क्या रात की तुलना में दिन में अधिक होता है हार्ट अटैक का खतरा, डॉक्टर से जानें इसके बारे में

वैसे तो दिल का दौरा किसी भी समय पड़ सकता है। लेकिन कई अध्ययनों से यह साबित हो चुका है कि रात की तुलना में दिन में हार्ट अटैक का खतरा अधिक रहता है।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jun 09, 2021
क्या रात की तुलना में दिन में अधिक होता है हार्ट अटैक का खतरा, डॉक्टर से जानें इसके बारे में

दुनियाभर में दिल के रोगियों (Heart Patients) की संख्या काफी ज्यादा है। यह कई लोगों की जान का कारण भी बनता है। इसमें सबसे ज्यादा दिल का दौरा यानी हार्ट अटैक (Heart Attack) है। वैसे तो हार्ट अटैक किसी भी समय हो सकता है, लेकिन कई अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि दिल का दौरा रात की तुलना में दिन के समय ज्यादा पड़ता है (Risk of Heart Attack Higher in Day)। यह एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है, जो रोगियों के मौत का कारण भी बन सकता है। 

heart

वॉकहार्ट अस्पताल, मुंबई सेंट्रल के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर नईम हसनफट्टा (Dr Naeem Hassanfatta, Cardiologist, Wockhardt Hospital, Mumbai Central) बताते हैं कि हार्ट अटैक को लेकर कई शोध हो चुके हैं। इनमें यह भी साबित हो चुका है कि दिन के समय हार्ट अटैक का खतरा बेहद ज्यादा होता है। रात की तुलना में सुबह या दिन में हृदय रोगियों को दिल के दौरे ज्यादा पड़ते हैं। डॉक्टर नईम हसनफट्टा बताते हैं कि रात में व्यक्ति सो जाता है और सुबह शरीर में मौजूद फिजियोलॉजी में हार्मोन बढ़ते हैं। साथ ही इस समय हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर (Heart Rate and Blood Pressure) भी बढ़ा होता है। जिससे हृदय रोगियों में ब्लड क्लॉट (Blood Clot) बनने लगते हैं, जिससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता है और इस दौरान व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - खून में लिपिड का स्तर बढ़ने या घटने का क्या मतलब है? जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

डॉक्टर नईम हसनफट्टा बताते हैं कि सुबह या दिन में हमें अधिक काम करना होता है, जिससे हार्ट अटैक होने का खतरा ज्यादा रहता है। दरअसल, हृदय रोगियों को ज्यादा काम करने से कोरोनरी धमनियां (Coronary Arteries) संकुचित हो जाती हैं, जिससे ये रक्त के थक्कों को नहीं टोड़ पाती हैं और दिल का दौरा पड़ सकता है।

कैसे पड़ता है दिल का दौरा (Heart Attack)

जब हृदय रोगियों की कोरोनरी धमनी (Coronary Artery) यानी दिल को रक्त पहुंचाने वाली रक्त वाहिका (Blood Vessel) सिकुड़ जाती है तो इससे दिल तक रक्त पहुंचने में दिक्कत होती है। जिससे कोशिकाएं (Cells) खत्म हो जाती हैं और हमारा दिल शरीर के अन्य अंगों तक रक्त को पंप नहीं कर पाता है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ सकता है। जब भी आपको हार्ट अटैक आता है, तो इससे पहले आपको कुछ संकेत या लक्षण नजर आते हैं। इसमें सांस लेने में तकलीफ, लगातार खांसी, सीने में जलन और उल्टी (shortness of Breath, Cough, Heartburn and Vomiting) आना शामिल होता है। 

yoga

ऐसे करें अपना बचाव (Prevention Tips to Heart Attack)

अगर आपको दिल से जुड़ी कोई बीमारी है, तो आपको अपनी दवाइयां हमेशा समय से लेना जरूरी होता है। साथ ही डॉक्टर के द्वारा बताए गए बचाव टिप्स का पालन भी करना चाहिए। अगर आपको थोड़ी सी भी परेशानी या दिक्कत होती है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर आप दिल के दौरे के साथ ही दिल की बीमारियों से भी बच सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - हार्ट का साइज बढ़ने के क्या हैं कारण? जानें इसके लक्षण और बचाव के टिप्स

  • दिल को स्वस्थ (Diet for Healthy Heart) रखने वाले आहार का सेवन करें।
  • तनाव और चिंता (Stress and Tension) से बिल्कुल दूर रहें।
  • स्वस्थ रहने के लिए नियमित रूप से योग और एक्सरसाइज (Yoga or Exercise) करें।
  • हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर (hypertension or high blood pressure) से बचें। 
  • शरीर में कॉलेस्ट्रोल लेवल और ब्लड शुगर लेवल (Cholesterol Level and Blood Sugar Level) को कंट्रोल में रखने की कोशिश करें।
  • शराब और धूम्रपान (Alcohol and Smoking) से दूरी बनाकर रखें। 

अगर आप भी हृदय रोगी हैं, तो आपको अपना खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। क्योंकि दिल का दौरा पड़ने का ज्यादा खतरा हृदय रोगियों को ही होता है। अगर आपकी दवाइयां चल रही है तो निश्चित समय पर अपनी दवाइयों का सेवन करें और अपनी जीवनशैली को सक्रिय रखें।  

Read More Articles on Heart Health in Hindi

Disclaimer