Doctor Verified

एक्‍ज‍िमा (खुजली रोग) होने पर लाइफस्‍टाइल में करें ये 4 बदलाव, नहीं बढ़ेगी बीमारी

अगर आपको एक्‍ज‍िमा यानी खुजली रोग है तो आपको अपनी लाइफस्‍टाइल में कुछ जरूरी बदलाव करने चाह‍िए 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 04, 2022Updated at: Jun 04, 2022
एक्‍ज‍िमा (खुजली रोग) होने पर लाइफस्‍टाइल में करें ये 4 बदलाव, नहीं बढ़ेगी बीमारी

एक्‍ज‍िमा एक स्‍क‍िन से जुड़ा हुआ रोग है ज‍िसके हो जाने पर स्‍क‍िन में रेडनेस या लाल रंगे के धब्‍बे नजर आते हैं। लोग अक्‍सर इन्‍हें नॉर्मल स्‍क‍िन एलर्जी समझकर नजरअंदात कर देते हैं पर आपको बता दें क‍ि इसे ही मेड‍िकल भाषा में एक्‍ज‍िमा के नाम से जाना जाता है। एक्‍ज‍िमा की बीमारी को आम भाषा में खुजली का रोग कहा जाता है। ऐसा नहीं है क‍ि एक्‍ज‍िमा रोग केवल शारीर‍िक स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभाव‍ित करता है बल्‍क‍ि ये आपके मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य को भी प्रभाव‍ित कर सकता है। इस बीमारी से पीड़‍ित व्‍यक्‍त‍ि में आत्‍म व‍िश्‍वास की कमी हो सकती है। एक्‍ज‍िमा रोग की बात करें तो ये रोग मुख्‍य रूप से पीठ, पेट, हाथ, मुंह, कान के पास होता है। एक्‍ज‍िमा रोग के पीछे कई कारण हो सकते हैं। गंदगी के कारण, कैम‍िकल वाले शैंपू के इस्‍तेमाल, शरीर को साफ न करने के कारण भी ये रोग हो सकता है। एक्‍ज‍िमा रोग को जल्‍दी ठीक करने के ल‍िए आपको दवा के साथ कुछ जरूरी लाइफस्‍टाइल बदलावों को अपने रूटीन में शाम‍िल करना चाह‍िए ज‍िनके बारे में हम आगे बात करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।     

skin care eczema 

1. शरीर की सफाई पर ध्‍यान दें (Maintain hygiene) 

आप एक्‍ज‍िमा का इलाज ले रहे हैं या उसी दौर से गुजर रहे हैं तो एक बात का खास ख्‍याल रखें क‍ि आपको अपने शरीर की साफ-सफाई पर ध्‍यान देना है। स्‍नान लेने के बाद मॉइश्‍चराइजर एप्‍लाई करें और 10 से 15 म‍िनट से ज्‍यादा स्‍नान न लें। इसके अलावा आपको ज्‍यादा ठंडा या ज्‍यादा गरम पानी का इस्‍तेमाल भी अवॉइड करना चाह‍िए।   

इसे भी पढ़ें- इन कारणों से हो सकता है आपको एक्जिमा (खुजली) की समस्या, जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

2. नींद पूरी करके उठें और समय पर सोएंं (Take proper sleep)

आपको अपनी नींद पूरी करके उठना चाह‍िए साथ ही समय पर सोएं ताक‍ि आप तनाव के श‍िकार न हों, तनाव के कारण भी एक्‍ज‍िमा रोग बढ़ जाता है और आपको नींद न पूरी करने से तनाव बढ़ता है इसल‍िए नींद का सीधा कनेक्‍शन एक्‍ज‍िमा रोग से है। अगर आपको एक्‍ज‍िमा रोग हो गया है तो सही लाइफस्‍टाइल फॉलो करें और एक द‍िन में 7 से 8 घंटे की नींद पूरी करें।    

3. कैम‍िकल युक्‍त प्रोडक्‍ट्स को रूटीन में शाम‍िल न करें 

आप इस बात का खास ख्‍याल रखें क‍ि आप साबुन का ज्‍यादा इस्‍तेमाल न करें, साबुन में बहुत से कैम‍िकल मौजूद होते हैं ज‍िस कारण से आपकी स्‍क‍िन में एक्‍ज‍िमा के लक्षण बढ़ सकते हैं। इसके अलावा आप बाजार में म‍िलने वाले मॉइश्‍चराइजर का ज्‍यादा इस्‍तेमाल न करें क्‍योंक‍ि उनमें मौजूद कैम‍िकल्‍स से आपकी स्‍क‍िन खराब हो सकती है। इसके अलावा आप ऐसे प्रोडक्‍ट्स से भी दूर रहें ज‍िनमें फ्रेगरेंस ज्‍यादा होती है।    

इसे भी पढ़ें- चेहरे पर लाल दाने एक्ने (मुहांसे) हैं या एक्जिमा? जानें दोनों में अंतर और इन्हें ठीक करने के उपाय

4. डाइट में जरूरी बदलाव करें (Necessary diet changes) 

  • आपको अपनी डाइट में जरूरी बदलाव करने चाह‍िए, अगर आपको एक्‍ज‍िमा रोग है तो आपको डेयरी प्रोडक्‍ट्स का ज्‍यादा सेवन नहीं करना चाह‍िए। 
  • अगर एक्‍ज‍िमा रोग है तो आपको सोया के उत्‍पाद, नट्स का सेवन, अंडे का सेवन भी अवॉइड करना चाह‍िए। 
  • एक्‍ज‍िमा की बीमारी से बचने के ल‍िए आपको तेल युक्‍त भोजन को भी पूरी तरह से अवॉइड करना चाह‍िए, इसके अलावा अपनी डाइट में ज्‍यादा म‍िर्च-मसाले खाने को भी शाम‍िल न करें।  
  • एक्‍ज‍िमा रोग होने पर आप ल‍िक्‍व‍िड डाइट बढ़ा दें और रोजाना 8 से 10 ग‍िलास पानी का सेवन करें इसके अलावा आप फाइबर र‍िच फूड्स का सेवन जरूर करें।   

इन बातों का ध्‍यान रखें 

  • अपनी बॉडी का तापमान भी बरकरार रखना जरूरी है क्‍योंक‍ि अगर आपको ज्‍यादा गर्मी लगेगी या पसीना आएगा तो भी एक्‍ज‍िमा के लक्षण बढ़ सकते हैं। 
  • आपको धूल से दूर रहना चाह‍िए, धूल या आसपास गंदगी से एक्‍ज‍िमा के लक्षण बढ़ सकते हैं और आपको समस्‍या हो सकती है। 
  • अगर आपको एक्‍ज‍िमा रोग है तो आपको बार-बार स्‍क‍िन को छूना भी अवॉइड करना चाह‍िए। अगर आपको स्‍क‍िन में खुजली होती है तो भी आप हल्‍के हाथ से स्‍क‍िन को सहलाएं पर आपको स्‍क्रैच या रब करना अवॉइड करना चाह‍िए।    

अपने रूटीन में ये जरूरी बदलाव करके आप एक्‍ज‍िमा रोग से जल्‍दी छुटकारा पा सकते हैं इसके साथ ही डॉक्‍टर की बताई हुई दवा का सेवन या इस्‍तेमाल करना न भूलें। 

Disclaimer