर चंदन का तेल और लेप लगाने से दूर होती हैं ये 6 समस्याएं

नाभि में सूजन की जटिलताएं

बच्चों की नाभि में सूजन काफी सामान्य (Navel Swelling Risks Factors in Hindi)  है, यह समय के साथ-साथ ठीक हो जाती है। हालांकि, कुछ मामलों  में यह गंभीर हो सकता है, जैसे पेट का उभड़ा हुआ ऊतक कहीं फंस जाना। फंसी हुई आंत के हिस्से में ब्लड सप्लाई रूक जाना या कम होना। पेट में दर्द या किसी तरह की क्षति होना। अगर किसी कारण से आंत पूरी तरह से फट गया है, तो ब्लड का सप्लाई पूरी तरह से रूक जाता है। ऐसे में शिशु की मृत्यु भी हो सकती है।

नाभि में सूजन एक सामान्य से लेकर गंभीर परिस्थिति भी हो सकती है। ऐसे में अगर आपको नाभि में किसी तरह की परेशसानी नजर आए, तो तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें। ताकि इसकी गंभीरता का समय पर इलाज किया जा सके।

Disclaimer