पोटेशियम की अधिकता किन समस्याओं को पैदा कर सकती है? जानें फायदे, नुसकान और केले के अलावा जरूरी स्रोत

शरीर में पोटेशियम की महत्ता को समझना जरूरी है। वहीं इसकी अधिकता से होने वाले नुकसान भी पता होने चाहिए। जानते हैं इसके प्रमुख स्रोत...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jan 27, 2021Updated at: Jan 27, 2021
पोटेशियम की अधिकता किन समस्याओं को पैदा कर सकती है? जानें फायदे, नुसकान और केले के अलावा जरूरी स्रोत

पोटेशियम हमारे शरीर के लिए बेहद जरूरी है। यह ऐसे खनिज और इलेक्ट्रोलाइट हैं जो बीपी को संतुलित रखते हैं। यह न केवल मांसपेशियों की कार्यप्रणाली में मदद करता है बल्कि तंत्रिका तंत्र के कार्य प्रणाली में भी सुधार लाता है। वैसे तो शरीर के लिए हर तत्व (कैल्शियम, सोडियम, मिनरल्स) जरूरी है। लेकिन पोटेशियम शरीर में नई ऊर्जा का संचार भी कर सकता है। बता दें कि जब भी पोटेशियम के प्रमुख स्रोत के बाद आती है तो जहन में सबसे पहला नाम केले का आता है। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है कि सिर्फ केला ही इसका एक मात्र स्रोत है। केले के अलावा कई ऐसी चीजें हैं जिनमें पोटेशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से उन स्रोतों के बारे में बताएं जिनमें पोटेशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा ये लेख आप इस चीज से भी रूबरू कराएगा कि पोटेशियम की अधिकता से शरीर को क्या नुकसान हो सकते हैं। साथ ही हम जानेंगे कि पोटेशियम के फायदे और नुकसान क्या हैं? इन सभी प्रश्नों के जवाब आपको आगे दिए जा रहे हैं। इसके लिए हमने अपने एक्सपर्ट से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

नारियल पानी

नारियल का पानी पोटेशियम का अच्छा स्रोत है। सर्दियों में अकसर आपने देखा होगा कि लोग पानी का सेवन कम करते हैं, जिसके कारण उन लोगों में पानी की कमी हो जाती है। ऐसे में वे लोग नारियर के पानी से पानी की मात्रा को पूरा कर सकते हैं। बता दें कि शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए नारियल का पानी एक अच्छा विकल्प है। क्योंकि इसके अंदर इलेक्ट्रोलाइट भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो आप की कोशिकाओं में पानी की कमी को पूरा करता है। जो लोग एक्सरसाइज योगा करते हैं उन लोगों में एनर्जी के लिए नारियल का पानी अच्छा विकल्प है। नारियल पानी के अंदर पोटेशियम पाया जाता है। साथ ही ये कैल्शियम, मैग्निशियम आदि का बेहतरीन स्रोत है।

तरबूज का सेवन

तरबूज फल के अंदर पानी की मात्रा ज्यादा पाई जाती है जो शरीर में पानी की कमी को पूरा कर सकता है। इसके अलावा इसके अंदर पोटेशियम, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, फाइबर, कैलोरी आदि मौजूद होते हैं। लाल तरबूज में विटामिन सी और मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके सेवन से शरीर में अनेक पोषक तत्वों की कमी पूरी होती है। आमतौर पर इसका सेवन गर्मियों में किया जाता है। काले नमक के साथ इसका सेवन शरीर को अनेक समस्याओं को दूर रखने में बेहद मददगार है। 

पालक का सेवन

पालक के अंदर विटामिन ए, विटामिन के, पोटेशियम आदि भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा यह प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। ऐसे में जिन लोगों के शरीर में पोटेशियम की कमी होती है वे केले के अलावा पालक का सेवन भी कर सकते हैं। लेकिन ध्यान दें कि कच्चा पालक फ्रोजन पालक की तुलना में ज्यादा पोषक तत्वों से भरा है। इसके अलावा जिन लोगों को किड़नी से संबंधित समस्या है वे पालक का सेवन डॉक्टर की सलाह पर करें।

इसे भी पढ़ें- वजन को कंट्रोल करने में आपकी मदद करे जुकिनी, जानिए इसके 8 फायदे और कुछ नुकसान

शकरकंद का सेवन

शकरकंद में भी प्रमुख मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है। यह सेहत के लिए काफी अच्छा है। इसके अंदर प्रोटीन, कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, फाइबर आदि मौजूद होता है। इसके अलावा इसके अंदर 12% पोटेशियम भी पाया जाता है। ऐसे में यदि आप अपने आहार को हेल्दी बनाना चाहते हैं तो आप शकरकंद को हरी सब्जी आदि के साथ खा सकते हैं।

एवोकाडो का सेवन

एवोकाडो का फल सेहत के लिए बेहद उपयोगी है। इसके अंदर विटामिन के साथ-साथ पोटेशियम भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जिन लोगों को हाई बीपी की समस्या रहती है वह नमक का सेवन कम करें और एवोकाडो का सेवन ज्यादा करें। इससे हाई बीपी की समस्या दूर हो जाएगी। बता दें कि एवोकाडो के अंदर सोडियम की मात्रा कम पाई जाती है। और हाई बीपी वाले लोगों को भी सोडियम से बचना चाहिए और पोटेशियम का सेवन ज्यादा करना चाहिए क्योंकि पोटेशियम अतिरिक्त सोडियम को बाहर निकालने में मददगार है। 

इसे भी पढ़ें- मासिक धर्म के दौरान होने वाली परेशानी से छुटकारा दिलाने में सोयाबीन है मददगार, जानें इसके फायदे और नुकसान

पोटेशियम के फायदे (Potassium Benefits)

1- पोटेशियम मांसपेशियों की ऐंठन को दूर किया जा सकता है मांसपेशियों की ऐंठन की स्थिति को हाइपोकलेमिया कहते हैं। अगर आप नियमित रूप से एक केले का सेवन करते हैं या ऊपर दिए किसी एक स्रोत का सेवन करते हैं तो इससे खून में पोटेशियम का स्तर सामान्य रहता है।

2- पोटेशियम शरीर में मौजूद एसिड को खत्म करने के लिए बेहद उपयोगी है। जब शरीर में एसिड खत्म होगा तो हड्डियों के लिए आवश्य कैल्शियम सही तरीके से बनेगा और यह शरीर को सुरक्षित भी रखेगा। ऐसे में हम कह सकते हैं कि पोटेशियम को हड्डी के स्वास्थ्य के लिए उपयोगी माना जाता है।

3- पोटेशियम से ब्लड प्रेशर और को सामान्य रखा जा सकता है

4- दिल को स्वस्थ बनाने में पोटेशियम अहम भूमिका निभाता है।

5- चिंता और तनाव को दूर करने में भी पोटेशियम बेहद मददगार है।

6- मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया में सुधार पोटेशियम के माध्यम से किया जा सकता है।

7- पोटेशियम के उचित सेवन से मांसपेशियों को मजबूती मिलती है।

8- बता देंगे शरीर में अगर पोटेशियम का स्तर कम होने लगे तो रक्त शर्करा का स्तर भी कम हो जाता है, जिसके कारण सिर दर्द, कमजोरी, घबराहट, अधिक पसीना आदि समस्या पैदा हो जाती है। इस तरह की समस्याओं से पोटेशियम के माध्यम से दूर किया जा सकता है। यही कारण होता है कि डायबिटीज के मरीजों को पोटेशियम के स्तर को सामान्य रखने की सलाह देते हैं।

पोटेशियम के प्रमुख स्रोत

बता दें कि हमारे शरीर के लिए महत्वपूर्ण पोषक तत्व पोटेशियम की कमी से शरीर अनेक रोगों का शिकार हो जाता है। ऐसे में आप अपनी दिनचर्या में निम्न चीजों को शामिल कर सकते हैं-

1- दूध

2- खजूर

3- टमाटर

4- दही

5- शकरकंद 

6- गाजर 

7- आलू 

8- हरी पत्तेदार सब्जियां 

9- बदाम 

10- मूंगफली 

11- एवोकाडो 

12- चुकंदर का सांग 

13- संतरा 

14- अंगूर 

15- केला

पोटेशियम अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर को क्या नकुसान हो सकते हैं?

वैसे तो पोटेशियम शरीर के लिए बेहद महत्व तत्वों में से एक है। लेकिन इसकी अधिकता शरीर को अनेक समस्याओं का सामना भी करा सकती है। बता दें कि हर शरीर की तासीर अलग होती है। ऐसे में आपका फर्ज है ये जानना कि आपके शरीर को कितने पोटेशियम की जरूरत हो सकती है। अगर आप जरूरत से ज्यादा पोटेशियम का सेवन करेंगे तो आपको किडनी से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। बता दें कि पोटेशियम को मूत्र के जरिए सही तरीके से निकाला नहीं जा सकता। इसीलिए इसकी अधिकता मूत्र संबंधित परेशानियों का सामना भी करा सकती है।

नोट- जिन लोगों के शरीर में पहले से पोटेशियम की अधिक मात्रा है वे इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर करें क्योंकि इससे शरीर अनेक समस्याओं से ग्रस्त हो सकता है। इसके अलावा जो लोग स्पेशल डाइट फोलो कर रहे हैं वे अपनी डाइट में बदलाव से पहले डाइटीशियन की सलाह जरूर लें।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer