महिलाओं में मेनोपॉज के बाद कई बीमारियों का बढ़ जाता है खतरा, कार्डियोवस्कुलर बीमारियों से जरूरी है सावधानी

हाल में हुए ए‍क अध्‍ययन से पता चलता है कि महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान पर हृदय रोगों का खतरा बढ़ जाता है। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Feb 04, 2020Updated at: Feb 04, 2020
महिलाओं में मेनोपॉज के बाद कई बीमारियों का बढ़ जाता है खतरा, कार्डियोवस्कुलर बीमारियों से जरूरी है सावधानी

यूनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग ग्रेजुएट स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के वैज्ञानिकों के नेतृत्व में शोधकर्ताओं की एक टीम के अनुसार, अध्‍ययन के निष्कर्षों से यह बात पता चलती है कि रजोनिवृत्ति यानि मेनोपॉल के दौरान महिलाओं में हृदय रोगों का खतरा बढ़ जाता है, क्योंकि यह हृदय स्वास्थ्य में बदलाव के लिए एक महत्वपूर्ण समय है।

अध्ययन के एक वरिष्ठ लेखक, समर आर अल खौदरी ने कहा, "मिडलाइफ़ केवल एक अवधि नहीं है जहां महिलाओं में गर्म चमक होती है और अन्य रजोनिवृत्ति के लक्षणों का अनुभव होता है। यह एक समय है, जब उनमें हृदय रोग का खतरा बढ़ रहा होता है क्योंकि तब कई नैदानिक परिवर्तनों में महत्वपूर्ण बदलाव देखते हैं।"

अल खौदरी और उनकी टीम ने स्वैन हार्ट के डेटा के सबसेट का उपयोग किया। एक सहायक अध्ययन जिसमें 2001 और 2003 के बीच पिट्सबर्ग और शिकागो की महिलाओं को दाखिल किया गया और समय के साथ हृदय स्वास्थ्य के शुरुआती मार्करों की दो परीक्षाओं में शामिल किया। अंतत: 339 महिलाओं को इस अध्ययन में शामिल किया गया, जिसमें  36 प्रतिशत अश्‍वेत और बाकी श्‍वेत महिलाएं शामिल थी।

Heart Health

अध्‍ययन में मेनोपॉज के दौरान महिलाओं में धमनी की कठोरता में परिवर्तन कैसे होता है, इस पर ध्यान केंद्रित किया गया। धमनी की कठोरता धमनियों की लोच को संदर्भित करती है और यह देखकर मापा जाता है कि धमनियों में खून कितनी तेजी से बहता है। जिसमें पाया गया कि कठोर धमनियों में शिथिलता के कारण यह हो सकता है कि हृदय कितनी अच्छी तरह से पंप करता है और खून को स्थानांतरित करता है। इसके अलावा, हृदय, गुर्दे और अन्य अंगों को नुकसान पहुंचाता है।

इसे भी पढें:  ब्लड कैंसर को ट्रिगर करते हैं शरीर में होने वाले 'बायोलॉजिकल म्यूटेशन'

शोधकर्ताओं ने स्वैन के माध्यम से 12.5 साल तक महिलाओं को ट्रैक किया, जब तक वे मेनोपॉज तक नहीं पहुंच गईं। अध्‍ययन में पाया गया कि औसतन, जैसा कि महिलाएं मेनोपॉज से गुजरती हैं, उनकी धमनी कठोरता पिछले माहवारी से पहले एक वर्ष के दौरान लगभग 0.9 प्रतिशत तक बढ़ जाती है और उनकी पिछली अवधि के बाद एक वर्ष के भीतर लगभग 7.5 प्रतिशत बढ़ जाती है।

Menopause Linked Heart Health

अध्ययन में अश्वेत महिलाओं या ब्‍लैक वुमन ने रजोनिवृत्ति से पहले एक वर्ष से अधिक की श्वेत महिलाओंया व्हाइट वुमन की तुलना में मेनोपॉज के पहले धमनी कठोरता में अधिक वृद्धि का अनुभव किया। कई कारकों के लिए समायोजन के बाद आयोजित निष्कर्ष जो हृदय स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं, जिसमें ब्‍लड प्रेशर, लिपिड, धूम्रपान की स्थिति, शारीरिक गतिविधि के स्तर और वित्तीय तनाव शामिल हैं।

अध्‍ययन के प्रमुख लेखक साद समरगंडी ने कहा, '' महिलाओं की एक बड़ी संख्या में अल्पसंख्यकों की धमनी कठोरता केवल एक समय बिंदु पर मापी गई थी, हम अभी भी यह देख पा रहे थे कि मेनोपॉज़ के आसपास हृदय रोग के जोखिम में बड़े बदलाव होते हैं। "

इसे भी पढें:  पॉल्‍यूशन से बिगड़ी ऋषि कपूर की तबियत, अस्‍पताल में भर्ती!

अल खौदरी ने कहा, "हमारा अध्ययन हमें यह बताने में सक्षम नहीं है कि हम मेनोपॉज के दौरान इन परिवर्तनों को क्यों देख रहे हैं।" "लेकिन हम अनुमान लगाते हैं कि मेनोपॉज के साथ होने वाले हार्मोनल परिवर्तन सूजन को बढ़ाकर और वैस्‍कुलर फैट के जमाव को प्रभावित करने में एक भूमिका निभा सकते हैं।"

अल खौदरी ने कहा, "लेकिन हम कह सकते हैं, अभी, कि महिलाओं को जागरूक किया जाना चाहिए कि उनके हृदय स्वास्थ्य खराब होने की संभावना है क्योंकि वे रजोनिवृत्ति से गुजरती हैं।"  "इसलिए, हृदय संबंधी जोखिम कारकों की लगातार निगरानी महत्‍वपूर्ण हो सकती है, विशेष रूप से अश्‍वेत महिलाओं में, जिनमें जो रजोनिवृत्ति के पहले से भी अधिक जोखिम में हैं।

Read More Article On Health News In Hindi

Disclaimer