तेज गर्मी में कहीं सनसट्रोक बिगाड़ न दे आपकी सेहत! इन आसान टिप्स से दें तेज गर्मी को मात और पाएं राहत

जैसे-जैसे पारा चढ़ रहा है, वैसे-वैसे लोगों को सनस्ट्रोक का खतरा भी बढ़ने लगा है लेकिन आप इन तरीकों से खुद को गर्मी से बचा सकते हैं

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: May 26, 2020
तेज गर्मी में कहीं सनसट्रोक बिगाड़ न दे आपकी सेहत! इन आसान टिप्स से दें तेज गर्मी को मात और पाएं राहत

मई का महीना खत्म होने को है और जून-जुलाई आते ही लोग गर्मी से बचने के उपाय ढूंढने लगेंगे। जिस हिसाब से पारा चढ़ रहा है उसे देखकर यही लगता है कि लोगों को इस बार गर्मी बहुत ज्यादा लगने वाली है। अभी तो गर्मी की शुरुआत है लेकिन यह इस बात की ओर इशारा करता है कि आने वाले महीनों में गर्मी और बढ़ेगी। इसी के साथ हमें भी गर्मी को हराने के लिए तैयार हो जाना चाहिए। गर्मियों के दौरान सबसे आम और हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाने वाला कारक है, सनस्ट्रोक है, जिसे कुछ लोग हीटस्ट्रोक भी कहते हैं। सनस्ट्रोक गर्मी की बीमारी का एक तीव्र रूप है, जो शरीर के तापमान में अत्यधिक वृद्धि के कारण होता है। भ्रम, सिरदर्द, चक्कर आना, त्वचा का लाल पड़ जाना आम संकेत हैं। सनस्ट्रोक मस्तिष्क के साथ-साथ अन्य आंतरिक अंगों को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। मतली, दौरा, भ्रम, भटकाव और कभी-कभी चेतना खो देना इसके कुछ अन्य लक्षण हैं।  

 stroke

सनस्ट्रोक को गर्मी की चोट के सबसे गंभीर रूप में से एक कहा जाता है और इसे चिकित्सीय आपातकाल के रूप में माना जाता है और इस स्थिति में तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है। और अगर इस स्थिति को बिना उपचार के ही छोड़ दिया जाए तो सनस्ट्रोक मस्तिष्क, हृदय, गुर्दे और मांसपेशियों को बहुत जल्दी नुकसान पहुंचा सकता है। उपचार में  जितनी देरी होती है, उतना ही नुकसान होता है और गंभीर जटिलताओं या मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है।        

चूंकि गर्मियां अपनी चरम सीमा पर हैं इसलिए सनस्ट्रोक से दूर रहने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं. जिन्हें अपनाकर आप इस स्थिति से बच सकते हैं:

  • जितना संभव हो, अत्यधिक तापमान होने पर किसी वातानुकूलित इमारत में ही रहें।
  • पानी और तरल पदार्थों का सेवन करें। इस बात का इंतजार न करें कि जब आपको प्यास लगेगी तभी पानी पीएंगें। 
  • हल्के रंग के, ढीले-ढाले कपड़े पहनें, जिसमें गर्मी में न फंसें और आपको ठंडा रखें।
  • दिन में कई बार ठंडा होने के लिए कूल शॉवर या बाथ लें।
  • अत्यंत गर्म दिन में गैस के उपयोग  से बचें।
  • अपने आप को गर्म मौसम में व्यायाम करने के लिए प्रेरित करें लेकिन उचित हाईड्रेशन सुनिश्चित करें। दिन के सबसे गर्म हिस्सों के दौरान अत्यधिक परिश्रम से बचने के लिए हल्के व्यायाम करें।
  • अपनी त्वचा को सन बर्न से बचाने के लिए 30 या उससे अधिक के सन प्रोटेक्शन फैक्टर (एसपीएफ) वाले सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।
  • डिहाईड्रेशन को रोकने के लिए गर्मियों में अतिरिक्त तरल पदार्थों का सेवन करें, जैसे फलों का रस और स्पोर्ट ड्रिंक। हालांकि, कैफीन या अल्कोहल के तरल पदार्थों से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि ये दोनों पदार्थ अधिक तरल पदार्थ नुकसान करते हैं और गर्मी से संबंधित बीमारियों को बदतर करते हैं।
  • दिन के ठंडे वक्त यानी की सूर्यास्त के बाद बाहरी गतिविधियों करने की कोशिश करें। सूरज और उसकी गर्मी से अपने जोखिम को सीमित करें, खासकर गर्मी की लहरों और दिन के सबसे गर्म घंटों के दौरान।
  • अपने रहने वाले क्षेत्र को भी ठंडा होने दें। ताजी हवा के लिए रात में खिड़कियां खुली छोड़ दें और गर्मी से बचने के लिए दिन के दौरान पर्दे बंद कर दें। वायु बाहर निकालने के लिए पंखे का उपयोग करें और यदि संभव हो तो, एयर कंडीशनर को चालू करें।
  • अच्छे हवादार क्षेत्रों में रहें। 

