Doctor Verified

किडनी फेल क्यों होती है? एक्सपर्ट से जानें कारण और बचाव के उपाय

Kidney failure causes reason: किडनी फेल कई वजह या कारणों से हो सकती है, डॉक्टर से आसान भाषा में समझें किडनी फेल क्यों होती है।

 

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarUpdated at: Oct 25, 2022 23:05 IST
किडनी फेल क्यों होती है? एक्सपर्ट से जानें कारण और बचाव के उपाय

Kidney failure causes reason: किडनी हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, जो हमारे शरीर को डिटॉक्स करने और अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने में अहम भूमिका निभाती है। यह रक्त और अपशिष्ट पदार्थों को फिल्टर करती है। जब हमारी किडनी ठीक से काम नहीं करती है, तो इससे कई गंभीर रोगों का जोखिम बढ़ता है। इन दिनों लोगों में किडनी फेलियर की समस्या भी काफी तेजी से बढ़ रही है, जिसके कारण हमारी किडनी अपना काम करना बंद कर देती है। यह एक ऐसी स्थिति होती है, जिसमें आपकी किडनी न तो रक्त को फिल्टर कर पाती है और न ही अपशिष्ट पदार्थों को। अगर समय रहते इसका उपचार नहीं किया जाता है, तो इससे व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है आखिर, किडनी फेल क्या होती है या किडनी फेलियर के कारण (kidney failure reason) क्या होते हैं?

ओनलीमायहेल्थ (OnlymyHealth) की स्पेशल सीरीज 'बीमारी को समझें' में हम डॉक्टर से बातचीत करके आपको आसान भाषा में किसी बीमारी और उसके कारणों के बारे में समझाते हैं। किडनी फेल क्यों होती है (kidney fail kyu hoti hai) और इसके कारणों के बारे में जानने के लिए हमने पीएसआई आर हॉस्पिटल, दिल्ली के डॉ. संजीव सक्सेना (नेफ्रोलॉजिस्ट, किडनी ट्रांसप्लांट फिजिशियन) से बात की। आइए विस्तार से जानते हैं किडनी फेलियर के कारण (Kidney Failure ke karan) और क्यों होता है।

आइए पहले समझते हैं किडनी खराब होने के संकेत और लक्षण- Kidney Failure Signs And Symptoms

जब आपकी किडनी ठीक से काम नहीं करती है तो इस स्थिति में शरीर में कई संकेत और लक्षण देखने को मिलते हैं। जिनमें यूरिन कम आना, यूरीन के साथ खून, सांस लेने में तकलीफ, बहुत थकान, मतली, दिल की धड़कन असामान्य होना, सीने में दर्द और दबाव महसूस होना, साथ ही कुछ गंभीर मामलों में अटैक आदि जैसी समस्याएं भी देखने को मिल सकती हैं। इस तरह की समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह दी जाती है।

kidney failure causes in hindi

किडनी फेल क्यों होती है- kidney fail kyu hoti hai

डॉ. संजीव की मानें तो किडनी फेलियर में सबसे पहले समझने वाली बात यह है कि ये दो प्रकार के होते हैं, पहला एक्यूट किडनी फेलियर और दूसरा क्रोनिक किडनी फेलियर। दोनों के ही अपने अलग कारण और जोखिम कारक होते हैं।

इसे भी पढें: बांझपन क्यों होता है? डॉक्टर से समझें कारण और बचाव के उपाय

एक्यूट किडनी फेलियर के कारण- Acute kidney Failure Causes 

एक्यूट किडनी फेलियर में आपकी किडनी अस्थाई रूप से काम करना बंद कर देती है। यह समस्या आमतौर पर पूरी तरह से ठीक हो जाती है। एक्यूट किडनी फेलियर की स्थिति में भविष्य में इलाज के लिए डायलिसिस या किडनी ट्रांसप्लांट की आवश्यकता नहीं पड़ती है। एक्यूट किडनी फेलियर के कारणों में शामिल है...

  • डायरिया: यह एक्यूट किडनी फेलियर के सबसे आम कारण है। डायरिया के कारण पूरे शरीर का पानी बाहर निकल जाता है, जिससे किडनी काम करना बंद कर देती है।
  • दवाईयां: खासकर दर्द निवारक और एंटीबायोटिक दवाएं, जिनका सेवन हम बिना डॉक्टर की सलाह के करते हैं।

इन दोनों ही कारणों समझकर, कंट्रोल करके आप एक्यूट किडनी फेलियर के जोखिम को कम कर सकते हैं।

क्रोनिक किडनी फेलियर के कारण- Chronic kidney Failure Causes

क्रोनिक किडनी फेलियर जिसे क्रोनिक किडनी डिजीज (CKD) कहा जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें आपको किडनी धीरे-धीरे खराब हो जाती हैं। अन्य बड़े देशों की तरह ही भारत में भी सीकेडी के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। साथ ही यह लोगों में बहुत आम समस्या बनती जा रही है। इसके कई कारण हैं जैसे...

  • खराब खानपान और जीवनशैली की आदतें
  • डायबिटीज
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • किडनी स्टोन डिजीज, जिसमें किडनी में पथरी की वजह से किडनी खराब हो जाती है
  • किडनी की बीमारी जैसे क्रोनिक लेमिनोअफ्राइटिस, क्रोनिक इंटेस्टिनल अफ्राइटिस

जब आपकी किडनी पूरी तरह से खराब हो जाती है, तो इसका सिर्फ एक ही उपाय रह जाता है, कि या तो किडनी ट्रांसप्लांट किया जाए, या फिर जीवन भर डायलिसिस पर रहें।

यह भी देखें:

इसे भी पढें: माइग्रेन में सिरदर्द क्यों होता है? डॉक्टर से समझें इस बीमारी के कारण और लक्षण

किडनी फेलियर से बचाव के उपाय- Kidney Failure Prevention Tips

  • साल में 1 बार  यूरीन और रक्त की जांच कराएं- खासकर हाई बीपी और डायबिटीज और किडनी स्टोन के मरीज
  • स्मोकिंग और शराब के सेवन से सख्त परहेज करें।
  • स्वस्थ और पोषक तत्वों से भरपूर आहार लें।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • अनहेल्दी, जंक, प्रोसेस्ड फूड्स के सेवन से परहेज करें।
  • नमक का सेवन सीमित मात्रा में करें।
  • ज्यादा मिर्च मसाले वाला भोजन न करें।
  • डॉक्टर की सलाह के बिना दवाओं का सेवन न करें

डायरिया, उल्टी-दस्त की समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

All Image Source: Freepik

 

Disclaimer