Sputnik V: स्पूतनिक वी वैक्सीन लेने के बाद दिखने वाले साइड इफेक्ट्स और इससे जुड़ी जरूरी बातें

रूस की स्पूतनिक वी वैक्सीन के भारत में इस्तेमाल की अनुमति मिलने पर जानें इसका डोज लेने के बाद दिखने वाले साइड इफ़ेक्ट और इससे जुड़ी बातों के बारे मे।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 20, 2021
Sputnik V: स्पूतनिक वी वैक्सीन लेने के बाद दिखने वाले साइड इफेक्ट्स और इससे जुड़ी जरूरी बातें

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) का कहर लगातार जारी है और इसकी चपेट में आकर हजारों लोग रोजाना अपनी जान गवां रहे हैं। हालांकि इन दिनों कोरोना के नए मामलों में कुछ कमी आयी है लेकिन एक्सपर्ट्स और वैज्ञानिक कोरोना के तीसरी लहर के आने की चेतावनी भी दे रहे हैं। इन सबके बीच भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान भी तेजी से चल रहा है। भारत की दवा नियामक संस्था ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने रूस के स्पूतनिक वी वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की अनुमति भी दे दी है। ऐसे में इस वैक्सीन को लगवाने के बाद होने वाले साइड इफेक्ट्स, इसकी कीमत और एफीकेसी के बारे में जान लेना जरूरी है। स्पूतनिक वी वैक्सीन (Sputnik V Vaccine) का डोज लेने के बाद होने वाले सामान्य और प्रमुख साइड इफेक्ट्स के बारे में जानने के लिए हमने दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल के इंटरनल मेडिसिन विभाग के डॉक्टर तरुण साहनी से बातचीत की, आइये जानते हैं डॉ साहनी ने इस वैक्सीन को लगवाने के बाद होने वाले साइड इफेक्ट्स के बारे में क्या जानकारी हमसे साझा की। 

स्पूतनिक वी वैक्सीन के डोज के बाद हो सकते हैं ये साइड इफेक्ट्स (Side Effects of Sputnik Vaccine)

sputnik-vaccine-side-effects

स्पुतनिक वी वैक्सीन को Gam-COVID-Vac के नाम से भी जाना जाता है। रूस में निर्मित इस वैक्सीन में दो अलग-अलग एडिनोवायरस (Ad26 और Ad5) का इस्तेमाल किया गया है। इन एडेनोवायरस SARS-CoV-2 वायरस के उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। एडिनोवायरस (Ad26 और Ad5) शरीर में एंटीबॉडी का तेजी से निर्माण करने का काम करते हैं। कोरोनावायरस के खिलाफ काम करने वाली लगभग सभी वैक्सीन के कुछ न कुछ साइड इफेक्ट्स जरूर होते हैं। वैक्सीन का डोज लेने के बाद डॉक्टर्स भी एहतियात बरतने की सलाह देते हैं। मॉडर्ना, फाइजर, जॉनसन एंड जॉनसन, कोविशील्ड और कोवैक्सीन की तरह रूस में बनी स्पूतनिक वी वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स भी हैं। स्पूतनिक वी वैक्सीन के सामान्य और प्रमुख साइड इफेक्ट्स इस प्रकार से हैं।

सामान्य साइड इफेक्ट्स 

  • - सिरदर्द (Headache)
  • - थकान (Fatigue)
  • - बुखार (Fever)
  • - मांसपेशियों में दर्द (Muscle Ache)
  • - इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द (Injection Site Reaction)

वैक्सीन की डोज लेने के बाद दिखने वाले मेजर सिम्टम्स 

रूस की स्पुतनिक वी वैक्सीन जिसका इस्तेमाल भारत समेत दुनिया के 64 देशों में किया जा रहा है, कोरोना के खिलाफ एक प्रभावी वैक्सीन है। डॉ साहनी ने हमें बताया कि इस वैक्सीन को लगवाने के बाद अन्य वैक्सीन की तरह सामान्य लक्षण दीखते हैं लेकिन कुछ रिसर्च और शोध के माध्यम से यह कहा गया है कि इसको लगवाने के बाद कुछ लोगों में गंभीर लक्षण भी देखने को मिले हैं। ये गंभीर लक्षण इस प्रकार से हैं।

