निप्पल में होने वाली खुजली और लाल निशान कहीं 'निप्पल डर्मेटाइटिस' का संकेत तो नहीं? जानें इसके लक्षण

स्तनों में निप्पल की त्वचा के आसपास लगातार खुजली और लाल निशान हो सकते हैं निप्पल डर्मेटाइटिस का संकेत, जानें क्या है इसका इलाज।

 
Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Jan 10, 2020 18:43 IST
निप्पल में होने वाली खुजली और लाल निशान कहीं 'निप्पल डर्मेटाइटिस' का संकेत तो नहीं? जानें इसके लक्षण

महिलाओं की त्वचा प्राकृतिक रूप से पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा कोमल होती है। इसके अलावा कुछ अंग अतिरिक्त संवदेशनशील भी होते हैं, जिसमें स्तन, खासकर निप्पल भी शामिल है। कई बार निप्पल में छोटे-छोटे दाने, पैचेज, लाल निशान या सफेद स्किन दिखाई देती है, जिसके कारण स्तनों में तेज खुजली होती है।। महिलाएं अक्सर इसे पसीने या कपड़े की एलर्जी समझकर नजरअंदाज कर देती हैं। मगर कई बार सामान्य दिखने वाले ये संकेत 'निप्पल डर्मेटाइटिस' के हो सकते हैं। 

womens health

दूसरे प्रकार के डर्मेटाइटिस की ही तरह निप्पल में होने वाला डर्मेटाइटिस भी किसी दिन तेज उभरता है और किसी दिन शांत हो जाता है। मगर यहां समझने की बात ये है कि डर्मेटाइटिस खतरनाक रोग नहीं है, इसलिए इसका इलाज आसानी से संभव है। मगर कई बार लगातार होने वाली खुजली, पैचेज, निशान आदि ब्रेस्ट कैंसर का शुरुआती संकेत भी हो सकते हैं। इसलिए इस समस्या को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ गांठ नहीं, ये 6 लक्षण भी हो सकते हैं स्तन कैंसर (ब्रेस्ट कैंसर) का शुरुआती संकेत, जानें कैसे पहचानें इन्हें

निप्पल डर्मेटाइटिस के लक्षण और संकेत

निप्पल डर्मेटाइटिस किसी एक या दोनों स्तनों को प्रभावित कर सकता है। आमतौर पर इस रोग के होने पर निप्पल का उभरा हुआ भाग और आसपास की डार्क त्वचा (Areola) प्रभावित होते हैं। इसके कारण प्रभावित हिस्से में लाल निशान, छोटे-छोटे दाने, रैशेज, पैचेज, खुजली आदि की समस्या हो सकती है। कई बार त्वचा सफेद रूखी हो जाती है और दाद जैसे निशान उभर आते हैं। इसमें ध्यान रखने की बात ये है कि इसे बहुत ज्यादा खुजलाने को डॉक्टर्स सही नहीं मानते हैं, क्योंकि इससे इंफेक्शन फैलने या त्वचा के कटने का खतरा होता है।

womens health

किन्हें होता है खतरा

आमतौर पर निप्पल डर्मेटाइटिस का खतरा उन लोगों को होता है, जिनकी त्वचा बहुत ज्यादा सेंसिटिव होती है। इसके अलावा कई बार स्किन केयर प्रोडक्ट्स की एलर्जी के कारण, सिंथेटिक कपड़े की एलर्जी के कारण भी ये समस्या हो सकती है। इन सभी में भी उन महिलाओं को निप्पल डर्मेटाइटिस का खतरा ज्यादा होता है, जो स्तनपान कराती हैं। इसका खतरा तब और ज्यादा बढ़ जाता है जब शिशु स्तनपान के साथ-साथ बॉटल से दूध पीता है या पैसिफायर का इस्तेमाल करता है।

इसे भी पढ़ें: सर्दी में होने वाले फंगल इंफेक्शन और खुजली से राहत दिलाते हैं ये आयुर्वेदिक नुस्खे

निप्पल डर्मेटाइटिस होने पर क्या करें

  • जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं, उन्हें अगर निप्पल डर्मेटाइटिस होता है, तो बहुत परेशानी होती है। क्योंकि शिशु जब स्तनपान करता है, तो इंफेक्शन और बैक्टीरिया उसके मुंह के रास्ते शिशु के शरीर में भी प्रवेश कर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि ऐसी समस्या दिखने पर आप तुरंत त्वचा रोग विशेषज्ञ के पास जाएं और उनसे सलाह और दवाएं लें। इसके अलावा जब तक डर्मेटाइटिस ठीक न हो जाए, आप कुछ उपाय अपना सकती हैं, जैसे-
  • गर्म पानी में कोई कपड़ा या टॉवेल भिगाकर निप्पल की अच्छी तरह सफाई करें। ध्यान रखें साबुन का इस्तेमाल न करें क्योंकि इससे जलन हो सकती है और इंफेक्शन फैल सकता है।
  • इसके बाद स्तनों को साफ धुले हुए कपड़े या टॉवेल से अच्छी तरह पोंछकर सुखाएं। इसके बाद अगर आप शिशु को स्तनपान कराती हैं, तो कराएं।
  • अगर स्तनपान नहीं कराती हैं, तो सुखाने के बाद निप्पल के आसपास की त्वचा पर पेट्रोलियम जैली लगाएं। 
  • अगर स्तनों में दर्द हो रहा है, तो आप डॉक्टर की सलाह लेकर कोई पेनकिलर भी ले सकती हैं। मगर कई दिनों तक समस्या हो तो नजरअंदाज न करें।

Read More Articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer