Khatna Or Female Genital Mutilation: खतना जैसी क्रूर प्रथा डाल रही है महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव

शायद कम ही लोग जानते हैं कि महिलाओं के प्रति अमानवीयता केवल घरेलू हिंसा या बलात्कार तक सीमित नहीं है, बल्कि इससे ज्यादा है। जैसे कि खतना... 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Feb 06, 2020Updated at: Feb 06, 2020
Khatna Or Female Genital Mutilation: खतना जैसी क्रूर प्रथा डाल रही है महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव

महिला जननांग कर्तन या फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन, जिसे आमतौर पर खतना के नाम से जाना जाता है। यह एक ऐसी कुप्रथा है, जो आज भी कई जगहों और देशों में व्‍याप्‍त है। समीनी एक पीडि़ता हैं, जिसे अपने अतीत के गुजरे दिनों का एहसासा हुआ कि जब वह एक छोटी लड़की के रूप में खतना से गुज़री थी। समीना को बदनाम किया गया था, उसे 7 साल की उम्र में इस काम में फंसा दिया गया था। उसे बताया गया था कि एक महिला को सिर्फ नीचे से अपने अतिरिक्त त्वचा को हटाने के लिए यह किया जाता है। उसे अपनी मां से भिड़ना पड़ा क्योंकि उसके लिए यह स्वीकार करना मुश्किल था कि उसके साथ कुछ ऐसा हुआ, जो भयनक था। कुछ ऐसा जो उसके शरीर, दिमाग और आत्मा पर हमेशा के लिए एक दाग छोड़ जाए। 

वी स्पीक आउट, एक संगठन है, जो कई वर्षों से महिला जननांग कर्तन या फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन को समाप्त करने के लिए महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए लगातार काम कर रहा है, समीना की तरह और भी पुरानी कहानियां हैं। एक युवा लड़की के क्लिटोरिस यानि योनि क्षेत्र को काटने की एक भयाभय प्रथा, अक्सर अस्वच्छ और असुरक्षित साधनों का उपयोग करना, वर्षों से एक गुप्त अभ्यास था। वकील और और कार्यकर्ता मासूमा रानाल्वी ने फैसला किया कि इन वर्जनाओं को तोड़ना होगा। उन्होंने 2015 में खतना को रोकने के लिए एक याचिका शुरू की और इसके लिए कई संघर्षों का सामना किया। एक पारंपरिक और धार्मिक अभ्यास के रूप में, खतना बच्चे की जानकारी या सहमति के बिना किया जाता है।  

Khatna

2018 में, वी स्पीक आउट ने एक स्‍टडी प्रकाशित की, जिसमें खुलासा हुआ कि बोहरा समुदाय के एक समूह में सात और उससे अधिक उम्र की 75% लड़कियों का जेनिटल म्यूटिलेशन किया गया था। जिसमें कि फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन(एफएमजी) के प्रभावों को भी दर्ज किया गया था। सर्वेक्षण में 33% महिलाओं ने बताया कि वे अपने वयस्क यौन जीवन पर प्रक्रिया के नकारात्मक प्रभावों को देखती हैं। वहीं इसके अलावा, दर्दनाक पेशाब, पीरियड्स के दिनों में असुविधा और दीर्घकालिक मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी दर्ज किए गए।

6 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन जीरो टॉलरेंस डे के रूप में मनाया जाता है। आइए जानें कि यह वास्तव में क्या है और विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी वैश्विक संस्थाएं उन लोगों की मानसिकता को बदलने की पूरी कोशिश कर रही हैं, जो आज भी एक जीवन डालने इसमें विश्वास करते हैं। 

इसे भी पढें: गर्भावस्‍था में असहनीय खुजली और बेचैनी हो सकती है कोलेस्टेसिस का संकेत, जानें खतरे और बचाव के तरीके

फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन क्‍या है? 

Khatna Or Female Genital Mutilation

विश्व स्तर पर लड़कियों के मानवाधिकारों के उल्लंघन के रूप में मान्यता प्राप्त, फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन (FGM) में गैर-चिकित्सा कारणों से बाहरी महिला जननांग (पूरी तरह या आंशिक रूप से) को हटाना शामिल है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, ऐसे कई मामले मौजूद हैं, जहां स्वास्थ्य पेशेवरों के माध्यम से एफजीएम को एक सुरक्षित प्रक्रिया के रूप में करते हैं। हालांकि, यह डब्ल्यूएचओ का मकसद और इस विश्वास को खत्म करने की पहल है, जो एफजीएम को एक सुरक्षित प्रक्रिया बनाता है। इसके अलावा, यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर महिलाओं के खिलाफ भेदभाव, स्वास्थ्य और किसी व्यक्ति के सुरक्षा अधिकारों के उल्लंघन के  रूप में प्रशंसित है।

डब्ल्यूएचओ कहता है कि एफजीएम लड़कियों और महिलाओं के लिए कई मायनों में हानिकारक है। यह क्रूर प्रक्रिया महिला के स्वस्थ जननांग ऊतक के साथ छेड़छाड़ करती है, जो लड़कियों और महिलाओं के अनुभव की प्राकृतिक प्रक्रियाओं को और विचलित करती है।  एफजीएम के कारण उत्पन्न होने वाली तात्कालिक जटिलताओं को इस प्रकार वर्गीकृत किया जा सकता है:

  • इंफेक्‍शन 
  • मूत्र संबंधी समस्या
  • दर्द 
  • जननांग के ऊतकों के में चोट
  • सदमे के कारण मौत
  • घावों का देरी से उपचार

Khatna Or Female Genital Mutilation Effects

इसे भी पढें: निप्पल में होने वाली खुजली और लाल निशान कहीं 'निप्पल डर्मेटाइटिस' का संकेत तो नहीं? जानें इसके लक्षण

यह एक महिला के शरीर में प्राकृतिक प्रक्रियाओं को परेशान करने और यहां तक कि दीर्घकालिक परिणाम भी दे सकता है:

  • पेशाब करते समय दर्द और लगातार यूटीआई की समस्‍या 
  • मासिक धर्म के दौरान खून और दर्दनाक मासिक धर्म 
  • प्रसव में कठिनाई और नवजात मौतों में वृद्धि
  • संबंधों के दौरान समस्याएं
  • प्रसव संबंधी जटिलताओं में वृद्धि
  • प्रसव के बाद बच्चे को कम दर्दनाक प्रक्रिया बनाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है
  • चिंता, डिप्रेशन और आजीवन मानसिक असंतुलन जैसे विकार

FMG

WHO द्वारा FMG सर्वाइवर्स के लिए क्लिनिकल हैंडबुक

यह प्रक्रिया, जो डब्ल्यूएचओ के अनुसार सांस्कृतिक प्रभाव से अधिक है, किशोरावस्था से पहले लड़कियों पर किया जाता है। अफ्रीका, मध्य पूर्व और एशिया के 30 देशों में 200 मिलियन से अधिक लड़कियां हैं, जो इस प्रक्रिया से गुजर चुकी हैं। मई 2018 में, डब्ल्यूएचओ ने फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन के अधीन लड़कियों और महिलाओं के लिए नई नैदानिक पुस्तिका लॉन्च की। हैंडबुक 9 अध्यायों का एक संग्रह है, जो लड़कियों और महिलाओं को उनके स्वास्थ्य, कल्याण और मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल के लिए आवश्यक जानकारी देता है। यह हैंडबुक एफजीएम सर्वाइवर और उनके परिवारों के साथ संवाद करने का एक माध्यम है।

Read More Article On Women's Health In Hindi 

Disclaimer