सीने की जलन और बदहजमी से हैं परेशान? इन 5 बातों का रखें ध्यान

क्या आप अक्सर सीने की जलन से परेशान रहते हैं और इन्हें बिना दवाइयों के ठीक करना चाहते हैं ? तो जानिए कैसे।

Monika Agarwal
घरेलू नुस्‍खWritten by: Monika AgarwalPublished at: Oct 23, 2020
सीने की जलन और बदहजमी से हैं परेशान? इन 5 बातों का रखें ध्यान

सीने में जलन इसे मेडिकल भाषा में हार्टबर्न बोलते हैं, एसिड बढ़ने का एक सामान्य लक्षण है। असल में जब अत्याधिक एसिड बनती है तो पेट में इकट्ठे सामग्री का दबाव उल्टा गले की ओर बढ़ता है। ऐसा नहीं है कि इसे सिर्फ दवाइयों से ही ठीक किया जा सकता है। आप कुछ घरेलू उपचारों से भी से ठीक कर सकते हैं। यदि हम अपनी दिनचर्या व लाइफस्टाइल को ठीक व स्वस्थ रखेंगे तो हम न केवल हार्ट बर्न बल्कि सभी प्रकार की बीमारियों से बच सकते हैं। 

insidehurtburn

पहले तो यह जानना जरूरी है कि इस प्रकार एसिड रिफ्लक्स का कारण क्या है। दरअसल जब आप के पेट का एसिड इसोफेगस में चला जाता है तब आप को एसिड रिफ्लक्स का सामना करना पड़ता है। यह वैसे तो बहुत ही आम होता है और जल्द ही ठीक हो जाता है। परन्तु जब यह बार बार होता है तो इस वजह से पेट में जलन होने लगती है।  यह एक गम्भीर समस्या भी बन सकती है। तो इससे बचने के लिए जानिए साधारण उपाय।

एक साथ ज्यादा ना खाएं

आप की इसोफेगस आप के पेट में जाकर खुलती है और वहां एक रिंग के आकार की मसल होती है। यह आप के पेट को एसिडिक चीजों से बचाती है। यदि आप ज्यादा खाना खा लेते हैं तो यह मसल बीच में ही खुल जाती है। जिस के कारण आप के पेट में एसिडिक तत्त्व चले जाते हैं और आप को वहां पर जलन होने लगती है। इसलिए एक साथ ज्यादा खाना न खाएं बल्कि समय समय पर भोजन करें। 

इसे भी पढ़ें : सो के उठने के बाद होती है गैस और बदहजमी? जानें इस एसिड रिफ्लक्स को कम करने के लिए सोने का सही तरीका

वजन नियंत्रित करें 

आप के पेट के ऊपर एक मांसपेशी होती है जिसको मेडिकल भाषा में डायाफ्राम कहते हैं। यह इसोफेगस से एसिडिक तत्त्व आप के पेट के अंदर रिसने से बचाती है। यदि आप के पेट का वजन ज्यादा होगा तो हो सकता है आप का डायाफ्राम नामक सपोर्ट हट जाए और आप के पेट के अंदर सारे एसिडिक तत्त्व रिस जाएं। इस कारण भी आप को जलन की समस्या हो सकती है। इसलिए अपने वजन को कम और नियंत्रित करें। 

insideacidrefluxproblem

कम कार्बोहाइड्रेट वाली चीजें खाएं

यदि आप अधिक कार्ब्स का सेवन करेंगे तो हो सकता है कि कुछ कार्ब्स आप के शरीर के अंदर न पचे और इससे आप के पेट के अंदर बैक्टीरिया की संख्या बढ़ने लगे। यह भी एसिड रिफ्लक्स का एक बहुत मुख्य कारण होता है। इसलिए लो कार्ब डाइट का सेवन उचित है। 

इसे भी पढ़ें : लाइफस्टाइल से जुड़ी होती हैं पेट की परेशानियां, एक्सपर्ट से जानें GERD के लक्षणों को कम करने के आसान उपाय

अधिक कॉफी न पीएं 

अधिक कॉफी पीने से आप का डायाफ्राम कमजोर होता है जिस से एसिड रिफ्लक्स होने का खतरा अधिक हो जाता है। यदि आप बिना कैफ़ीन की कॉफी पीते हैं तो उस में आप को अधिक नुक़सान नहीं पहुंचता है। अतः यदि आप कॉफी पीने के शौकीन हैं तो या तो बिना कैफ़ीन की कॉफी पिएं या कॉफी पीना कम करें। 

च्‍युइंगम चबाएं 

शोध ने साबित किया है कि खाने के फौरन बाद  यदि कम से कम 20 मिनट तक शुगर फ्री च्‍युइंगम चबायें तो आप की इसोफेगस में एसिड की मात्रा कम होती है। असल में च्‍युइंगम चबाने से ज्यादा सलाइवा बनता है, जो कि रिफ्लक्स कम करने में मदद करता है। जिस च्‍युइंगम में बाइकार्बोनेट होता है वह अधिक असर करती है। अतः च्‍युइंगम चबाने से एसिड रिफ्लक्स की समस्या कम होती है।

Read more articles on Home-Remedies in Hindi

Disclaimer