इसे भी पढ़ेंः जून के महीने में बढ़ जाता है हीट स्ट्रोक का खतरा, एक्सपर्ट से जानें बचाव का तरीका 

sunstroke

सनस्ट्रोक के मामले में, तुरंत चिकित्सा सहायता लें और व्यक्ति को शांत करने की कोशिश करें।

  • शरीर पर पहने हुए अतिरिक्त कपड़े उतार दें। 
  • ठंडे पानी के टब या ठंडे शॉवर में व्यक्ति को ले जाएं। 
  • त्वचा पर पानी से स्प्रे करें।
  • अंडरआर्म्स, कमर, और गर्दन, गाल, हथेलियों और पैरों के तलवों पर आइस पैक या गीले तौलिये को लगाएं।
  • पानी का सेवन भी बढ़ाएं।        

इसे भी पढ़ेंः   गर्मी की लू और हीट स्ट्रोक से बचाने में मदद करेंगे ये 5 एसेंशियल ऑयल, जानें प्रयोग

जोखिम:

बुजुर्ग लोगों और बच्चों को हीटस्ट्रोक का खतरा अधिक होता है क्योंकि वे गर्मी में तापमान की भिन्नता को प्रभावी रूप से प्रबंधित नहीं करते हैं। इसके अलावा, मोटापे, उच्च रक्तचाप, शराब, मानसिक बीमारी जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के लोगों को हीटस्ट्रोक का खतरा अधिक होता है और इसलिए उन्हें विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है।

घरेलू उपचार:

  • चूंकि रोकथाम इलाज से बेहतर है, इसलिए यहां कुछ प्राकृतिक घरेलू उपचार भी दिए गए हैं, जिन्हें अपनाकर आप हीट स्ट्रोक से बचाव कर सकते हैं:
  • कच्चे आम और मसालों के साथ बनाया गया, आम पन्ना गर्मी का कूलर है जो आपके शरीर को ठंडा करता है।
  • आलू बुखारा एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं और बेहद हाइड्रेटिंग होते हैं।
  • छाछ प्रोबायोटिक्स का एक बड़ा स्रोत है और शरीर को आवश्यक विटामिन और खनिजों के साथ फिर से भर देता है जो अत्यधिक पसीने के कारण गायब हो जाते हैं।  
  • नारियल पानी शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स को स्वाभाविक रूप से संतुलित करने के लिए जाना जाता है। इसलिए नारियल पानी का सेवन करें। 
  • गर्मियां अपने पूरे शबाब में आए उससे पहले, इन घरेलू उपचारों पर ध्यान दें, यह सुनिश्चित करें कि सूरज अपनी तेज गर्मी से आपको बचने का कोई कारण नहीं देगा। अपने आप को तैयार रखें, आवश्यक चीजों को ले जाएं और गर्मी को आप पर हावी न होने दें। 

 Read More Articles On Other Diseases in Hindi

Disclaimer