  • - हाइपरटेंशन (Hypertension) 
  • - शरीर में सूजन (Swelling in Body)
  • - मतली और उल्टी की समस्या (Nausea and Vomiting)

डॉ साहनी ने बताया के वैक्सीन को लगवाने के बाद शरीर में दिखने वाले ये सभी लक्षण सामान्य हैं। ऐसी स्थिति में अधिक दिक्कत होने पर एक्सपर्ट चिकित्सक से संपर्क जरूर करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : कोविड वैक्सीन लेने के बाद न खाएं ये 3 चीजें, इम्यूनिटी हो सकती है कमजोर

कितनी है स्पूतनिक वी वैक्सीन की एफीकेसी? (Sputnik Vaccine Efficacy)

sputnik-v-vaccine-in-india

रूस के मॉस्को स्थित गमालेया नेशनल सेंटर ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा कोरोनावायरस के खिलाफ विकसित की गयी वैक्सीन Gam-COVID-Vac को आमतौर पर लोग स्पुतनिक वी के नाम से जानते हैं। यह दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन है जिसे इस बीमारी के निदान के लिए इस्तेमाल की अनुमति दी गयी थी। परीक्षणों के आधार पर यह कहा जाता है कि कोरोना के खिलाफ इस्तेमाल होने वाली यह वैक्सीन संक्रमण के खिलाफ 91.6%  प्रभावशाली है।इस वैक्सीन में एडेनोवायरस होता है जिसे सामान्य सर्दी और जुकाम से जुड़े वायरस के रूप में भी जाना जाता है। एडेनोवायरस शरीर में SARS-CoV-2 वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी के उत्पादन को बढ़ावा देता है।

इसे भी पढ़ें : वैक्सीन लगवाने के बाद एक्सरसाइज: डॉक्टर से जानें वैक्सीन लेने के कितने दिन बाद शुरु करें वर्कआउट और कैसे करें

भारत में स्पूतनिक वी वैक्सीन (Sputnik V Vaccine Available in India)

भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान में पहले सिर्फ दो वैक्सीन का ही इस्तेमाल किया जा रहा था। भारत बायोटेक की कोवैक्सिन और सीरम इंस्टिट्यूट द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड के बाद रूस की स्पूतनिक वी वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दी गयी है। भारत में इस वैक्सीन का निर्माण डॉ रेड्डीज लैबोरेट्रीज द्वारा किया जायेगा।

स्पूतनिक वी वैक्सीन की कीमत (Sputnik V Vaccine Price)

रूस में निर्मित कोरोना की इस वैक्सीन का निर्माण भारत में डॉ रेड्डीज लैबोरेट्रीज द्वारा होगा। रूस से आने वाले स्पूतनिक वी वैक्सीन की कीमत भारत में 995 रुपये प्रति खुराक बताई गयी थी। इस वैक्सीन को लेकर डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज ने अपोलो हॉस्पिटल के साथ टाई-अप किया है। इस गठजोड़ के बाद अब इस वैक्सीन की कीमत 1,250 रुपये बताई जा रही है। कहा जा रहा है कि इस वैक्सीन को लगाने के लिए डॉ रेड्डीज लैबोरेट्रीज के साथ देश के तमाम अस्पताल जुड़ चुके हैं। वैसे तो इस वैक्सीन की कीमत 948 रुपये है जिसमें 5 प्रतिशत जीएसटी जोड़ने के बाद यह लगभग 995 रुपये हो जाता है। जिस अस्पताल में यह वैक्सीन लगेगी वहां तक का परिवहन और प्रशासनिक शुल्क जोड़ने के बाद इस वैक्सीन की कीमत 1,200- 1,250 रुपये होगी।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer