Doctor Verified

माइग्रेन का सेहत पर क्या असर पड़ता है? जानें डॉक्टर से

Migraine in Hindi: माइग्रेन में तेज स‍िर दर्द होता है। माइग्रेन का असर शरीर के कई ह‍िस्‍सों पर पड़ता है। जानते हैं शरीर पर माइग्रेन के प्रभाव। 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Dec 10, 2022 16:00 IST
माइग्रेन का सेहत पर क्या असर पड़ता है? जानें डॉक्टर से

Migraine in Hindi: माइग्रेन होने पर स‍िर में असहनीय दर्द कभी भी हो सकता है। कई लोगों को स‍िर के एक तरफ तेज दर्द होता है। वहीं कुछ लोगों को स‍िर के दोनों तरफ झनझनाहट वाला तेज दर्द महसूस हो सकता है। ये दर्द कुछ घंटों के ल‍िए भी हो सकता है या कई द‍िनों तक भी दर्द आपको परेशान कर सकता है। माइग्रेन की समस्‍या का असर शरीर के कई अंगों पर पड़ता है। माइग्रेन के कारण होने वाली मानस‍िक और शारीर‍िक समस्‍याएं समय के साथ बढ़ सकती हैं इसल‍िए माइग्रेन का इलाज करवाना जरूरी है। इस लेख में हम जानेंगे क‍ि माइग्रेन, शरीर को क‍िस तरह से प्रभाव‍ित करता है। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

migraine in hindi

माइग्रेन शरीर को कैसे प्रभाव‍ित करता है?

1. माइग्रेन का असर रक्‍त संचार पर पड़ता है और इसके कारण हार्ट अटैक या द‍िल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।

2. माइग्रेन के कारण व्‍यक्‍त‍ि मानस‍िक तनाव में रहता है। माइग्रेन के कारण व्‍यक्‍त‍ि ड‍िप्रेशन का श‍िकार हो सकता है।

3. माइग्रेन का दर्द, आंखों को प्रभाव‍ित कर सकता है। आंख को प्रभाव‍ित करने वाले माइग्रेन को ओकुलर माइग्रेन कहते हैं। माइग्रेन के प्रभाव से आंख में खून का बहाव कम हो जाता है।  

4. माइग्रेन के कारण हाई बीपी का खतरा बढ़ जाता है। कई स्‍टडी में माइग्रेन और हाई बीपी का संबंध बताया गया है। रक्‍त प्रवाह प्रभाव‍ित होने के कारण बीपी बढ़ सकता है।

5. माइग्रेन के दर्द के कारण अन‍िद्रा की समस्‍या हो सकती है। एंग्‍जाइटी के कारण व्‍यक्‍त‍ि को सोने में परेशानी हो सकती है। 

6. कब्‍ज की समस्‍या का कारण भी माइग्रेन हो सकता है। ज‍िन लोगों को माइग्रेन होता है उन्‍हें ब्‍लोट‍िंग, डायर‍िया, पेट में दर्द आद‍ि की समस्‍या हो सकती है। 

7. माइग्रेन में ब्रेन के ह‍िस्‍से में ब्‍लड सप्‍लाई कम होने से स्‍ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। जो लोग धूम्रपान का सेवन करते हैं उनमें स्‍ट्रोक का ज्‍यादा खतरा होता है।  

माइग्रेन का दर्द बढ़ने के कारण  

  • शराब या नशीले पदार्थों का ज्‍यादा सेवन करने से माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है।
  • जो लोग ज्‍यादा शारीर‍िक या मानस‍िक तनाव लेते हैं उन्‍हें अक्‍सर माइग्रेन का दर्द परेशान करता है।   
  • जब शरीर का नर्वेस कम्युनिकेशन खराब हो जाता है, तब माइग्रेन का दर्द हो सकता है।
  • थकान या नींद की कमी के कारण माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है।
  • हार्मोनल असंतुलन के कारण भी स‍िर में माइग्रेन का दर्द उठ सकता है।  
  • गर्भन‍िरोधक गोल‍ियों के ज्‍यादा सेवन के कारण माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है।

इसे भी पढ़ें- माइग्रेन के दर्द से तुरंत राहत पाने के लिए आजमाएं ये 5 घरेलू उपाय

माइग्रेन के दर्द से कैसे बचें?

ऐसा संभव नहीं है क‍ि माइग्रेन को जड़ से खत्‍म क‍िया जा सके। लेक‍िन इसके लक्षणों को कंंट्रोल क‍िया जा सकता है। आपको ऐसी चीजों को नजरअंदाज करना है ज‍िससे माइग्रेन का दर्द बढ़ता है या ट्र‍िगर होता है। माइग्रेन के दर्द से बचने के ल‍िए न‍िम्‍न उपायों को आजमां सकते हैं-       

  • पर्याप्‍त मात्रा में पानी का सेवन करें। 
  • रोजाना 30 से 40 म‍िनट कसरत करें।
  • डाइट में फाइबर र‍िच फूड्स का सेवन करें।
  • तनाव कम करने के ल‍िए मेड‍िटेशन की मदद लें।
  • मील्‍स को स्‍क‍िप न करें।

ऊपर बताई ट‍िप्‍स की मदद से माइग्रेन के दर्द से बच सकते हैं। लेख पसंद आया हो, तो शेयर करना न भूलें।   

Disclaimer