वजन घटाना है तो डाइट में शामिल करें लो-कार्ब और हाई फाइबर वाले ये 5 फूड्स

अगर आप वजन घटाना चाहते हैं तो आपको ऐसे फूड्स खाने चाहिए जिसमें कार्ब्स कम हों और फाइबर ज्यादा हो, जानें ऐसे 5 फूड्स।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Nov 08, 2022 08:30 IST
वजन घटाना है तो डाइट में शामिल करें लो-कार्ब और हाई फाइबर वाले ये 5 फूड्स

वजन कम करना बहुत ही मुश्कि‍ल टास्‍क होता है जिसमें डाइट अहम रोल निभाती है। वजन कम करने या फिट रहने के लिए एक व्‍यक्ति को जितने प्रोटीन और फाइबर की मात्रा प्रतिदिन लेनी चाहिए, उतना आजकल ज्यादातर लोग नहीं लेते। यही वजह है कि तमाम कोशिशों के बाद भी कुछ लोगों का वजन कम नहीं होता। वजन कम करने के लिए लो कार्ब और हाई फाइबर फूड की आवश्‍यकता होती है। लो कार्ब होने के कारण फूड में कैलोरीज कम होती हैं। वहीं हाई फाइबर होने के कारण शरीर इसे धीरे-धीरे पचाता है, जिससे पेट को अधिक देर तक भरा रहने का एहसास होता है और आप कम खाते हैं। हाई फाइबर फूड का सेवन करने से ब्‍लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल किया जा सकता है। वजन कम करने के लिए ऐसी चीजों का चुनाव किया जाना चाहिए, जो पोषक तत्‍वों से भरपूर हों और कम कैलारी वाली हों। चलिए जानते हैं कौन से लो-कार्ब और हाई-फाइबर फूड वजन कम करने में मदद कर सकते हैं। 

high fiber foods for weight loss

गेहूं का चोकर

गेहूं का चोकर फाइबर से भरपूर होता है और इसमें कार्ब्‍स की मात्रा भी कम होती है। लगभग ½ कप कच्‍चे गेहूं के चोकर में 6 ग्राम कार्ब और 12 ग्राम फाइबर होता है। गेहूं के चोकर का सेवन करने से न केवल लंबे समय तक पेट भरा रहता है बल्कि क्रेविंग भी शांत हो जाती है। आप रोटी बनाने के लिए चोकरयुक्त आटा का ही प्रयोग करें।

इसे भी पढ़ें- डाइट में फाइबर बढ़ाने के लिए क्या खाएं? एक्सपर्ट से जानें 15 फूड्स

बेरीज

जो लोग लो कार्ब्स का सेवन करना चा‍हते हैं वे ब्‍लैकबेरी, रास्‍पबेरी और स्‍ट्रॉबेरी जैसी बेरीज का चुनाव कर सकते हैं। बेरीज में फाइबर, विटामिन सी और एंटी-ऑक्‍सीडेंट अधिक मात्रा में होते हैं, जो पुरानी सूजन, हार्ट डिजीज और कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। बेरीज खाने से वजन को भी आसानी से मैनेज किया जा सकता है। 

अलसी और चिया सीड्स

पोषक तत्‍वों से भरपूर अलसी और चिया सीड्स में फाइबर की मात्रा अधिक होती है और पचाने के लिए कार्ब्‍स कम होता है। इसके साथ ही चिया सीड्स में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है, जो डाइजेस्टिव सिस्‍टम को सुधारने में मदद कर सकता है। वहीं अलसी के बीज में एंटी-ऑक्‍सीडेंट्स और ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है, जो मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ावा दे सकता है।

इसे भी पढ़ें- लो-कार्ब डाइट से सेहत को मिलते हैं ढेर सारे फायदे, डायटीशियन से जानें इसके स्वास्थ्य लाभ

फूलगोभी

कीटो डाइट में फूलगोभी को मुख्‍य रूप से शामिल किया जाता है। ये एक क्रूसिफेरस सब्‍जी है, जो कैलोरी में कम और फाइबर, विटामिन और मिनरल्स में हाई होती है। फूलगोभी कोलाइन का एक बेहतरीन सोर्स है, जो ब्रेन और लिवर हेल्‍थ के लिए आवश्‍यक है।  

ब्रोकली

अधिकांश सब्जियों की तुलना में ब्रोकली में सबसे अधिक फाइबर होता है और ये फोलेट, पोटैशियम, विटामिन सी और विटामिन के का अच्‍छा स्‍त्रोत माना जाता है। इसमें कार्ब्‍स और कैलोरी दोनों ही कम होती हैं, जो वजन कम करने में मदद कर सकती हैं। इसमें फाइबर की मात्रा भी अधिक होती है। 

ये सारे फूड वजन घटाने और मांसपेशियों को बनाने में सहायक हैं। इन सब के सेवन से टाइप टू डायबिटीज के रिस्क को भी कम किया जा सकता है। लेकिन डाइट में किसी भी तरह के बदलाव से पहले एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें।

Disclaimer