इम्यूनिटी वाले आयुर्वेदिक काढ़े के भी हो सकते हैं साइड इफेक्ट, ये 5 लक्षण दिखें तो तुरंत बंद कर दें काढ़ा पीना

आयुर्वेदिक काढ़ा पीने के भी हो सकते हैं कई नुकसान। इम्यूनिटी बढ़ाने वाला काढ़ा पीते हुए अगर शरीर में ये 5 लक्षण दिखें, तो आपको सावधान हो जाना चाहिए।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 23, 2020Updated at: May 10, 2021
इम्यूनिटी वाले आयुर्वेदिक काढ़े के भी हो सकते हैं साइड इफेक्ट, ये 5 लक्षण दिखें तो तुरंत बंद कर दें काढ़ा पीना

कोरोना वायरस से बचने के लिए इन दिनों इम्यूनिटी बढ़ाने वाले काढ़े की बड़ी चर्चा है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने भाषणों में कई बार जिक्र किया है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए आयुष मंत्रालय द्वारा बताया गया इम्यूनिटी बढ़ाने वाला काढ़ा जरूर पिएं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये आयुर्वेदिक काढ़ा नुकसानदायक भी हो सकता है? जी हां, आयुर्वेदिक औषधियों के भी साइड इफेक्ट्स होते हैं। कोई भी आयुर्वेदिक औषधि हमेशा मौसम, प्रकृति, उम्र और स्थिति देखकर दी जाती है। लेकिन इन दिनों लोग कोई भी 4-5 चीजें मिलाकर काढ़ा बनाकर पी रहे हैं। ऐसे में अगर तासीर के हिसाब से काढ़े का गलत सेवन किया गया, तो ये नुकसानदायक भी हो सकता है।

ayurvedic kadha side effects

काढ़ा पी रहे हैं और दिखें ये 5 लक्षण, तो बंद कर दें सेवन

अगर किसी व्यक्ति ने इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय द्वार बताए या फिर किसी अन्य वेबसाइट/एक्सपर्ट द्वारा बताए काढ़े का नियमित सेवन कर रहा है और उसे अपने शरीर में ये 5 लक्षण दिख रहे हैं, तो उसे तुरंत इस काढ़े का सेवन बंद कर देना चाहिए।

1. नाक से खून आने लगना
2. मुंह में छाले आ जाना
3. पेट में जलन या दर्द होना
4. पेशाब में जलन की समस्या
5. अपच और पेचिश की समस्या

क्यों नुकसान पहुंचा सकता है आयुर्वेदिक काढ़ा?

दरअसल इम्यूनिटी बढ़ाने वाले आयुर्वेदिक काढ़े में आमतौर पर कालीमिर्च, सोंठ, दालचीनी, पीपली, गिलोय, हल्दी, अश्वगंधा जैसी औषधियों का प्रयोग किया जाता है। इनमें से कई चीजें गर्म तासीर की हैं। इसलिए अगर कोई व्यक्ति बिना लिमिट का ध्यान दिए, बेहिसाब काढ़ा पिए जा रहा है, तो उसके शरीर में गर्मी बढ़ सकती है और उसे निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं। चूंकि आजकल गर्मियों का मौसम है, ऐसे में इस गर्म तासीर वाले काढ़े का अधिक सेवन करने से नुकसान की संभावना बहुत ज्यादा है।

Loading...

आयुष मंत्रालय द्वारा बताए गए काढ़े में मात्रा का रखें ध्यान

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आप सिर्फ और सिर्फ आयुष मंत्रालय द्वारा बताए गए या फिर किसी आयुर्वेदाचार्य के द्वारा बताए गए काढ़े का ही सेवन करें। इसके सेवन के दौरान भी इस बात का ध्यान रखें कि आप औषधियों की बताई गई मात्रा ही काढ़ा बनाते समय डालें। अगर आपको ऊपर बताए गए लक्षण दिखते हैं, तो अपने काढ़े में सोंठ, काली मिर्च, अश्वगंधा और दालचीनी की मात्रा कम कर दें। इसके बजाय गिलोय, मुलेठी और इलायची की मात्रा बढ़ा दें। इन सबके बावजूद भी ध्यान रखें कि अगर आपको पहले से कोई बीमारी है या फिर काढ़ा पीने के बाद समस्याएं शुरू हो जाती हैं, तो किसी आयुर्वेदाचार्य से स्पष्ट राय ले लें और उनकी बताई गई मात्रा और तरीके के अनुसार ही काढ़ा पिएं।

इसे भी पढ़ें: खाना बनाते समय रखें आयुर्वेद में बताए गए इन 5 बातों का रखें ध्यान, दूर होंगी आधी से ज्यादा बीमारियां

immunity booster kadha side effects

वात और पित्त दोष वाले रखें ध्यान

आमतौर पर ऊपर बताई गई औषधियों से बना काढ़ा कफ को ठीक करता है, इसलिए कफ दोष से प्रभावित लोगों के लिए तो ये फायदेमंद है। लेकिन जिन लोगों को वात या पित्त दोष है, उन्हें इन आयुर्वेदिक काढ़ों को पीते समय विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। ध्यान रखें कि गर्म तासीर वाली चीजें काढ़े में बहुत कम मात्रा में डालें। इसके बजाय ठंडी तासीर वाली चीजें डालें। साथ ही काढ़े को बहुत अधिक न पकाएं। आजकल बाजार में त्रिकुट काढ़ा खूब बिक रहा है। काढ़ा बनाते समय त्रिकुट पाउडर को 5 ग्राम से ज्यादा न डालें।

Read More Articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer