खाना खाने के तुरंत बाद करें वज्रासन और लेटें बाएं करवट, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे

बाएं तरफ करवट लेकर सोने से कई बीमारियों का खतरा कम रहता है, खाना आसानी से पचता है। आयुर्वेदाचार्य से इसके फायदों के बारे में जानने के लिए पढ़ें।

Satish Singh
Written by: Satish SinghPublished at: Sep 14, 2021Updated at: Sep 14, 2021
खाना खाने के तुरंत बाद करें वज्रासन और लेटें बाएं करवट, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे

भोजन का सेवन करना एकमात्र ऐसा काम है जो शिशु से लेकर बुजुर्ग करता है। यह हमारे रोजमर्रा के रूटीन का हिस्सा है। लेकिन भोजन करने के बाद उसे पचाना भी उतना ही ज्यादा अहम है। ताकि बीमारियों से बचाव किया जा सके। क्योंकि यदि खाना सही से नहीं पचेगा तो मोटापा सहित कई प्रकार की बीमारियों का खतरा बना रहता है। तो आइए इस आर्टिकल में हम जमशेदपुर की आयुर्वेदाचार्या डॉ. एन गुप्ता से बात कर जानेंगे कि खाना खाने के बाद आखिरकार ऐसा क्या करें जिससे बीमारियों से निजात मिल सके। वहीं उन तरीकों को करने से होने वाले फायदों के बारे में विस्तृत रूप से जानेंगे। वहीं उने अपनी दिनचर्या में अपनाकर स्वस्थ रहेंगे। 

भोजन पचाने के लिए क्या करें

आयुर्वेदाचार्या के अनुसार खाना खाने के बाद उसे पचाना उतना ही अहम होता है। क्योंकि जबतक खाना पचेगा नहीं तबतक आपको कई प्रकार की बीमारी होने की संभावना बनी रहती है। ऐसे में भोजन को पचाना बेहद जरूरी होता है। 

Vajrasana

भोजन करने के बाद वज्रासन में बैठें

हर कोई व्यक्ति जो शारिरिक रूप से सक्षम है उसे भोजन करने के बाद वज्रासन में बैठना चाहिए। एक्सपर्ट बताते हैं कि इस आसन में बैठने से खाना आसानी से पचता है। कोशिश करें कि कम से कम पांच मिनटों तक इस आसन में बैठें। फिर चाहें तो विश्राम मुद्रा में आ सकते हैं। वज्रासन करने से सबसे अधिक उन लोगों को फायदा होता है जिन्हें गैस की समस्या होती है। 

इस आसन को करने से खाना पचता है, जानें इसे कैसे करें;

  • इस आसन को करने के लिए जमीन पर बैठ जाएं
  • दोनों घुटनों को मोड़ते हुए उसपर बैठें
  • ऐसा करने से पैर व जांघ की मांसपेशियों में खिंचाव उत्पन्न होगा
  • कम से कम पांच मिनटों तक इस मुद्रा में रहे
  • फिर विश्राम मुद्रा में आ जाएं

भोजन करने के तुरंत बाद न पीएं पानी

आयुर्वेदाचार्या बताते हैं कि भोजन के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए। भोजन करते वक्त भी पानी का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके लिए भोजन को धीरे-धीरे व चबा-चबाकर खाना उचित होता है। 

रात के साथ दिन में भी बाएं करवट लेकर लेटे

आयुर्वेदाचार्या बताते हैं कि भोजन करने के बाद बाएं करवट लेना काफी जरूरी होता है। रात में सोते वक्त बाएं करवट लेना चाहिए वहीं कोशिश यही होनी चाहिए कि दिन में भी कम से कम एक बार बाएं करवट लेकर लेटे। 

जानें ऐसे लें बाएं करवट

  • बाएं करवट लेकर लेट जाएं
  • >दोनों पैरों को हल्का बेंड कर एक के ऊपर एक रख लें
  • दाहिने हाथ को कमर के बगल में रखें
  • >बाएं हाथ को तकिए के समान बनाकर रखें
  • इस दौरान श्वांस को सामान्य गति से लेते हैं
  • ध्यान रहे कि दाहिने नाक से सामान्य रूप से आप श्वांस ले रहे हो
  • पांच से दस मिनट तक करने के बाद सामान्य मुद्रा में आ जाएं

क्यों बाएं करवट लेकर लेटना है जरूरी

एक्सपर्ट बताते हैं कि बाएं करवट लेकर लेटना हमारे सेहत के लिए काफी जरूरी होता है। हमारे पेट में आमाश्य होता है। भोजन के बाद सारा का सारा भोजन हमारे आमाश्य में जाता है। वहीं पेट (आहार नाल) के दाहिने ओर ग्रसनी होती है (ये छोटी आंत में भोजन लेकर जाती है), पित्ताशन व लीवर होता है। जैसे ही हम भोजन करते हैं उसके ऊपर हाईड्रोक्लोरिक एसिड भोजन पर गिरता है। ये एसिड भोजन पर गिरने से खाना पचने लगता है। जैसे ही हम बाएं करवट में लेटेंगे तो ये हाईड्रोक्लोरिक एसिड पूरा मात्रा में भोजन पर गिरेगा और खाना आसानी से पचेगा। यदि शरीर किसी अन्य पुजिशन में होगा तो खाना आसानी से न पचे, लेकिन इस पुजिशन में खाना आसानी से पच जाएगा।

