आपके परवरिश का तरीका कैसे डालता है बच्चे की मानसिक सेहत पर असर? जानें कैसे दें बच्चों को अच्छी परवरिश

अगर आपकी परवर‍िश ठीक नहीं है तो बच्‍चे का मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य बि‍गड़ सकता है पर कुछ ट‍िप्‍स को फॉलो करके आप बच्‍चे को अच्‍छा माहौल दे सकते हैं 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Oct 05, 2021
आपके परवरिश का तरीका कैसे डालता है बच्चे की मानसिक सेहत पर असर? जानें कैसे दें बच्चों को अच्छी परवरिश

हर माता-प‍िता चाहते हैं क‍ि उनके बच्‍चे की सेहत अच्‍छी रहे और आगे चलकर उनका बच्‍चा एक काम‍ियाब व्‍यक्‍त‍ि बने पर इसके ल‍िए बच्‍चे को अच्‍छी परवर‍िश की जरूरत होती है। जी हां, परवर‍िश का अच्‍छा या बुरा असर बच्‍चे के मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है और इसके चलते उसका पूरा व्‍यक्‍त‍ित्‍व बनता है इसल‍िए आपको बच्‍चे के बेहतर मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य के ल‍िए पहले परवर‍िश को सही ढंग से न‍िभाना होगा। कई बच्‍चे अपने माता-प‍िता से खुलकर अपने मन की बात नहीं कह पाते और कम उम्र में ड‍िप्रेशन का श‍िकार हो जाते हैं। वहीं कुछ बच्‍चे ड‍िप्रेशन में गलत आदतों में भी शाम‍िल हो जाते हैं। इस लेख में हम पर‍वरिश के सही और गलत तरीकों पर बात करेंगे ताक‍ि आप समझ पाएं क‍ि बच्‍चे के ल‍िए क्‍या जरूरी है। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के बोधिट्री इंडिया सेंटर की काउन्‍सलिंग साइकोलॉज‍िस्‍ट डॉ नेहा आनंद से बात की।

parenting tips

(image source:verywellfamily)

बच्‍चों के मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य पर परवर‍िश का क्‍या असर पड़ता है? (How parenting affects mental health of child)

माता-प‍िता और बच्‍चे के बीच के व्‍यवहार का असर बच्‍चे का मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य प्रभावित करता है। अगर आपका बच्‍चा खुश रहता है, एक्‍ट‍िव है तो इसका मतलब है आप सही परवर‍िश दे रहे हैं पर अगर बच्‍चा हर समय रोता है या गुस्‍सा ज्‍यादा आता है तो आपको ध्‍यान देने की जरूरत है क‍ि आपके घर का माहौल कैसा है। अक्‍सर ये देखा गया है क‍ि ज‍िस घर में माता-प‍िता की आपसी लड़ाई-झगड़े होते हैं वहां बच्‍चे डरे-सहमे रहते हैं और धीरे-धीरे ड‍िप्रेशन का श‍िकार हो जाते हैं। इससे बचने के ल‍िए आप आपसी झगड़ों को बच्‍चों से दूर रखें। 

इसे भी पढ़ें- क्या आपके बच्चे भी करते हैं आपस में या दूसरों से ईर्ष्या (Jealousy)? इन तरीकों से दूर करें बच्चों में ये भावना

गलत पर‍वर‍िश से ब‍िगड़ता है बच्‍चे का मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य (Bad parenting and mental health of child)

scolding

(image source:independent)

कुछ माता-प‍िता बच्‍चे की परवर‍िश में गलत तरीकों का इस्‍तेमाल करते हैं, ऐसे बच्‍चों का मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य बुरी तरह से खराब होता है-

  • बच्‍चे की बात को नजरअंदाज करने से उसके मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा असर पड़ सकता है। 
  • अगर आप बच्‍चे की पसंद को महत्‍व नहीं देंगे तो उसमें कॉन्‍फ‍िडेंस नहीं आएगा और वो हर समय डरा हुआ महसूस करेगा। 
  • बच्‍चे को ज्यादा करीब रखने से भी उसका मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य ब‍िगड़ सकता है इससे बच्‍चे को च‍िड़च‍िड़ापन हो सकता है। 
  • अगर आप बच्‍चे को ज्‍यादा समय नहीं दे पाते तो उसके साथ कम से कम दिन भर में कुछ देर जरूर बात करें, इससे बच्‍चे को अकेलापन महसूस नहीं होगा। 
  • अगर बच्‍चे को रोज डांटते हैं तो उसका मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य खराब हो सकता है। 
  • ज‍िन बच्‍चों के माता-प‍िता में झगड़े होते हैं उन बच्‍चों का भी मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य ब‍िगड़ सकता है। 
  • अगर आप बड़े होने के कारण बच्‍चे से ज्‍यादा सख्‍त व्‍यवहार करते हैं तो भी बच्‍चे का मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य ब‍िगड़ सकता है। 
  • ज‍िन बच्‍चों के माता-पिता और बच्‍चों के बीच बात नहीं होती या माता-प‍िता बच्‍चे को समय नहीं देते उन बच्‍चों का मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य भी ब‍िगड़ सकता है।   

