दूध पिलाने के बाद शिशु को डकार दिलाने के आसान तरीके

शिशु के पेट में गैस को कम करने के लिए डकार कराना जरूरी होता है। कुछ मांओं को डकार दिलाने का सही तरीका मालूम नहीं होता है। जानते हैं इस बारे में-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jul 13, 2021Updated at: Jul 13, 2021
दूध पिलाने के बाद शिशु को डकार दिलाने के आसान तरीके

डकार आना एक सामान्य प्रक्रिया है। हर वर्ग और उम्र के लोगों को डकार होता है। लेकिन नई मांओं को अपने शिशु को डकार दिलाना थोड़ा मुश्किल होता है। शिशु को डकार आने से मां को संतुष्टि मिलती है कि उसके बच्चे का पेट भर गया है। इसलिए अधिकतर मां अपने शिशु को डकार दिलाने का प्रयास करती हैं। लेकिन कभी-कभी गलत प्रयास के चलते बच्चे की सेहत बिगड़ जाती है। इसलिए अगर आप बच्चे को डकार दिलाना चाहते हैं, तो सही तरीकों का इस्तेमाल करें। इससे बच्चे को डकार भी आएगी, साथ ही सेहत पर किसी तरह का कोई असर भी नहीं होगा। चलिए जानते हैं कैसे बच्चों को दिलाएं डकार?

बच्चों को क्यों दिलाना चाहिए डकार?

दरअसल, जब आप स्तनपान कराती हैं, तो उस समय आपका बच्चा दूध के साथ हवा के बुलबुलों को भी निगलता है। कभी-कभी ये बुलबुले बच्चे के पेट में जाकर फंस जाते हैं, जिसकी वजह से उन्हें बैचेनी और पेट में दर्द हो सकता है। ऐसे में अगर आप उन्हें डकार दिलाती हैं, तो इससे उनके पेट से गैस बाहर निकल जाता है। साथ ही बच्चे को इससे राहत भी महसूस होती है और वह दोबारा दूध पीने के लिए तैयार भी होता है। इसलिए बच्चों को डकार दिलाना जरूरी होता है।

इसे भी पढ़ें - नवजात भी हो रहे कोरोना के शिकार, इन 6 जरूरी टिप्स से रखें उनका खास ख्याल

बच्चों को कब दिलाएं डकार?

अधिकतर लोग बच्चे को दूध पिलाने या फिर स्तनपान कराने के दौरान डकार दिलाते हैं। इसके अलावा भी कुछ ऐसे समय हैं, जिसके दौरान बच्चों को डकार दिलाना जरूरी होता है। जैसे -

  • जब आपका बच्चा बेचैनी महसूस कर रहा हो, तो तुरंत उसे डकार दिलाने की कोशिश करें।
  • अगर आपके बच्चे के पेट में गैस हो, तो उसे डकार जरूर दिलाएं।
  • अगर आपके शिशु के पेट से आवाज आ रही है, दूध पीते समय रो रहा है, दूध पीने में आनाकानी कर रहा है, दूध पीते समय हाथ-पैर मार रहा है, तो इस दौरान उन्हें डकार जरूर दिलाएं। इससे उन्हें काफी राहत महसूस होगा।

जांघ पर उल्टा लेटाकर

जब आपका बच्चा स्तनपान या फिर दूध पीने में आनाकानी कर रहा है, तो उसे डकार दिलाने के लिए अपने जांघ पर उल्टा लिटाएं। अब थोड़ा उसे अपने घुटने की ओर झुकाते हुए उसका पीठ रगड़ें। इस आसान तरीके से बच्चे को तुरंत डकार आ सकती है।

कंधे पर रखकर दिलाएं डकार

कंधे पर रखकर भी आप अपने शिशु को डकार दिला सकते हैं। इसके लिए आप अपने कंधे पर शिशु का सिर या छोड़ी रखें। कंधे से गिरने से बचाने के लिए उसे अपना सहारा दें। अब आप अपने एक हाथ को उसके सिर पर रखें और दूसरे हाथ से उसके पीठ को सहलाएं। इससे शिशु को डकार आ सकता है।

इसे भी पढ़ें - करीना कपूर और सैफ अली खान ने दूसरे बच्चे का नाम रखा 'जेह', जानें इस नाम का अर्थ और क्यों है ये यूनीक

गोद में बिठाकर

शिशु को गोद में बैठाकर भी उसे डकार दिलाया जा सकता है। इसके लिए अपने शिशु को गोद में बैठाएं। अब उसकी छाती पर अपनी हथेली से सपोर्ट दें। फिर अपनी उंगलियों से उसकी ठोड़ी और जबड़े को पकड़ें और शरीर को हल्का सा मोड़कर उसकी पीठ को रगड़ें। इससे उसे तुरंत डकार आ सकता है। 

अगर आपके शिशु के पेट में गैस है, तो इस आसान तरीकों से उन्हें तुरंत डकार आ सकता है। लेकिन अगर वह इन तरीकों से भी स्तनपान करने में आनाकानी कर रहा है। दूध पी नहीं रहा है, तो उसे तुरंत शिशु विशेषज्ञ के पास ले जाकर उसकी जांच कराएं।

Read More Articles on New Born Care in Hindi

Disclaimer