इसे भी पढ़ें : रोज भस्त्रिका प्राणायाम करने से आपको मिलेंगे ये 12 फायदे, योग गुरु से जानें फेफड़ों को कैसे बनाता है मजबूत

इस एसिड को कहते हैं जठराग्नि

एक्सपर्ट बताते हैं कि आयुर्वेद में इस एसिड को जठराग्नि कहा जाता है। ये अग्नि और ज्यादा तेज उसके लिए प्रयास किया जाता है। इसके लिए जैसे ही हम बाएं करवट में लेटे हमारा दाया स्वर (यानि दाए नाक से सांस ले पाएंगे) चलने लगेगा। दाएं स्वर को सूर्य स्वर की संज्ञा दी गई है। ऐसे में जैसे-जैसे ये स्वर काम करेगा ठीक वैसे-वैसे शरीर में ऊर्जा बढ़ेगी। खाना आसानी से पचेगा।  

Sleeping Left Side

लंबे समय तक इस क्रिया को करें

आयुर्वेदाचार्या बताते हैं कि ये कोई एक दिन की क्रिया नहीं है कि आपने इसे किया और असर आपको तुरंत दिखने लगेगा। इसका फायदा हासिल करने के लिए इस प्रक्रिया को रूटीन में शामिल करने की आवश्यकता है। इसके लिए आप चाहें तो आयुर्वेदाचार्या की सलाह ले सकते हैं वहीं उनके बताए अनुसार इस क्रिया को कर फायदा हासिल कर सकते हैं। यदि आप इसे नियमित करेंगे तो ये फायदे होंगे

  1. शरीर की ताकत बढ़ेगी
  2. भोजन से निकला पोषक तत्व सातों धातुओं में जाएगा
  3. भोजन पचने की शक्ति में सुधार होगा
  4. कई प्रकार की बीमारी से बचाव होगा

यदि आप ऑफिस करते हैं तो ब्रेक में आप ऐसा कर सकते हैं

>कई लोग हैं जो दिन के समय में ऑफिस में रहते हैं, वहीं कई कंपनियां अपने कर्मियों को दिन के समय खाना खाने के बाद थोड़ा रिलेक्स करने का समय देती है। ऐसे में जब भी आपको समय मिले तो आप इस प्रक्रिया को अपनाकर लाभ उठा सकते हैं। 

बायां करवट लेकर लेटना क्यों है जरूरी

आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि बाएं ओर करवट लेकर लेटने से कई प्रकार की दिक्कतों से निजात मिलता है। यदि आप यह नहीं करते हैं तो आपकी बीमारी और ज्यादा बढ़ते ही जाएगी। यदि भोजन शरीर में अच्छी तरह से नहीं पचेगा तो इससे शरीर को काफी नुकसान पहुंचेगा, क्योंकि भोजन सड़ते जाएगा, जिससे गैस बनेगी, यही गैस माथे में चढ़ेगा, शरीर में जगह-जगह दर्द होगा, घुटनों व जोड़ों में दर्द होगा। वहीं शरीर में जो पहले से बीमारियां हैं उसे ये कहीं ज्यादा और बढ़ाएगा। 

इसे भी पढ़ें : योग करने के पहले जान लें ये 13 जरूरी बातें, नहीं तो फायदे की जगह सेहत को हो सकते हैं कई नुकसान

जमीन पर बैठकर भोजन करना है सबसे ज्यादा लाभकारी

वहीं मौजूदा समय में लोग कई तरह से भोजन करते हैं। कई लोग जमीन पर बैठकर तो कई बेड पर बैठकर, डाइनिंग टेबल पर बैठकर भोजन करते हैं। एक्सपर्ट बताते हैं कि भोजन करने का सबसे सही तरीका जमीन पर बैठकर खाना है। इसके लिए सामने चौकी या पीढ़ा रखकर उसपर भोजन रखकर खाना बेहतर होता है। ऐसा करने से काफी हेल्थ बेनिफिट्स मिलते हैं। आपकी कोशिश यही होनी चाहिए कि भोजन करते वक्त रीढ़ की हड्डी सीधी हो। आप चाहें तो डाइनिंग टेबल पर भी बैठकर भोजन कर सकते हैं। 

लाभ पाने के लिए आप चाहें तो एक्सपर्ट की ले सकते हैं सलाह

>भोजन करने के तुरंत बाद आप स्वास्थ्य लाभ पाने के लिए इसे कर सकते हैं। इस आयुर्वेदिक तरीके को आजमाकर फायदा ही होगा। इसे और बेहतर कैसे किया जाए इसको लेकर ज्यादा जानकारी हासिल करने के लिए आप चाहें तो एक्सपर्ट की सलाह ले सकते हैं। इसके लिए आप चाहें तो योगाचार्य, आयुर्वेदाचार्य जैसे एक्सपर्ट की सलाह ले सकते हैं। 

Read More Articles On Yoga

Disclaimer