Doctor Verified

प्रेगनेंसी के दौरान माइग्रेन के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इसके लक्षण और इलाज

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं में माइग्रेन की समस्या शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के अलावा कई कारणों से हो सकती है, जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Feb 28, 2022Updated at: Feb 28, 2022
प्रेगनेंसी के दौरान माइग्रेन के क्या कारण हो सकते हैं? जानें इसके लक्षण और इलाज

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में होने वाले तमाम तरह के बदलाव की वजह से महिलाओं में तमाम तरह की समस्याएं होती हैं। प्रेगनेंसी के दौरान माइग्रेन (Migraine in Pregnancy) या गंभीर सिरदर्द की समस्या अक्सर महिलाओं में होती है। इसके कई कारण हो सकते हैं। दरअसल माइग्रेन भी एक प्रकार का सिरदर्द ही है जिसमें सिर के एक साइड में गंभीर दर्द और तनाव का अनुभव होता है। गर्भावस्था में इस समस्या के कारण महिलाओं को तकलीफ का सामना करना पड़ता है। आमतौर पर प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले सिरदर्द को ज्यादा खतरनाक या चिंताजनक नहीं माना जाता है लेकिन कुछ मामलों में प्रेगनेंसी के समय होने वाले सिरदर्द काफी गंभीर भी हो सकते हैं। गर्भावस्था के दुरान हार्मोनल बदलाव, शरीर में मौजूद खून की मात्रा में परिवर्तन, शरीर के वजन में बदलाव और अन्य कारण सिरदर्द के लिए जिम्मेदार माने जा सकते हैं। आइये विस्तार से जानते हैं इस समस्या के कारण, लक्षण और इलाज के बारे में।

प्रेगनेंसी में माइग्रेन के कारण (Migraine in Pregnancy Causes in Hindi)

Migraine-During-Pregnancy

प्रेगनेंसी में माइग्रेन या गंभीर सिरदर्द की समस्या कई कारणों से हो सकती है। ज्यादातर महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान माइग्रेन की समस्या शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव की वजह से होती है। स्टार हॉस्पिटल की स्त्री और प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ विजय लक्ष्मी के मुताबिक प्रेगनेंसी में माइग्रेन की समस्या किस कारण से होती है इसके बारे में सटीक जानकारी दे पाना मुश्किल है। महिलाओं में प्रेगनेंसी के दौरान तमाम तरह के बदलाव होते हैं। प्रेगनेंसी में महिलाओं के शरीर में हार्मोनल बदलाव माइग्रेन का सबसे बड़ा कारण माना जाता है। एस्ट्रोजन हॉर्मोन का असंतुलन शरीर में तेजी से होता है जिसके कारण ज्यादातर महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान माइग्रेन की समस्या से गुजरना पड़ता है। प्रेगनेंसी में माइग्रेन के कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार से हैं।

इसे भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान स्त्रियों को हो सकती हैं ये 7 समस्याएं, एक्सपर्ट से जानें कैसे करें बचाव

  • शरीर के वजन में असंतुलन बनने के कारण।
  • शरीर में मौजूद खून की मात्रा में बदलाव होने की वजह से।
  • मतली और उल्टी होने के कारण सिरदर्द की समस्या।
  • असंतुलित खानपान और खराब पोषण की वजह से भी महिलाओं में प्रेगनेंसी के दौरान सिरदर्द हो सकता है।
  • नींद से जुड़ी समस्याओं के कारण सिरदर्द।
  • स्ट्रेस, एंग्जायटी और अन्य मानसिक स्थितियों की वजह से सिरदर्द।
  • महिलाओं में प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता के कारण माइग्रेन की समस्या।
  • प्रेगनेंसी के दौरान शारीरिक गतिविधियों में कमी की वजह से सिरदर्द।
  • फूड एलर्जी होने पर डेयरी प्रोडक्ट्स और चॉकलेट आदि खाने की वजह से सिरदर्द।
  • प्रेगनेंसी के दौरान हाइपरटेंशन होने की वजह से सिरदर्द की समस्या।
  • सांस लेने में दिक्कत होने की वजह से सिरदर्द।

प्रेगनेंसी में माइग्रेन के लक्षण (Migraine During Pregnancy Symptoms)

प्रेगनेंसी के दौरान माइग्रेन की समस्या में महिलाओं में गंभीर सिरदर्द के अलावा कई अन्य लक्षण भी देखे जाते हैं। प्रेगनेंसी में माइग्रेन के लक्षण हर महिला में अलग-अलग हो सकते हैं। आमतौर पर महिलाओं में माइग्रेन की समस्या होने पर आंख के पीछे और सिर की एक साइड में गंभीर दर्द होता है। इसके अलावा प्रेगनेंसी के दौरान माइग्रेन की समस्या के लक्षण इस प्रकार से दिखाई देते हैं।

  • तनाव के साथ सिरदर्द की समस्या।
  • माइग्रेन की तरह से सिरदर्द होना।
  • सिर के किसी हिस्से में दर्द और तनाव।
  • उल्टी और मतली की समस्या।
  • क्लस्टर सिरदर्द की समस्या।
  • आंख के आसपास दर्द के साथ सिरदर्द।
  • सिरदर्द के साथ आंखों में दर्द।
  • रुक-रुक कर सिरदर्द होना।

प्रेगनेंसी में माइग्रेन की समस्या का इलाज (Migraine During Pregnancy Treatment)

प्रेगनेंसी के दौरान माइग्रेन की समस्या हर महिला में अलग-अलग कारणों से हो सकती है। इस समस्या के लक्षण भी हर महिला में अलग-अलग देखे जाते हैं। प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं में सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या मुख्यतः शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों की वजह से होती है। ऐसे में महिलाओं को माइग्रेन के ट्रिगर्स को पहचान कर उससे बचना चाहिए। कई बार खानपान भी माइग्रेन की समस्या का कारण बन सकता है। इसलिए संतुलित और पौष्टिक खानपान अपनाना चाहिए। इसके अलावा अगर आपको प्रेगनेंसी के दौरान गंभीर रूप से माइग्रेन की समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो सबसे पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए। डॉक्टर जांच के बाद आपको दवाओं के सेवन की सलाह दे सकते हैं।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer