Doctor Verified

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस: ब्लड शुगर बढ़ने की स्थिति जो बनती है डायबिटीज का कारण, जानें इसके बारे में

इम्पेयर्ड डायबिटीज टॉलरेंस की समस्या आपके लिए बहुत खतरनाक हो सकती है और इसकी वजह से टाइप 2 डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Apr 14, 2022Updated at: Apr 14, 2022
इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस: ब्लड शुगर बढ़ने की स्थिति जो बनती है डायबिटीज का कारण, जानें इसके बारे में

असंतुलित खानपान और खराब जीवनशैली के कारण डायबिटीज की बीमारी लोगों में तेजी से बढ़ रही है। दुनियाभर में डायबिटीज के मरीजों के मामले में भारत प्रमुख स्थान पर है। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के एक आंकड़े के मुताबिक दुनियाभर में 1.3 बिलियन से ज्यादा लोग डायबिटीज के मरीज हैं। डायबिटीज की समस्या का सबसे प्रमुख कारण आपका खानपान और जीवनशैली है। डायबिटीज होने से पहले आपका शरीर कई तरह के संकेत देता है जिसकी मदद से आप शुरूआती समस्या में ही इस समस्या को खत्म कर सकते हैं। सही सही पर खानपान में सुधार और हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाने से यह समस्या दूर हो जाती है। दरअसल जब शरीर में ब्लड शुगर के स्तर में बदलाव होता है तो इसकी वजह से आपको डायबिटीज की बीमारी होती है। शरीर में ब्लड शुगर की स्थिति में असंतुलन से जुड़ी एक स्थिति है जिसे इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस (Impaired Glucose Tolerance in Hindi) कहा जाता है। अगर आप समय रहते इस समस्या के लक्षणों को पहचान लेते हैं तो टाइप 2 डायबिटीज जैसी गंभीर समस्या का खतरा कम हो जाता है। आइये विस्तार से जानते हैं इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस के बारे में।

क्या है इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस? (What is Impaired Glucose Tolerance?)

दरअसल शरीर में ब्लड शुगर के संतुलन में बदलाव की वजह से लोग डायबिटीज का शिकार होते हैं। यह सीधा आपके खानपान से जुड़ा हुआ होता है। लखनऊ के मशुर डायबेटोलॉजिस्ट डॉ एम के चंद्रा के मुताबिक जब आपके शरीर में सामान्य से अधिक ब्लड ग्लूकोज हो जाता है तो इस स्थिति को इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस कहते हैं। इस स्थिति में आपके शरीर में बढ़ा ग्लूकोज का स्तर इतना ज्यादा भी नहीं होता है कि इसे डायबिटीज माना जाए। अगर आप इस स्थिति को नजरअंदाज करते हैं तो इसकी वजह से आपको टाइप 2 डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है और इसके कारण आप कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों से ग्रसित हो सकते हैं। शरीर में ब्लड ग्लूकोज का स्तर बढ़ने की इसी स्थिति को प्री-डायबिटीज भी कहा जाता है। 

Impaired-Glucose-Tolerance

इसे भी पढ़ें : ग्लूकोज शरीर के लिए क्यों महत्वपूर्ण है? जानें ग्लूकोज लेवल घटने के लक्षण और कमी दूर करने के लिए आहार

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस के कारण (Impaired Glucose Tolerance Causes in Hindi)

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस की समस्या में आपके शरीर का ब्लड ग्लूकोज लेवल सामान्य से अधिक हो जाता है लेकिन यह इतना नहीं होता है कि इसे डायबिटीज की स्थिति माना जाए। इस स्थिति में आपका ग्लूकोज लेवल खाने के बाद ज्यादा बढ़ता है। इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस का सबसे बड़ा कारण असंतुलित खानपान और आपकी जीवनशैली होती है। शारीरिक गतिविधियों में कमी और खानपान में असंतुलन के कारण कोई भी व्यक्ति इस समस्या का शिकार हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें : Glucose Tolerance Test: ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट या ग्लूकोज चैलेंज टेस्ट क्या है?

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस के लक्षण (Impaired Glucose Tolerance Symptoms in Hindi)

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस की समस्या होने पर आपका शरीर कुछ संकेत देता है जिसके माध्यम से आप इसे समझ सकते हैं। इन संकेतों के बाद आपको डॉक्टर की सलाह लेकर शरीर में ब्लड ग्लूकोज के स्तर की जांच जरूर करानी चाहिए। इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस के कुछ प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं।

  • बार-बार पेशाब की समस्या।
  • बार-बार प्यास लगना।
  • गला और मुंह सूखना।
  • अत्यधिक थकान।
  • हमेशा सुस्ती छाई रहना।
  • आंखों से धुंधला दिखाई देना।

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस और टाइप 2 डायबिटीज का खतरा (Impaired Glucose Tolerance And Risk Of Type 2 Diabetes)

म्पेयार्ड ग्लूकोज टॉलरेंस की समस्या में आपके शरीर में ब्लड शुगर या ग्लूकोज का स्तर सामान्य से अधिक हो जाता है। इस समस्या में आपके शरीर में डायबिटीज में दिखने वाले लक्षण दिखाई दे सकते हैं। शरीर में इस स्थिति को प्री-डायबिटीज के नाम से भी जाना जाता है। इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस की समस्या को नजरअंदाज करने पर आपको टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा बना रहता है। चूंकि इस स्थिति में आपके शरीर का ब्लड ग्लूकोज लेवल सामान्य से अधिक हो जाता है इसलिए आगे चलकर आपको टाइप 2 डायबिटीज हो सकता है।

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज मरीजों के लिए क्यों जरूरी है रेगुलर ग्लूकोज लेवल चेक करना? डॉक्टर से जानें इसके फायदे

इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस की स्थिति आपको डायबिटीज के खतरे के प्रति आगाह करती है। इस स्थिति से बचने के लिए सबसे पहले आपको डॉक्टर की सलाह लेने के बाद जांच करानी चाहिए और उसके बाद डाइट और लाइफस्टाइल से जुड़े जरूर बदलाव करने चाहिए। इसके शरीर को हमेशा हाइड्रेटेड रखना और रोजाना एक्सरसाइज या योग का अभ्यास करना फायदेमंद होता है।

(All Image Source - Freepik.com)

 
Disclaimer