डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें कोरोना होने पर होम आइसोलेशन के दौरान कैसे करें मरीज की देखभाल

कोरोना से संक्रमित होने पर घर पर रहकर ही हेल्दी खान पान से खुद को ठीक करें। यहां डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें इसके बारे में।

Kunal Mishra
Reviewed by: स्वाती बाथवालPublished at: Apr 23, 2021Updated at: Apr 23, 2021Written by: Kunal Mishra
डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें कोरोना होने पर होम आइसोलेशन के दौरान कैसे करें मरीज की देखभाल

कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते मामलों ने सभी की उलझनें बढ़ा दी हैं। पिछले कुछ दिनों में कोरोना से होने वाली मौत की संख्या में भारी इजाफा हुआ है। जिसके चलते राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों में लॉकडाउन लगा दिया गया है। कोरोना काल में तमाम अस्पतालों में ऑक्सीजन की भी कमी हो गई है, जिससे कोरोना के मरीजों को दर बदर भटकना पड़ रहा है। लेकिन कोरोना के हल्के लक्षणों वाले मरीजों अपना इलाज घर में भी कर सकते हैं। आज हमने इसी विषय पर जानी मानी डायटीशियन स्वाती बाथवाल से बात की। इस लेख के माध्यम से डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें कि कोरोना काल में खुद को घर पर आइसोलेट कर कैसे ठीक करा जाए। आइये जानते हैं इसके बारे में। 

isolation

परिजन को कोरोना होने पर क्या करें (What to do When Family Member has Corona)

यदि आपके घर में कोई कोरोना संक्रमित (Corona Positive) हो जाए तो आपका पहला कदम उसे घर में ही आइसोलेट करने का होना चाहिए। ध्यान रहे संक्रमित को अस्पताल लेकर तभी जाएं जब उसकी स्थिति गंभीर हो। ऐसे में स्थिति और बिगड़ सकती है। क्योंकि मरीज को अस्पताल ले जाने से आप खुद को भी वायरस के खतरे में डाल रहे हैं। ऐसे में होम केयर को ज्यादा बेहतर है। अन्यथा घर पर रहकर ही इलाज करें। साथ ही घर में सैनिटाइजेशन कराने के साथ ही सुरक्षा का पूरा ख्याल रखें। इस स्थिति में चिकित्सक के संपर्क में रहें। यदि आप सर्जिकल मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसे हर 4 घंटे के बाद बदलें क्योंकि उसकी बाहरी सतह पर वायरस 7 दिनों तक जमा रहते हैं। अगर आप कपड़े का मास्क लगाकर बाहर निकल रहे हैं तो यह बात जान लें कि कपड़े के मास्क से आपको केवल 10 प्रतिशत सुरक्षा मिलती है। अगर आप स्कार्फ या फिर गमछा लपेटकर निकल रहे हैं तो 20 से 30 प्रतिशत सुरक्षा मिलती है। ऐसे मे एन 95 आपकी सुरक्षा के लिए सबसे कारगर है। यह आपको 95 प्रतिशत तक सुरक्षा देता है। 

इसे भी पढ़ें - ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाने में प्रोन पोजिशन कैसे है मददगार? जानें सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो का सच

कब कराएं कोरोना जांच (When to Get Corona Test) 

स्वाती बाथवाल के मुताबिक कोरोना संक्रमित होने के 5 से 6 दिनों बाद कोरोना के लक्षण दिखने शुरू होते हैं। यही लक्षण 10 से 12 दिनों के अंदर पीक पर पहुंच जाता है। इसलिए उचित रहेगा कि कोरोना के लक्षण दिखने के 7 से 10 दिनों के अंदर ही अपनी जांच करा लें। जिससे पीक पर पहुंचने से पहले ही आप कोरोना का इलाज शुरू कर सकें। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Onlymyhealth (@onlymyhealth)

संक्रमित होने पर क्या खाएं (What to Eat in Corona)

कोरोना संक्रमण होने पर इम्यूनिटी( Immunity) बढ़ाना सबसे जरूरी है। इसके लिए आप ऑयल पुलिंग करें। गरारे लें। यदि आप चाय के शौकीन हैं तो दूध वाली चाय के बदले काली चाय का सेवन करें। इसके अलांवा तुलसी, अदरक और शहद वाला गरम पानी भी पी सकते हैं। संक्रमित होने पर जरूरी है कि विटामिन सी, विटामिन डी और विटामिन बी की कमी न हो। सुबह खाली पेट पानी में आंवला का जूस डालकर पीयें। संक्रमण के दौरान हल्का भोजन करें ताकि पाचन में कोई समस्या न हो। जैसे कि खिच़ड़ी, दलिया और दाल का सूप आदि। इसलिए विटामिन सी, बी और डी वाले फूड्स खाते रहें। साथ ही नट्स भी लेते रहें इससे शरीर को मिनिरल्स मिलते हैं। वहीं खांसी या जुकाम बढ़ने पर जिंकोविट टैबलेट लें। इससे आपके फेफड़ों में फ्लूइड्स नहीं बनते है। साथ ही प्रोटीन युक्त आहार का भी सेवन करें। 

इसे भी पढ़े - फल खाने के तुरंत बाद पानी पीने से शरीर में होती हैं ये समस्याएं, जानें कैसे

विटामिन को जरूर करें शामिल (Must Include Vitamin)

स्वाती बाथवाल के मुताबिक कोरोना से संक्रमित होने पर विटामिन और प्रोटीन रिच डाइट जरूर लेनी चाहिए। संतरा, अमरूद साथ ही आंवला, शिमला मिर्च, धनिया, पुदीना आदि विटामिन से भरपूर होते हैं। शरीर में विटामिन की कमी होने पर आप विटामिन की गोलियां भी खा सकते हैं। ध्यान रहे कि विटामिन का सेवन  जिंक के साथ न करें। यह आपकी शरीर के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है। यदि आप आयरन युक्त आहार जैसे दाल आदि के साथ विटामिन लेत हैं तो इससे आपकी शरीर में आयरन का अवशोषण बढ़ता है। 

kadha

कितना पीयें काढ़ा (How much Kadha to Drink)

कोरोना काल में अधिकांश लोगों को यह कंफ्यूजन रहती है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए दिनभर में काढ़े का सेवन कितनी बार करना चाहिए। इसके चलते कई लोग दिन में 4 से 6 बार या कई बार काढ़ा पीते हैं। बता दें कि काढ़े का सेवन अधिक मात्रा में करने से शरीर में गरमी पैदा हो जाती है, जो आपको नुकसान भी पहुंचा सकती है। स्वाती के मुताबिक दिन में एक से दो बार काढ़ा पीना रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए काफी है। 

कोरोना काल में उर्जा बनाए रखने के लिए खान पान के बारे में जानना बेहद जरूरी है। यह लेख डायटीशियन द्वारा प्रमाणित है। इस लेख में कोरोना से बचने के लिए दिए गए तरीकों को आप अपना सकते हैं। 

Read more Articles on Miscellaneous in Hindi 

Disclaimer