स्‍कूल भेजने से पहले बच्‍चे को ऐसे दें घर पर प्राइमरी एजुकेशन, क्लास में रहेगा कॉन्फिडेंट और लगेगा मन

स्‍कूल भेजने से पहले आप बच्‍चे को प्राइमरी एजुकेशन घर पर दे सकते हैं, जानें सही तरीका 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Feb 23, 2022Updated at: Feb 23, 2022
स्‍कूल भेजने से पहले बच्‍चे को ऐसे दें घर पर प्राइमरी एजुकेशन, क्लास में रहेगा कॉन्फिडेंट और लगेगा मन

बच्‍चे के ल‍िए घर ही उसका पहला स्‍कूल होता है। आप बच्‍चे को स्‍कूल भेजने से पहले उसकी प्राइमरी शिक्षा घर से ही शुरू कर सकते हैं ज‍िसके ल‍िए आपको कुछ जरूरी बातों का ध्‍यान रखना होगा जैसे बच्‍चे को क‍ितनी देर पढ़ा सकते हैं, उसे क‍ि‍स तरीके से सीखाना है और कब श‍िक्षा शुरू की जा सकती है। इस लेख में हम बच्‍चे को घर से प्राथम‍िक श‍िक्षा देने का सही तरीका जानेंगे ताक‍ि बच्‍चे का मन भी लगा रहे और स्‍कूल जाने से पहले उसमें आत्‍मव‍िश्‍वास की कमी न हो। 

primary education 

image source:google

बच्चे को पढ़ाने की प्रक्रिया घर पर कैसे शुरू करें? (Primary education at home)

बच्चे को पढ़ाने की प्रक्रिया शुरू करने से पहले इस बात का ध्‍यान रखें क‍ि आपको सही बॉडी लैंग्‍वेज का यूज करना है। आपको बच्‍चे को सीखाते समय उसके मेंटल लेवल के मुताब‍िक ही जानकारी को आसान करके समझाना होगा, बच्‍चे आपको देखकर चीजों को दोहराते या रिपीट करते हैं इससे उन्‍हें चीजें लंबे समय तक याद रहती हैं इसल‍िए आप उन्‍हें आसान भाषा में जानकारी दें। आइए जानते हैं बच्‍चे को घर पर श‍िक्षा देने का सही तरीका- 

1. खेल से करें शुरुआत 

बच्‍चे को घर से पढ़ाने के ल‍िए आपको खेल से शुरूआत करनी चाह‍िए। खेल के जर‍िए बच्‍चे काफी चीजें सीखते हैं जो उनके द‍िमाग में फ‍िट हो जाता है। आप बच्‍चे को सीखाने या पढ़ाने के ल‍िए इलेक्‍ट्रोन‍िक गैजेट्स का इस्‍तेमाल सीम‍ित समय के ल‍िए करें, हफ्ते में एक द‍िन आप बच्‍चे को टीवी या मोबाइल के जर‍िए पढ़ा सकते हैं पर रोज के ल‍िए ये आदत ठीक नहीं है, इससे बच्‍चें की आंखों पर जोर पढ़ सकता है।

इसे भी पढ़ें- बच्चों को अनुशासित करने के चक्कर में पेरेंट्स न करें ये गलतियां, पड़ेगा उल्टा असर

 2. बच्चे को एक्‍ट‍िव‍िटीज करवाएं 

आपको बच्‍चे को अलग-अलग तरह की एक्‍टिव‍िटीज करवानी चाह‍िए। आप बच्‍चे को च‍ित्र की मदद से बहुत सी चीजों का ज्ञान दे सकते हैं, कलरफुल च‍ित्र बच्‍चों को आकर्ष‍ित करते हैं और बच्‍चे उनके जर‍िए बहुत कुछ सीख सकते हैं। बच्‍चे छोटी उम्र में थ्‍योरी से ज्‍यादा प्रैक्‍टिकल नजर आने वाली चीजों को जल्‍दी समझ लेते हैं इसल‍िए आपको बच्‍चों को चीजों का ज्ञान देने के ल‍िए गाने, एक्‍शन या च‍ित्र का सहारा लेना चाह‍िए।  

3. बच्‍चों की ज‍िज्ञासा शांत करें 

आपको बच्‍चे के द‍िमााग में आ रहे सवालों से परेशान नहीं होना है, वो सवाल अजीब भी हो सकते हैं पर आपको बच्‍चे की ज‍िज्ञासा शांत करनी चाह‍िए। आपको कभी बच्‍चे के सवालों से इर‍िटेट नहीं होना चाह‍िए। अगर बच्‍चे आपसे सवाल पूछने में झ‍िझक महसूस कर रहे हैं तो हो उनसे खुलकर बात करें और उनके सवालों को ठीक से समझकर जवाब दें।  

4. समय सीमा तय करें

primary education tips 

image source:google

घर पर बच्‍चे की प्राइमरी श‍िक्षा शुरू करने के ल‍िए आपको पहले समय सीमा बांधनी होगी, बच्‍चे को खेल के समय खेलने दें, उसे जबरन ब‍िठाकर पढ़ाने की कोश‍िश न करें। आपको इस बात का ध्‍यान रखना है हर समय बच्‍चे को पढ़ाई के ल‍िए फोर्स न करें, इतने छोटे ल‍िखने और पढ़ने में सक्षम नहीं होते हैं और बहुत देर तक उनके ल‍िए पेंस‍िल या कलर पकड़ना भी मुश्‍क‍िल होता है। इसल‍िए आपको गैप देना जरूरी है। हर बच्‍चे के सीखने की क्षमता अलग होती है इसल‍िए अगर बच्‍चा पढ़ने में सहज महसूस नहीं कर रहा है या उसका मन नहीं है तो आप बच्‍चे को डांटे या मारें नहीं, इससे बच्‍चे ज‍िद्दी हो जाते हैं। उनके मन का सम्‍मान करें और कुछ समय बाद दोबारा ट्राय करें।   

इसे भी पढ़ें- कहीं आपका बच्चा स्‍कूल में बुलिंग (Bullying) का शिकार तो नहीं? ऐसे करें मालूम

5. बच्‍चे को घुमाने ले जाएं 

आपको बच्‍चे को क‍िताबी ज्ञान देने के बजाय घुमाने लेकर जाना चाह‍िए, क‍िंडर गार्डन एक ऐसा समय होता है जब बच्‍चे अपने आसपास की चीजों को देखकर सीखते हैं और नई चीजों को अपने व्‍यवहार में उतार लेते हैं। बच्‍चों की ऑब्‍सर्वेशन को बेहतर करने के ल‍िए आपको उन्‍हें घुमाने लेकर जाना चाह‍िए आप बच्‍चे को जू, गॉर्डन, म्‍यूज‍ियम आद‍ि जगहों पर ले जा सकते हैं।    

आप बच्‍चे को खेल-खेल में ग‍िनती और अक्षर का ज्ञान दे सकते हैं, इससे बच्‍चे को अक्षर समझने और नंबर की पहचान करने में परेशानी नहीं होगी।

main image source:google

Disclaimer