जीन और भोजन के बीच क्या है संबंध? जानें कैसे ये हमारे पेट के स्वास्थ्य के लिए है मददगार

ये तो आप जानते होंगे कि जीन आपके शरीर में कितनी अहम भूमिका निभाता है लेकिन क्या ये जानते हैं वो आपके पेट के स्वास्थ्य पर क्या असर करता है। जानिए।

Vishal Singh
Written by: Vishal SinghUpdated at: Aug 31, 2020 17:50 IST
जीन और भोजन के बीच क्या है संबंध? जानें कैसे ये हमारे पेट के स्वास्थ्य के लिए है मददगार

हमारे शरीर में मौजूद जीन भौतिक लक्षणों को निर्धारित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जैसे हम कैसे दिखते हैं और हमारे बारे में अन्य सामान। वे जानकारी ले जाते हैं जो आपको बनाती है कि आप कौन हैं और आप क्या दिखते हैं: घुंघराले या सीधे बाल, लंबे या छोटे पैर, यहां तक कि आप कैसे मुस्कुरा सकते हैं या हंस सकते हैं। इनमें से कई चीजें एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक एक परिवार में जीन द्वारा ही जाती हैं। ऐसे ही हमारे पेट और भोजन पर भी जीन का काफी असर होता है। इसलिए आज हम इस लेख के जरिए ये समझने की कोशिश करेंगे कि जीन और हमारे द्वारा सेवन करने वाले भोजन के बीच क्या संबंध है और जीन हमारे पेट के स्वास्थ्य के लिए कैसे मददगार हैं। 

healthy gut

जीन और भोजन के बीच क्या है संबंध?

पेट के स्वास्थ्य के लिए माइक्रोबायोम बैक्टीरिया का पारिस्थितिक तंत्र है जो आपके गैस्ट्रो-आंत्र पथ में रहता है। इसका कामकाज उचित पाचन स्वास्थ्य से लेकर मानसिक स्वास्थ्य तक हर चीज से जुड़ा हुआ है। जब आपका माइक्रोबायोम मुख्य रूप से अच्छे आंत बैक्टीरिया के साथ आबादी है, तो आप बेहतर मूड, बढ़ी हुई प्रतिरक्षा और ज्यादा कुशल मस्तिष्क के रूप में खुद को महसूस कर सकते हैं। लेकिन अगर खराब बैक्टीरिया समय की विस्तारित अवधि के लिए ले लेता है - जो बीमारी, अस्वास्थ्यकर आहार, तनाव और दूसरे खतरनाक कारकों के कारण हो सकता है, तो आप संभावित रूप से सूजन, जीआई समस्याओं और यहां तक कि स्वास्थ्य के मुद्दों के खतरों की ओर जाने लगते हैं। 

इसे भी पढ़ें: धमनियों में जमा प्लाक को आयुर्वेदिक तरीके से हटाएं, 5 चीजों से बनाएं 'हर्बल चाशनी' और सुबह खाली पेट करें सेवन

भोजन जीन अभिव्यक्ति को प्रभावित करता है

नार्वे विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (NTNU) के शोधकर्ता ने कुछ ज्यादा वजन वाले लोगों को अलग-अलग तरह का आहार खिलाया और जीन अभिव्यक्ति पर इसके प्रभाव का अध्ययन किया है। जीन अभिव्यक्ति उस प्रक्रिया को संदर्भित करता है जहां एक जीन के डीएनए अनुक्रम से जानकारी को एक पदार्थ में प्रोटीन में अनुवादित किया जाता है, जिसका इस्तेमाल बॉडी में सेल्स की संरचना में किया जाता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, अध्ययन में पाया गया कि 65 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट वाला एक आहार, जो अक्सर कुछ भोजन में औसतन खाता है, एनटीएनयू के जीव विज्ञान के प्रोफेसर बेरीट जोहानस कहते हैं," कुछ समय में जीन की कई कक्षाएं काम करती हैं। 

पेट के स्वास्थ्य के लिए कैसे मददगार है जीन

हम सभी के पेट में बैक्टीरिया एक महत्वपूर्ण पदार्थों में बस प्रीबायोटिक फाइबर को तोड़ने का काम करते हैं, इसके अलावा जीन कैसे काम करते हैं, यह भी प्रभावित कर सकते हैं। आंत स्वास्थ्य और सूक्ष्म जीव उस का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। फिर भी, हमारे जीवाणुओं की शक्तियां भलाई के लिए विनिर्माण पदार्थों से कहीं आगे होती हैं। जीन बहुत माइक्रोबायोम अनुसंधान बृहदान्त्र में बैक्टीरिया पर ध्यान केंद्रित करते हैं, आपकी छोटी आंत में भी रोगाणु होते हैं। यह वह जगह है जहां शोधकर्ताओं ने जवाब की तलाश की कोशिश की है। 

इसे भी पढ़ें: पेट के फ्लू या वायरल गैस्ट्रोएन्टेरिटिस बचने में मदद करेंगे ये प्राकृतिक घरेलू उपाय

कैसे करते हैं काम

आपको बता दें कि जब वैज्ञानिकों ने 24 घंटे की अवधि में एकत्र कोशिकाओं में जीन गतिविधि के स्तर की तुलना की, तो उन्हें कुछ दिलचस्प परिणाम मिले। चूहों की कोशिकाओं में दिखा कि विशिष्ट कामों के लिए जीन की अभिव्यक्ति में वृद्धि हुई और लयबद्ध रूप से गिरावट आई। इसके विपरीत, रोगाणु-मुक्त चूहों की जीन अभिव्यक्ति ज्यादा रही। इसलिए जीन का आपके पेट के स्वास्थ्य पर असर होता है, आपकी पाचन क्रिया कैसी है ये भी जीन पर निर्भर करती है और इससे आपकी इम्यून सिस्टम पर भी फर्क पड़ता है। 

 

Read More Article On Miscellaneous In Hindi 

 

Disclaimer