स‍िंगल पैरेंट हैं तो बच्‍चे को कैसे संभालें? (How to take care of child if you are a single parent)

hug your child

(image source:parentology)

अगर आप स‍िंगल पैरेंट हैं और क‍िसी कारण से अपने पॉर्टनर के ब‍िना ही बच्‍चे को संभालने की ज‍िम्‍मेदारी आप पर है तो आप इन ट‍िप्‍स को फॉलो करें- 

  • ज‍िन बच्‍चों के माता-प‍िता का ड‍िवोर्स हो जाता है उनके मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य पर ज्‍यादा प्रभाव पड़ता है, ऐसे बच्‍चों को ड‍िप्रेशन, एंग्‍जाइटी की समस्‍या हो सकती हैं, इस समस्‍या से बचने के ल‍िए माता-प‍िता आपस में तय करें क‍ि वो अपने बच्‍चे को झगड़ों से दूर कैसे रखें। 
  • अलग हो जाने के बाद भी बच्‍चे को माता-प‍िता दोनों से ही म‍िलने या घूमने की इजाजत होनी चाह‍िए, क्‍योंक‍ि बच्‍चे हर हाल में माता-प‍िता का प्‍यार साथ में पाना चाहते हैं। 
  • अगर आप स‍िंगल पैरेंट हैं तो बच्‍चे से समय-समय पर उसकी जरूरतों के बारे में सवाल करते रहें, जिससे बच्‍चा अपने मन की बात आपसे खुलकर कह सके। 
  • अपने बच्‍चे को क‍िसी गैर की ज‍िम्‍मेदारी पर छोड़कर न जाएं, ऐसे बच्चे र‍िश्‍तेदार या अन्‍य किसी व्‍यक्‍त‍ि के साथ ज्‍यादा सहज महसूस नहीं करते हैं। 

इसे भी पढ़ें- बच्चों को इन 7 तरीकों से सिखाएं बचत और पैसों के बारे में जरूरी बातें, जीवन में बहुत काम आएगी ये शिक्षा

कैसे पता चलेगा क‍ि आपका बच्‍चा ड‍िप्रेशन में है? (Signs of depression in kids)

बच्‍चे में ड‍िप्रेशन के लक्षण की पहचान करने के ल‍िए आप बच्‍चे के व्‍यवहार पर गौर करें- 

  • अगर बच्‍चा ज्‍यादा समय अकेला रहना चाहता है तो उसे ड‍िप्रेशन हो सकता है। 
  • अगर बच्‍चा सोशल कंपनी या लोगों की भीड़ से परेशान हो जाता है तो भी ये ड‍िप्रेशन का लक्षण हो सकता है। 
  • अगर बच्‍चा अपनी उम्र के बच्‍चों के साथ खेलना या बात करना पसंद नहीं करता तो ये ड‍िप्रेशन के लक्षण हो सकते हैं। 
  • बच्‍चा बार-बार बीमार पड़ रहा है तो ये अच्‍छा लक्षण नहीं है, आपको उसे तुरंत मनोच‍िकित्‍सक के पास ले जाना चाह‍िए, डर या ड‍िप्रेशन के कारण ऐसा हो सकता है। 
  • अगर बच्‍चा स्‍कूल जाने से मना करता है या क‍िसी से बात नहीं करना चाहता तो भी आप ये पहचान सकते हैं क‍ि बच्‍चा तनाव या ड‍िप्रेशन का शि‍कार हो रहा है।

परवर‍िश के जर‍िए बच्‍चे का मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य कैसे सुधारें? (How to improve mental condition of child)

mental health of child

(image source:uhhospitals) 

बच्‍चे का मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य बेहतर करने के ल‍िए इन बातों को फॉलो करें- 

  • बच्‍चों से बात करने के ल‍िए आपको उन्‍हीं की भाषा का इस्‍तेमाल करना होगा, यानी आसान शब्‍दों में प्‍यार से बच्‍चे की परेशानी जानें। 
  • उसकी आदतों और उसकी पसंद की चीजों में आप भी ह‍िस्‍सा लें, जैसे बच्‍चे को कोई खेल या एक्‍ट‍िव‍िटी पसंद है तो आप भी उसके साथ भाग लें। 
  • बच्‍चे के मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर रखने के ल‍िए उससे जुड़े हर मुद्दे पर खुलकर बात करें। 
  • डर बनाने के ल‍िए बच्‍चे को हर समय डांटना उच‍ित नहीं है, इससे बच्‍चे डरने लगते हैं और खुलकर अपने मन की बात नहीं कह पाते, इसल‍िए बच्‍चे को डांटने के बजाय प्‍यार से समझाएं। 
  • अगर बच्‍चा क‍िसी चीज को लेकर ज‍िद्द करता है तो उसे डांटने के बजाय उस चीज के नुकसान और फायदों के बारे में बताएं ज‍िससे बच्‍चा गलत और सही में फर्क समझ पाए। 

 इन ट‍िप्‍स को फॉलो करेंगे तो अपने बच्‍चे के मानस‍िक और शारीर‍िक स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर रख सकेंगे। 

(main image source:tipsforwomens)

Read more on Parenting Tips in Hindi 

Disclaimer