Healthcare Heroes Awards 2022: मिलिए प्रेगनेंट महिलाओं के वैक्सिनेशन के लिए आवाज उठाने वाली प्रियाली सुर से

प्रियाली सुर ने प्रेगनेंट महिलाओं के वैक्सिनेशन के लिए कैंपेन शुरू किया और खुद 8 महीने की प्रेगनेंसी में कोर्ट जाकर इसकी वकालत की।

Monika Agarwal
विविधWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jan 31, 2022Updated at: Jan 31, 2022
Healthcare Heroes Awards 2022: मिलिए प्रेगनेंट महिलाओं के वैक्सिनेशन के लिए आवाज उठाने वाली प्रियाली सुर से

कैटेगरी:  मदर्स एंड इंफैंट केयर (मातृत्व एवं शिशु देखभाल)

परिचय:  प्रियाली सुर

योगदान: प्रियाली सुर ने ऑनलाइन कैंपेन शुरू किया जिसकी वजह से सरकार ने गर्भवती महिलाओं के लिए भी वैक्सीनेशन शुरू किया।

नॉमिनेशन का कारण: प्रियाली सुर जो 8 महीने की गर्भवती थीं, उन्होंने एक कैंपेन शुरू किया। उस ऑनलाइन पेटिशन पर 70000 लोगों ने साइन किया जिसकी वजह से 25 जून 2021 से गर्भवती महिलाओं के लिए वैक्सीनेशन शुरू किया गया।

priyali sur

गर्भवती होना महिलाओं के लिए एक कठिन और यादगार अनुभव वाला समय होता है। इस समय में उन्हें उल्टियां आना, सुबह सुबह बीमार महसूस करना जैसे लक्षण हर समय महसूस होते रहते हैं। जब भारत में कोविड की दूसरी लहर आई तो हेल्थ केयर सिस्टम के डगमगाने के कारण बहुत सारे प्री-नेटल केयर सेंटर्स को भी कोविड सेंटर में तब्दील कर दिया। जिस वजह से कई गाइनेकोलॉजिस्ट्स को लॉबी और कॉरिडोर में बैठ कर मरीजों और गर्भवती महिलाओं को देखना पड़ा। इस समय गर्भवती महिलाओं को संक्रमित होने का काफी रिस्क बढ़ गया और सबसे भयंकर और दुर्भाग्यशाली बात तो यह थी कि भारत में गर्भवती महिलाओं की वैक्सीन की टेस्टिंग जारी थी लेकिन वैक्सीन लगना शुरू नहीं हुई थी।

इसे भी पढ़ें- Healthcare Heroes Awards 2022: मुकेश हिसारिया ने 300 से ज्यादा कोविड से मृत लोगों का कराया अंतिम संस्कार

महामारी के दौरान गर्भवती महिलाओं की परेशानी

अगर गर्भवती महिलाओं को कोविड हो जाता तो उनके बच्चे का समय से पहले जन्म होना और बहुत सारी अन्य प्रेग्नेंसी के दौरान आने वाली दिक्कतों का भी सामना करना पड़ सकता था। प्रियाली सुर जो कि एक मल्टी मीडिया और ब्रॉडकास्टिंग जर्नलिस्ट हैं और कई नैशनल अवार्ड्स की विजेता रह चुकी हैं, साथ ही रिफ्यूजी और महिला के अधिकारों की एक मुखर आवाज हैं- जब स्वयं कोविड पॉजिटिव हुईं तो साउथ इंडिया के गांव में समय बिता रही थीं। अस्पतालों ने इन्हें एडमिट करने से मना कर दिया जबकि उस समय उनकी प्रेगनेंसी की पहली तिमाही चल रही थी। इन्हें अपने बच्चे और खुद की काफी चिंता थी। अच्छी बात यह हुई कि इनका बुखार एक दिन में ही उतर गया और इनका ऑक्सीजन लेवल भी ठीक हो गया। लेकिन अस्पतालों के इस व्यवहार ने प्रियाली को दूसरी गर्भवती महिलाओं के बारे में सोचने पर मजबूर किया।

priyali sur petition

ऐसे हुई कैंपेन की शुरुआत

प्रियाली ने अपने जैसी ही बहुत सी गर्भवती महिलाओं के बारे में पता किया, जिनको अस्पतालों में एडमिट नहीं किया गया था। जबकि सरकारी गाइडलाइंस में भी यह शामिल था कि कोविड पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं को बिना देर किए उपचार देना शुरू करना चाहिए। गुस्से और निराशा से भरी प्रियाली ने ऐसी महिलाओं के लिए एक पिटीशन शुरू की। इस पेटिशन में इन्होंने सरकार से गर्भवती महिलाओं के लिए वैक्सीन ओपन करवाने की दरख्वास्त की। जबकि यह खुद 8 महीने की गर्भवती थीं। 70 हजार से अधिक लोगों ने इस पिटीशन पर साइन किया। बहुत सी महिलाओं ने इनको अपना सपोर्ट देने के लिए प्राइवेट मैसेज भी किए। इस पिटीशन का नतीजा धीरे-धीरे ही सही, मगर दिखना शुरू हो गया। इसलिए प्रियाली ने दिल्ली हाई कोर्ट में यह पिटीशन लिखित में जमा करवाई। इस केस के लिए इन्होंने अपने गर्भकाल में ही वकालत भी की। इन्होंने अदालत का दरवाजा खटखटाया।

इसे भी पढ़ें- Healthcare Heroes Awards 2022: दिल्ली के एम्बुलेंस कपल जिन्होंने हजारों लोगों को फ्री में दी अपनी सेवाएं

campaign for pregnant women

कैंपेन का सपोर्ट

बहुत सी गर्भवती महिलाओं का और सामान्य जनता का भी प्रियाली को भारी संख्या में सपोर्ट मिला। पॉलिटिकल लीडर्स और कुछ एमपी जैसे प्रियंका चतुर्वेदी और राम मोहन नायडू, कुछ बॉलीवुड अभिनेता और अभिनेत्री के साथ ही न्यूज एजेंसी भी इनके सपोर्ट में आगे आईं। उनके कैंपेन के एक महीने बाद सरकार ने भारत में गर्भवती महिलाओं के लिए वैक्सीनेशन शुरू कर दी। इस समय भारत में 25 मिलियन गर्भवती महिलाएं थी। यह इन सब महिलाओं की ही जीत थी। प्रियाली को अपनी पहली वैक्सीन पहली जुलाई 2021 को लगवाई। अब वह एक लेक्टेटिंग मां हैं।

अगर इनके इस काम ने आपको थोड़ा सा भी प्रेरित किया है तो इनके इस हौसले को और अधिक बुलंद करने के लिए और इन्हें आगे बढ़ाने के लिए इन्हें वोट कर सकते हैं। ताकि भविष्य में भी ऐसे ही महिलाएं अपने हक और सुरक्षा के लिए खड़ी हो सकें और वह जीत सकें।

 

Disclaimer